• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: 'ये दिल मांगे मोर' लौट आया कारगिल की जंग का शेरशाह, कैप्‍टन विक्रम बत्रा

|

नई दिल्‍ली। भारत देश को वीरों की धरती ऐसे ही नहीं कहा जाता है यहां पर कई ऐसे नायक हुए हैं जिन्‍होंने अपनी जिंदगी मातृभूमि के नाम कर दी। इन तमाम हीरो में से ही एक थे करगिल शहीद कैप्‍टन विक्रम बत्रा। इंडियन आर्मी ने सात जुलाई को अपने इस 'शेरशाह' को एक ऐसे वीडियो की मदद से श्रद्धांजलि दी है जिसे देखने के बाद आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। कारगिल वॉर को 21 साल पूरे होने को हैं और इस मौके पर सेना उन तमाम बहादुरों को याद कर रही है जिन्‍होंने पाकिस्‍तान को जवाब देते हुए अपने प्राण न्‍यौछावर कर दिए थे।

यह भी पढ़ें-चीन बॉर्डर से बस 120 किलोमीटर पर IAF का एयरक्राफ्ट

    Kargil War के Hero Captain Vikram Batra की एक अधूरी प्रेम कहानी | वनइंडिया हिंदी
    प्‍वॉइन्‍ट 4875 को कराया आजाद

    प्‍वॉइन्‍ट 4875 को कराया आजाद

    कैप्‍टन बत्रा जिन्‍हें शेरशाह के नाम से भी जानते हैं, उन्‍होंने आज ही के दिन कारगिल में प्‍वॉइन्‍ट 4875 को पाकिस्‍तान के क‍ब्‍जे से आजाद कराया था। जो वीडियो नॉर्दन आर्मी कमांड ने रिलीज किया है उसमें कैप्‍टन बत्रा के भाई और पिता के अलावा बॉलीवुड के भी कुछ लोग नजर आ रहे हैं और इसका टाइटल है, 'आय एम, कैप्‍टन बत्रा।' 20 जून को प्‍वाइंट 5140 को जीतने के बाद कैप्‍टन बत्रा ने अपने कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) को मैसेज किया। उन्‍होंने कहा, 'चाणक्‍य... शेरशाह रिपोर्टिंग। हमनें पोस्‍ट पर कब्‍जा कर लिया है। ये दिल मांगे मोर।' कैप्‍टन बत्रा के कमांडिंग ऑफिसर कोई और नहीं वर्तमान समय में नॉर्दन आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ही थे। उस समय लोग उन्‍हें 'जो' के नाम से बुलाते थे। उनकी कही हुई लाइन, 'ये दिल मांगे मोर' के साथ ही नॉर्दन आर्मी कमांड का यह वीडियो जोश से भर देने वाला है। 13 जम्‍मू कश्‍मीर राइफल (जैकरिफ) के ऑफिसर कैप्‍टन बत्रा की उम्र बस 25 साल थी जब वह देश के लिए शहीद हो गए थे।

    कैसे मिला कोडनेम शेरशाह

    जिस समय कारगिल वॉर चल रहा था कैप्‍टन बत्रा दुश्‍मनों के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गए थे। ऐसे में पाकिस्‍तान की ओर से उनके लिए एक कोडनेम रखा गया और यह कोडनेम कुछ और नहीं बल्कि उनका निकनेम शेरशाह था। इस बात की जानकार खुद कैप्‍टन बत्रा ने युद्ध के दौरान ही दिए गए एक इंटरव्‍यू में दी थी। कैप्‍टन विक्रम बत्रा का जन्‍म नौ सितंबर 1974 को हिमाचल प्रदेश के पालमपुर जिले के घुग्‍गर में हुआ था। उनके पिता का नाम जीएम बत्रा और माता का नाम कमल बत्रा है। शुरुआती शिक्षा पालमपुर में हासिल करने के बाद कॉलेज की पढ़ाई के लिए वह चंडीगढ़ चले गए थे।

