• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्‍तान कर रहा फरेब, उन्हें वापस लाने में नहीं छोड़ेगे कोई कसर: MEA

|

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को एक बयान जारी करते बताया के पाकिस्तान का दावा है कि कुलभूषण जाधव, जो पाकिस्तान की हिरासत में है, उसने सजा और सजा पर पुनर्विचार याचिका दायर करने से इनकार कर दिया। पाकिस्तान ने कहा कि जाधव ने अपनी लंबित दया याचिका के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया है। हालांकि पाकिस्‍तान के इस दावें को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्‍तान पिछले चार सालों से ऐसे ही फरेब कर रहा है और ये दावा भी पाकिस्‍तान का एक और झूठ हैं। विदेश मंत्रालय ने कहा कि कुलभूषण जाधव को फेकल ट्रायल के जरिए फांसी की सजा सुनाई गई है। वह पाकिस्तान की सेना के कब्जे में है। उनके मामले में समीक्षा दर्ज करने से इनकार करने के लिए पाकिस्‍तान में उन्हें स्पष्ट रूप से मजबूर किया गया है।

jhadhav

आपको बता दें कि भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अधिकारी कुलभूषण जाधव पाकिस्तान की जेल में बंद हैं। अप्रैल 2017 में पाकिस्तान सैन्य अदालत ने जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी। इसके बाद भारत ने जाधव तक कांसुलर या राजनयिक पहुंच से इनकार करने और मौत की सजा को चुनौती देने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) का दरवाजा खटखटाया था।

पाकिस्‍तान ने किया ये दावा

पाकिस्‍तान ने किया ये दावा

बता दें पाकिस्तान के अतिरिक्त अटॉर्नी जनरल अहमद इरफान ने बुधवार को दावा किया कि 17 जून, 2020 को भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को उनकी सजा और सजा पर पुनर्विचार के लिए एक याचिका दायर करने के लिए आमंत्रित किया गया था। उसने अपने कानूनी अधिकार का प्रयोग करते हुए कुलभूषण जाधव ने सजा और सजा पर पुनर्विचार याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है।

आसीजे के फैसले के सामने पाकिस्‍तान ने लगा रखा ये मुखौटा

आसीजे के फैसले के सामने पाकिस्‍तान ने लगा रखा ये मुखौटा

भारत ने अध्यादेश के तहत अपने उपायों पर चर्चा करने के लिए जाधव तक अप्रभावित पहुंच की मांग की है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम कुलभूषण जाधव के मामले में कूटनीतिक माध्यमों से आईसीजे के फैसले का पूर्ण और प्रभावी क्रियान्वयन कर रहे हैं। मामले में आज पाकिस्तान द्वारा दिया गया मीडिया बयान पत्र और भावना में ICJ के फैसले को लागू करने के लिए अपनी निरंतर मितव्ययिता का मुखौटा लगाना चाहता है।

विदेश मंत्रालयन ने कहा कि वापस लाने में नहीं छोड़ेगे कोई कसर

विदेश मंत्रालयन ने कहा कि वापस लाने में नहीं छोड़ेगे कोई कसर

मंत्रालय ने ये भी बताया कि हमारे बार-बार अनुरोध के बावजूद, पाकिस्तान भारत को कुलभूषण जाधव के लिए स्वतंत्र और अबाधित पहुंच से वंचित करना जारी रखा है। भारत ने बार-बार पाकिस्तान के बाहर के किसी वकील को किसी भी समीक्षा और पुनर्विचार कार्यवाही में जाधव के लिए उपस्थित होने की अनुमति देने के लिए कहा है। पाकिस्तान ने इससे इनकार किया है। MEA ने कहा कि आईसीजे पहले ही यह मान चुका है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघन कर चुका है। जाधव की सुरक्षा और भारत में उनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए सरकार पूरी कोशिश करेगी। उस अंत तक, यह सभी उपयुक्त विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

पाकिस्‍तान ने कुलभूषण को अपने अधिकारों को वापस लेने के लिए मजबूर किया है

पाकिस्‍तान ने कुलभूषण को अपने अधिकारों को वापस लेने के लिए मजबूर किया है

विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान ने 20 मई 2020 को उच्च न्यायालय द्वारा अपने सैन्य अदालत द्वारा दी गई सजा की समीक्षा करने के लिए एक अध्यादेश पारित किया है। उन्होंने सभी को बनाए रखा है कि उनके कानूनों ने प्रभावी समीक्षा और पुनर्विचार की अनुमति दी है जबकि हमने इसका विरोध किया है। अध्यादेश के तहत अपर्याप्त उपाय की छानबीन करने के प्रयास में, पाकिस्तान ने स्पष्ट रूप से कुलभूषण जाधव को आईसीजे के फैसले के कार्यान्वयन के लिए अपने अधिकारों को वापस लेने के लिए मजबूर किया है।

पाकिस्तान केवल उपाय का भ्रम पैदा करना चाहता है

पाकिस्तान केवल उपाय का भ्रम पैदा करना चाहता है

अब, लगभग एक वर्ष के बाद, उन्होंने एक यू-टर्न बना लिया है और किसी प्रकार की समीक्षा के लिए अस्थिरता से प्रदान करने के लिए एक अध्यादेश जारी किया है। हमने पहले ही अध्यादेश की सामग्री पर अपनी गंभीर चिंता व्यक्त की है और यह आईसीजे के फैसले का उल्लंघन कैसे करता है। पाकिस्तान केवल उपाय का भ्रम पैदा करना चाहता है। 2017 के बाद से, जब सैन्य अदालत ने एक मुकदमे की सुनवाई की, तो पाकिस्तान ने भारत को मामले में एफआईआर, सबूत, अदालत के आदेश आदि सहित किसी भी प्रासंगिक दस्तावेज को सौंपने से इनकार कर दिया। जाहिर है, पाकिस्तान आईसीजे के फैसले का अनुपालन करने का प्रयास कर रहा है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि कुलभूषण जाधव के मामले में समीक्षा दर्ज करने से इनकार करने के लिए उन्हें स्पष्ट रूप से मजबूर किया गया है। भारत ने अध्यादेश के तहत अपने उपायों पर चर्चा करने के लिए जाधव तक अप्रभावित पहुंच की मांग की

<strong>कुलभूषण जाधव का अपनी सजा के खिलाफ रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से इंकार, पाक का दूसरे काउंसलर एक्सेस का ऑफर</strong>कुलभूषण जाधव का अपनी सजा के खिलाफ रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से इंकार, पाक का दूसरे काउंसलर एक्सेस का ऑफर

English summary
In the case of Kulbhushan Jadhav, Pakistan is doing fraud, will leave no stone unturned to bring him back: MEA
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X