• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

India China:रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा चीन के साथ वार्ता सकारात्मक रही और...

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कुछ विपक्षी नेताओं ने भारत-चीन सीमा पर क्या हो रहा है, इस पर सरकार से स्पष्टीकरण मांगा था। राजनाथ सिंह ने कहा कि सीमा मुद्दों को हल करने पर नजदीकी संचार बनाए रखा है। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ये भी कहा कि छह जून को हुई बैठक के परिणाम बहुत सकारात्मक रहे हैं।

rajnath
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि चीन के साथ भारत की सैन्य और राजनयिक स्तर की वार्ता सकारात्मक रही है और आगे भी जारी रहेगी। वीडियो लिंक के माध्यम से भाजपा की महाराष्ट्र जन-सम्मान रैली को संबोधित करते हुए, मंत्री ने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि जहां तक ​​भारत-चीन सीमा पर स्थिति का संबंध है, भारत का गौरव प्रभावित नहीं हो। सिंह ने कहा कि "भारत और चीन के बीच सीमा विवाद लंबे समय से चल रहा है। हम इसे जल्द से जल्द हल करना चाहते हैं। चीन के साथ बातचीत सैन्य और राजनयिक स्तर पर होती है।

indochina

6 जून की वार्ता बहुत सकारात्मक थी और दोनों देशों ने जारी तनाव को सुलझाने के लिए वार्ता जारी रखने पर सहमति व्यक्त की है। उन्होंने कहा, "मैं लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि देश का नेतृत्व मजबूत हाथों में है और हम भारत के गौरव और स्वाभिमान के साथ कोई समझौता नहीं करेंगे।" रक्षा मंत्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कुछ विपक्षी नेताओं ने सरकार से स्पष्टीकरण मांगा था भारत-चीन सीमा पर क्या हो रहा हैं। रक्षा मंत्री ने कहा, "देश के रक्षा मंत्री के रूप में, मैं जो भी कहना चाहता हूं, उसे संसद के अंदर कहना चाहता हूं, मैं लोगों को गुमराह नहीं करूंगा।"

rajnathsingh
बता दें कि चीन ने लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल पर पिछले कुछ हफ्तों से आक्रामक रुख अपनाया हुआ था, इस मुद्दे पर कई बार बातचीत हुई थी लेकिन रिजल्ट सिफर ही रहा था। लेकिन 6 जून को शनिवार को भारत और चीन के कोर कमांडर्स के बीच मोल्‍डो में लंबी बैठक हुई , भारतीय दल का नेतृत्‍व 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया तो वहीं चीन की तरफ से मेजर जनरल लियू लिन बैठक में शामिल हुए, मीडिया सूत्रों के मुताबिक बैठक में भारत ने चीन से अप्रैल 2020 में जो स्थिति सीमा पर थी, उसको वापस बरकरार करने को कहा है।

sena
भारत ने चीन से गालवान घाटी के पास अपनी सेना को कम करने के लिए कहा और कहा कि सैनिकों को वापस बुलाए। चीन सीमा पर तैनात हथियारबंद और बख्तरबंद गाड़ियों को पीछे ले जाए। वहीं चीन की ओर से भारत को सड़क और दूसरे निर्माण कार्य रोकने को कहा गया है। भारत की ओर से चीन की आपत्ति को यह कहते हुए खारिज कर दिया गया कि उसका निर्माण एलएसी के अंदर है।
दरअसल एक महीने से इंडिया और चाइना के बीच लद्दाख में दोनों सेनाओं को लेकर तनातनी चल रही है, पैंगोंग लेक के फिंगर 4 और फिंगर 8 को लेकर है विवाद गहराया हुआ है, अप्रैल से पहले सेना फिंगर 8 तक पेट्रोलिंग करने जाती थी लेकिन अब चीनी सेना भारतीय सेना को फिंगर 4 से आगे बढ़ने नही दे रही है, चीनी सेना की आपत्ति है भारत बॉर्डर पर सड़क क्यों बना रहा है जबकि भारत का कहना है सड़क वाली जगह बॉर्डर से दूर और उसका इलाका है।

जानिए लद्दाख सीमा पर कैसे चीन ले आया हजारों सैनिक, सुरक्षा एजेंसियों ने किया खुलासाजानिए लद्दाख सीमा पर कैसे चीन ले आया हजारों सैनिक, सुरक्षा एजेंसियों ने किया खुलासा

English summary
India-China:Defense Minister Rajnath Singh said that talks with China were positive and will continue
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X