    ये दिल मांगे मोर की कहानी

    ये दिल मांगे मोर की कहानी

    20 जून 1999 को कैप्‍टन बत्रा ने कारगिल की प्‍वाइंट 5140 से दुश्‍मनों को खदेड़ने के लिए अभियान छेड़ा और कई घंटों की गोलीबारी के बाद आखिरकार वह अपने मिशन में कामयाब हो गए। इस जीत के बाद जब उनकी प्रतिक्रिया ली गई तो उन्‍होंने जवाब दिया, 'ये दिल मांगे मोर,' बस यहीं से इन लाइनों को पहचान मिल गई। एक कोल्‍ड ड्रिंक कंपनी की लाइनों 'ये दिल मांगे मोर' को कारगिल में एक अलग पहचान देने वाले थे जम्‍मू कश्‍मीर राइफल्‍स के ऑफिसर कैप्‍टन विक्रम बत्रा। रिटायर्ड कैप्‍टन नवीन नगाप्‍पा को आज तक याद है कि कैसे अपनी जान की परवाह न करते हुए कैप्‍टन बत्रा ने उन्‍हें घायल हालत में बंकर से बाहर निकाला था। जिस समय वह नगाप्‍पा को बाहर ला रहे थे, दुश्‍मन की गोली उन्‍हें लग गई और इसी पल वह शहीद हो गए। उनकी शहादत के बाद कारगिल की जंग में 'ये दिल मांगे मोर,' दुश्‍मनों के लिए आफत बन गईं और हर तरफ बस इसका ही शोर सुनाई देने लगा।

    पालमपुर के गांव में जन्‍मा एक योद्धा

    पालमपुर के गांव में जन्‍मा एक योद्धा

    शहीद बत्रा की मां जय कमल बत्रा एक प्राइमरी स्‍कूल में टीचर थीं और ऐसे में कैप्‍टन बत्रा की प्राइमरी शिक्षा घर पर ही हुई थी।परमवीर चक्र विजेता कैप्‍टन बत्रा चंडीगढ़ से अपनी पढ़ाई पूरी करने वाले कैप्‍टन बत्रा ने इंडियन मिलिट्री एकेडमी में दाखिला लिया। यहां से एक लेफ्टिनेंट के तौर पर वह भारतीय सेना के कमीशंड ऑफिसर बने और फिर कारगिल युद्ध में 13 जम्‍मू एवं कश्‍मीर राइफल्‍स का नेतृत्‍व किया। कारगिल वॉर में उनके कभी न भूलने वाले योगदान के लिए उन्‍हें मरणोपरांत सर्वोच्‍च सम्‍मान परमवीर चक्र से अगस्‍त 1999 को सम्‍मानित किया गया।

    रणनीति का योद्धा

    रणनीति का योद्धा

    कारगिल वॉर में 13 जेएके राइफल्‍स के ऑफिसर कैप्‍टन विक्रम बत्रा के साथियों की मानें तो वह युद्ध के मैदान में रणनीति का एक ऐसा योद्धा था जो अपने दुश्‍मनों को अपनी चाल से मात दे सकता था। कैप्‍टन बत्रा की अगुवाई में उनकी डेल्‍टा कंपनी ने कारगिल वॉर के समय प्‍वाइंट 5140, प्‍वाइंट 4750 और प्‍वाइंट 4875 को दुश्‍मन के कब्‍जे से छुड़ाने में अहम भूमिका अदा की थी। सात जुलाई 1999 को प्‍वाइंट 4875 पर मौजूद दुश्‍मनों को कैप्‍टन बत्रा ने मार गिराया लेकिन इसके साथ ही तड़के भारतीय सेना का यह जाबांज सिपाही को शहादत हासिल हो गई। 'जय माता दी' कैप्‍टन बत्रा के आखिरी शब्‍द थे।

    'हमें माधुरी दीक्षित चाहिए'

    'हमें माधुरी दीक्षित चाहिए'

    जिस समय पाकिस्‍तान की तरफ से लगातार गोलीबारी हो रही थी, उसी समय पाकिस्‍तानी सैनिकों ने कैप्‍टन बत्रा पर ताना कसा और कहा, 'हमें माधुरी दीक्षित दे दो तो हम यह प्‍वॉइन्‍ट छोड़ देंगे।' इसके बाद कैप्‍टन बत्रा ने उन पर यह कहते हुए फायर किया 'विद लव फ्रॉम माधुरी।' कैप्‍टन बत्रा आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनकी बहादुरी ने उन्‍हें अभी तक लोगों के दिलों में जिंदा रखा है। साल 2006 में रिलीज फिल्‍म 'एलओसी-कारगिल' में अभिषेक बच्‍चन कैप्‍टन बत्रा के रोल में नजर आए थे।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Indian Army pays tribute to Kargil Martyer Captain Vikram Batra with a thrilling video.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more