• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अनंतनाग एनकाउंटर: हिजबुल कमांडर मसूद के मारे जाने के बाद जम्‍मू जोन का डोडा जिला Terrorist Free

|
Google Oneindia News

श्रीनगर। सोमवार को जम्‍मू कश्‍मीर के अनंतनाग में हुए एनकाउंटर में हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी मसूद ढेर हो गया है। इस एनकाउंटर के बाद जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस की तरफ से बताया गया है कि डोडा जिला अब पूरी तरह से आतंकवादियों से मुक्‍त हो गया है। जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के डायरेक्‍टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी) दिलबाग सिंह की तरफ से इस बात की जानकारी दी गई है।

<strong>यह भी पढ़ें-भारत के विरोध के बाद UN ने अपने ड्राफ्ट से हटाया एक वाक्‍य </strong>यह भी पढ़ें-भारत के विरोध के बाद UN ने अपने ड्राफ्ट से हटाया एक वाक्‍य

    Jammu Kashmir: Hizbul Commander समेत 3 Terrorist ढेर, डोडा जिला आतंक मुक्त | वनइंडिया हिंदी
    आतंकी मसूद पर था रेप का केस

    आतंकी मसूद पर था रेप का केस

    मसूद को मिलाकर अनंतनाग एनकाउंटर में कुल तीन आतंकी मारे गए हैं। सुरक्षाबलों की तरफ से एनकाउंटर अनंतनाग के कुलछोहार इलाके में अंजाम दिया गया है। डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, 'अनंतनाग के कुलछोहार इलाके में हुए आज के ऑपरेशन के बाद हिजबुल कमांडर मसूद मारा गया है जिसके बाद अब जम्‍मू जोन का डोडा जिला पूरी तरह से आतंकियों से मुक्‍त हो चुका है।' इस एनकाउंटर में मारे गए दो आतंकी लश्‍कर-ए-तैयबा के थे जिसमें एक डिस्ट्रिक्‍ट कमांडर था। डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि मसूद डोडा जिले का रहने वाला था और उस पर रेप का केस दर्ज था। उसके बाद से ही वह फरार चल रहा था।रेप केस दर्ज होने के बाद उसने हिजबुल मुजाहिद्दीन को ज्‍वॉइन किया और फिर वह कश्‍मीर में शिफ्ट हो गया था।

    दो दिन पहले त्राल हुआ आतंकियों से आजाद

    दो दिन पहले त्राल हुआ आतंकियों से आजाद

    अभी दो दिन पहले ही साउथ कश्‍मीर में आतंकियों के गढ़ त्राल को भी 'टेररिस्‍ट फ्री' घोषित किया गया है। पुलवामा जिले के तहत आने वाले त्राल को 'कश्‍मीर का कंधार' भी कहते हैं। यहां पर सन् 1989 के बाद पहला मौका है जब हिजबुल मुजाहिद्दीन का एक भी आतंकी यहां नहीं है। त्राल, कश्‍मीर का वह हिस्‍सा है जहां से हिजबुल ने बुरहान वानी और जाकिर मूसा जैसे आतंकियों को तैयार किया था। ये दोनों आतंकी त्राल के ही रहने वाले थे। शुक्रवार को त्राल के चिवा में रात भरे चले एनकाउंटर में तीन आतंकी मारे गए थे। इसके बाद पुलिस ने इसे आतंकियों से आजाद घोषित किया था।

    1989 के बाद से त्राल हुआ आतंकियों से आजाद

    1989 के बाद से त्राल हुआ आतंकियों से आजाद

    जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने ट्वीट किया और लिखा, 'आज के सफल ऑपरेशन के बाद अब त्राल में हिजबुल का कोई भी आतंकी नहीं बचा है। ऐसा साल 1989 के बाद से हुआ है।' साल 2016 में सुरक्षाबलों ने त्राल के रहने वाले हिजबुल आतंकी बुरहान वानी को ढेर किया था। उसके बाद सुरक्षाबलों ने इसके एक और टॉप आतंकी जाकिर मूसा को ढेर किया था। त्राल में शुक्रवार को जो आतंकी मारे गए हैं उसमें से एक मोहम्‍मद कासिम शाह उर्फ जुगनू भी था। वह त्राल के मदूरा का रहने वाला था। तीन मार्च 2017 से वह सक्रिय था और आतंकी संगठन में आने से पहले वह सिविल इंजीनयरिंग में बीटेक की पढ़ाई कर रहा था।

    अब तक मारे गए 100 आतंकी

    अब तक मारे गए 100 आतंकी

    घाटी में इस समय इंडियन आर्मी, सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) और जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस की तरफ से आतंकियों को खत्‍म करने के लिए ताबड़तोड़ एनकाउंटर हो रहे हैं। साल 2020 में अभी तक 100 आतंकियों को ढेर किया जा चुका है। सुरक्षाबलों ने जून माह में ही अकेले 35 आतंकियों को ढेर किया है और करीब एक दर्जन एनकाउंटर में ये आतंकी मारे गए हैं।

    English summary
    Hizbul Mujahideen Commander killed in encounter and Doda becomes terrorist free, Jammu Kashmir police DGP informs.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X