• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

18 महिलाओं की दर्दनाक तरह से हत्‍या करने वाला शातिर अपराधी गिरफ्तार

|

हैदराबाद: हैदराबाद पुलिस ने एक सीरियस किलन को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। वेंकटम्मा की हत्या करने के बाद इस आरोपी मैना रामुलु ने अपना चेहरा पहचान से बचाने के लिए पेट्रोल से जला दिया, जिसके बाद 20 दिन की गहन जांच के बाद सीरियल किलर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया। रामुलु, जो जेल की सजा काट रहा था, 2011 में एर्रागड्डा अस्पताल से भाग गया था।

    Wife ने छोड़ा तो बन गया 'Serial Killer', 18 महिलाओं को उतार दिया मौत के घाट और फिर | वनइंडिया हिंदी

    crime

    "उनका मोडस ऑपरेंडी ताड़ी की दुकानों पर जाने वाली महिलाओं को लक्षित करना है। अब तक, उन्होंने राचकोंडा पुलिस आयुक्तालय, महबूबनगर और रंगारेड्डी जिलों की सीमा में 18 महिलाओं को मार डाला," महेश भागवत, सीपी राचकोंडा ने कहा।गिरफ्तारी हैदराबाद और राचकोंडा पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा की गई थी, और पुलिस हत्या के दो और मामलों को सुलझाने में सक्षम थी।
    पेशे से मजदूर और पत्थर काटने वाले 45 वर्षीय रामुलु हैदराबाद के रहने वाला हैं। उन्हें पहले 21 मामलों में गिरफ्तार किया गया था, जिनमें से 16 हत्या के मामले हैं। पुलिस के अनुसार, उनके माता-पिता ने उनकी शादी 21 साल की उम्र में कर दी थी, लेकिन उनकी पत्नी ने उनकी शादी के कुछ ही समय के भीतर एक और आदमी के साथ चली गई, और तब से वो महिलाओं के खिलाफ घृणा की और उन्हें मारना शुरू कर दिया।

    मैना रामुलु कुख्यात हत्यारा है। उसने आमतौर पर ताड़ी शराब का सेवन करने के बाद आस-पास की शराब की दुकानों से एकल महिलाओं को टॉरगेट किया।
    फरवरी 2011 में, उन्हें एक अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी। चेरलापल्ली सेंट्रल जेल में आजीवन कारावास की सजा काटते हुए उन्हें इलाज के लिए एर्रागड्डा के एक मानसिक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि, वह और 5 अन्य दिसंबर 2011 में उस अस्पताल से भाग गया।
    अंजनी कुमार, सीपी हैदराबाद ने कहा, "भागने के बाद, आरोपी मैना रामुलु ने बोवेनपल्ली पीएस (हैदराबाद), चंदा नगर पीएस (साइबराबाद) और डंडीगल पीएस (साइबराबाद) की सीमा के भीतर लाभ के लिए अधिक हत्याएं कीं।"पुलिस ने उसे 2013 में गिरफ्तार किया था, लेकिन बाद में उन्हें उच्च न्यायालय में दायर अपील याचिका के बाद 2018 में जेल से रिहा कर दिया गया था। उसे दो हत्याएं कीं - एक साइबराबाद के शमीरपेट पीएस की सीमा के भीतर, और दूसरी सांगानेर जिले के पाटनचेरू पीएस सीमा में। उसे फिर से गिरफ्तार किया गया और सलाखों के पीछे डाल दिया गया, लेकिन जुलाई 2020 में वह जेल से बाहर आया और कम से कम दो महिलाओं की हत्या कर दी।

    English summary
    Hyderabad
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X