• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

इन 52 चाइनीज ऐप का नहीं करें इस्तेमाल, खुफिया एजेंसी बोलीं डेटा चुरा रहा है चीन

|

नई दिल्ली। लद्दाख के गलवान घाटी में खूनी झड़प के बाद भारत ने चीन को अब हर मोर्चे पर घेरने की तैयारी शुरू कर दी है। दोनों देशों के बीच जारी विवाद के दौरान भारतीय खुफिया एजेंसियों ने सरकार से टिकटॉक और बीगो लाइव समेत 52 चाइनीज मोबाइल ऐप्स को ब्लॉक करने और लोगों से इन्हें इस्तेमाल ना करने के लिए कहा है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि, इनका इस्तेमाल करना सुरक्षित नहीं है। ये ऐप बड़े पैमाने पर डेटा को भारत से बाहर भेज रहे हैं।

सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है चीनी ऐप

सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है चीनी ऐप

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केंद्र सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि इंटेलिजेंस एजेंसियों की ओर से दिया गए प्रस्ताव का नेशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल सेक्रेटिएट ने भी समर्थन किया है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि, ये ऐप भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बन सकते हैं। उन्होंने बताया कि, इस प्रस्ताव पर चर्चा चल रही है। रिपोर्टस में कहा गया है कि, सभी चाइनीज मोबाइल ऐप के मानक और उससे जुड़े जोखिम की जांच की जाएगी।

    China को अब रुलाएगा India, Telecom के बाद Railway Project में दिया बड़ा झटका | वनइंडिया हिंदी
    जूम ऐप पर पहले भी उठ चुके हैं सवाल

    जूम ऐप पर पहले भी उठ चुके हैं सवाल

    हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, सुरक्षा एजेंसियों ने सरकार को जो लिस्ट भेजी है उसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप जूम, टिकटॉक, यूसी ब्राउजर, एक्सएंडर, शेयर इट और क्लीन मास्टर जैसे ऐप शामिल हैं। साथ ही शॉपिंग ऐप Shein और क्लब फैक्ट्री को भी ब्लॉक करने की सलाह दी गई है। बता दें कि इसी साल अप्रैल में गृह मंत्रालय ने जूम की प्राइवेसी को लेकर आगाह किया था। इससे पहले ताइवान ने भी सरकारी एजेंसियों को जूम ऐप के इस्तेमाल से रोक दिया। जर्मनी और अमेरिका भी ऐसा ही कर चुके हैं।

    ऐप्स के जरिए साइबर अटैक की फिराक में चीन

    ऐप्स के जरिए साइबर अटैक की फिराक में चीन

    राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि, चाइनीज डिवेलपर्स की ओर से तैयार या चाइनीज लिंक्स वाले ऐप भले ही वह एंड्रॉयड के लिए हों या आईओस के लिए, इनका इस्तेमाल स्पाइवेयर या अन्य नुकसान पहुंचाने वाले वेयर के रूप में हो सकता है। भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसियों ने शक जताया है कि चीन भारत पर साइबर हमले करा रहा है। इसके अलावा वह देश के बैंकिंग सिस्टम और पेमेंट सर्विस को निशाना बनाने की फिराक में है। इंटेलीजेंस को शक है कि चीन बैंकिंग सिस्टम्स और एटीएम सेवाओं को वर्बाद करने की कोशिश कर रहा है।

    देखें खतरनाक 52 चाइनीज ऐप की लिस्ट

    देखें खतरनाक 52 चाइनीज ऐप की लिस्ट

    चीन से जुड़े हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को लेकर पश्चिमी देशों की सुरक्षा एजेंसियां भी इसी तरह की चिंता जता चुकी हैं। अब इंटेलीजेंस एजेसिंयों ने उन चाइनीज ऐप्स की लिस्ट जारी की है जो भारत पर साइबर अटैक के लिए चीन इस्तेमानल कर सकता है। ये सभी 52 ऐप गूगल प्ले स्टोर और एप्पल के iOS ऐप स्टोर पर मौजूद हैं।

    • TikTok, Vault-Hide, Vigo Video, Bigo Live, Weibo
    • WeChat, SHAREit, UC News, UC Browser
    • BeautyPlus, Xender, ClubFactory, Helo, LIKE
    • Kwai, ROMWE, SHEIN, NewsDog, Photo Wonder
    • APUS Browser, VivaVideo- QU Video Inc
    • Perfect Corp, CM Browser, Virus Cleaner (Hi Security Lab)
    • Mi Community, DU recorder, YouCam Makeup
    • Mi Store, 360 Security, DU Battery Saver, DU Browser
    • DU Cleaner, DU Privacy, Clean Master - Cheetah
    • CacheClear DU apps studio, Baidu Translate, Baidu Map
    • Wonder Camera, ES File Explorer, QQ International
    • QQ Launcher, QQ Security Centre, QQ Player, QQ Music
    • QQ Mail, QQ NewsFeed, WeSync, SelfieCity, Clash of Kings
    • Mail Master, Mi Video call-Xiaomi, Parallel Space

    लद्दाख पर PM से सवाल करना गैरजिम्मेदाराना, चीन राहुल के बयान को भारत के खिलाफ इस्तेमाल कर सकता है: BJP

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    indian intelligence agencies asks govt to block or stop use of 52 mobile app linked to China
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X