• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

आतंकी घटनाओं के पीड़ितों को भी न्याय पाने का अधिकार है: विदेश सचिव

|

नई दिल्ली। आतंकवाद के चलते देश में जो लोग अपनी जान गंवाते हैं, उनके परिजनों को इस दर्द और क्षति से उबर पाना काफी मुश्किल होता है। किसी अपने करीबी को आतंकी घटना में गंवा देने का दर्द बयां नहीं किया जा सकता है। आतंकी घटनाओं में जा गंवाने वालों के दर्द को साझा करते हुए विदेश मंत्रालय (ईस्ट) की सचिव विजय ठाकुर सिंह ने इन इन लोगों के दुख को कम करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि आतंकी घटनाओं में जान गंवाने वाले या फिर आतंकी घटनाओं से पीड़ित लोगों की मदद करते समय हमे यह कतई नहीं भूलना चाहिए उन्हें भी इस अन्याय के खिलाफ न्याय हासिल करने का अधिकार है। विजय ठाकुर ने यह बयान आतंक से पीड़ित देशों के मंत्रियों की बैठक के दौरान दिया है।

mea

विदेश सचिव ने कहा कि 2008 के मुंबई हमलों के पीड़िता हों या 2016 में पठानकोट आतंकी हमलों के पीड़ित उन्हें अब भी न्याया का एक अदद इंतजार है। इन लोगों को न्याय इसलिए नहीं मिल पाता है क्योंकि कुछ देश इन मामलों में सहयोग नहीं करते हैं और इसे लेकर किसी भी तरह की रूचि जाहिर नहीं करते हैं। यह बेहद आवश्यक है कि हम इन लोगों को न्याय दिलाने के लिए अपने अंतरराष्ट्रीय प्रयासों में जो खामी है उसे दूर करें ताकि आतंकी घटनाओं के अपराधियो को उनके किए की सजा दिलाई जा सके।

विश्व पर कोरोना का कहर: 10 महीने में 1 मिलियन लोगों की मौत, 3 करोड़ से अधिक 'नए गरीब'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
India says we should not forget victims of terrorism also have their right to get justice.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X