• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

G-7 सम्मेलन से पहले भारत ने किया वैक्सीन पासपोर्ट का विरोध, कहा- भेदभावपूर्ण हो सकता है यह फैसला

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 5 जून। भारत ने जी-7 समिट से पहले यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की वैक्सीन पासपोर्ट की वाकलत पर आपत्ति जाहिर की है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने शुक्रवार को हुए जी-7 प्लस मंत्रिस्तरीय सत्र में इस मामले को उठाया। उन्होंने कहा कि महामारी के इस मोड़ पर वैक्सीन पासपोर्ट को अनिवार्य करना सही नहीं है। उन्होंने वैक्सीन पासपोर्ट के फैसले को भेदभाव युक्त बताया।

Harsh Vardhan

विकासशील देशों में टीकाकरण का प्रतिशत काफी कम
उन्होंने कहा कि विकसित देशों के मुकाबले विकासशील देशों में अभी लोगों के टीकाकरण का प्रतिशत काफी कम है। इस स्थिति में ऐसी कोई भी पहल भेदभावपूर्ण हो सकती है।

जॉनसन ने की वैक्सीन पासपोर्ट की वकालत
मालूम हो कि इस हफ्ते की शुरुआत में बोरिस जॉनसन ने संकेत दिए थे कि जी-7 सम्मेलन के दौरान वैक्सीन पासपोर्ट को लेकर सहमति बनाने की कोशिश की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल के BJP विधायक नरेंद्र बरागटा का निधन, कोरोना निगेटिव पाए जाने के बाद बिगड़ी थी तबीयत

डॉक्टर हर्षवर्धन ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि भेदभावपूर्ण ये पहल मंजूर नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन पासपोर्ट के लागू होने के बाद दुनिया के देश केवल टीकाकरण वाले यात्रियों को ही अनुमति दे सकते हैं, जबकि विकासशील देशों में विकसित देशों की तुलना में टीकाकरण काफी कम हुआ है। इसलिए वैक्सीन पासपोर्ट विकासशील देशों के लिए बहुत नुकसानदेह होगा।

क्यों जताई जा रही है वैक्सीन पासपोर्ट की जरूरत

महामारी के इस दौर में कई देशों ने कोरोना के डर से अपने देशों में बाहरी देशों से आने वाले यात्रियों की एंट्री पर पाबंदी लगा दी है। वहीं जिन देशों में एंट्री खुली हुई है वहां बाहर से आने वाले यात्रियों को लंबे समय के लिए क्वारंटीन रहना पड़ता है। जबकि वैक्सीन पासपोर्ट लागू होने के बाद यात्रियों को क्वारंटीन नहीं रहना होगा क्योंकि वैक्सीन पासपोर्ट इस बात का सबूत होगा कि व्यक्ति को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

UNWTO ने की वैक्सीन पासपोर्ट लागू करने की मांग
कोरोना के कारण टूरिज्म (पर्यटन) क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इसलिए यूनाइटेड नेशंस वर्ल्ड टूरिज्म ऑर्गनाइजेशन (UNWTO) ने दुनियाभर के देशों से वैक्सीन पासपोर्ट लागू करने की मांग की है। WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन) और WEF (वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम) जैसे संगठन वैक्सीन पासपोर्ट बनाने पर काम कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इस पासपोर्ट के लागू होन से टूरिज्म क्षेत्र फिर से पटरी पर आ सकेगा।

English summary
India opposed the vaccine passport before the G-7 conference, said- this decision may be discriminatory
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X