• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सीमा विवाद के बीच भारत को अमेरिका और इजरायल से मिलने वाले हैं हाईटेक ड्रोन, लद्दाख में होगी तैनाती

|

नई दिल्ली: लद्दाख में चीन के साथ भारत का सीमा विवाद पिछले छह महीने से जारी है। इस बीच कई बार चीनी सेना ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की, जिसे हमारे जवानों ने नाकाम कर दिया। अब भारत उन्नत तकनीकी के जरिए सीमा की निगरानी करेगा। जिसके लिए इजरायल और अमेरिका से खास ड्रोन मंगवाने की प्रक्रिया चल रही है।

अंतिम चरण में है सौदा

अंतिम चरण में है सौदा

न्यूज एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि हेरॉन निगरानी ड्रोन का सौदा अंतिम चरण में है। उम्मीद है कि दिसंबर में इसको पूरा कर लिया जाएगा। इन हेरॉन्स ड्रोन को लद्दाख से लगती चीन सीमा पर तैनात किया जाएगा। ये ड्रोन भारतीय सशस्त्र बलों के पास मौजूद ड्रोन के बेड़े से ज्यादा उन्नत हैं। इस खरीद प्रक्रिया को उन आपातकालीन वित्तीय शक्तियों के तहत किया जा रहा है, जो मोदी सरकार ने रक्षा बलों को दी हैं। इस शक्तियों के तहत तीनों सेनाएं 500 करोड़ रुपये तक के उपकरण और सिस्टम खरीद सकती हैं।

अमेरिका से आ रहे छोटे ड्रोन

अमेरिका से आ रहे छोटे ड्रोन

सूत्रों के मुताबिक अन्य छोटे ड्रोन को अमेरिका से खरीदा जा रहा है, जो बटालियन के स्तर पर भारतीय सेना को प्रदान किए जाएंगे। हाथ से संचालित इन ड्रोन्स का उपयोग किसी स्थान के बारे में जानकारी प्राप्त करने में किया जा सकता है। पिछली बार जब पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों के खिलाफ एयर स्ट्राइक हुई थी, तो भी इसी तरह की सुविधा दी गई थी। इसके अलावा हाल ही में भारतीय वायुसेना ने हैमर एयर टू ग्राउंड स्टैंडऑफ मिसाइल हासिल करने के लिए इन्हीं वित्तीय शक्तियों का उपयोग किया था।

लीज पर आए दो हाईटेक ड्रोन

लीज पर आए दो हाईटेक ड्रोन

वहीं दूसरी ओर भारतीय नौसेना अमेरिका से दो ड्रोन लीज पर लिए हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि ड्रोन नवंबर के दूसरे हफ्ते में भारत पहुंच गया था। इसके साथ ही 21 नवंबर को उसने आईएनएस राजली में भारतीय नौसेना के बेस से उड़ान भी भरी। ये ड्रोन 30 घंटे से ज्यादा वक्त तक हवा में रह सकता है। एक अमेरिकी चालक दल भी ड्रोन के साथ भारत आया है, जो भारतीय नौसेना को इससे जुड़ी ट्रेनिंग देगा। हालांकि सूत्रों ने ये भी साफ किया कि इस ड्रोन का कंट्रोल और डेटा नौसेना के पास रहेगा। अमेरिकी टीम सिर्फ रख-रखाव की जिम्मेदारी संभालेगी।

16,000 फीट पर हुआ DRDO के Made in India ड्रोन रूस्‍तम-2 का टेस्‍ट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
India to get high-tech drone from America and Israel
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X