• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Hindi Diwas 2019: मुझे अपनों ने लूटा.. गैरों में कहां दम था...

|
Google Oneindia News

बेंगलुरु। आज हिंदी दिवस है, हिंदी ही देश की पहचान है लेकिन फिर भी आज वो उपेक्षा की शिकार है और अपने वजूद के लिए संघर्ष कर रही है। हिंदी भाषा के लिए.. यह कथन पूरी तरह से सही है कि...मुझे अपनों ने लूटा.. गैरों में कहां दम था... मेरी कश्ती वहीं डूबी.. जहां पानी कम था, ना जाने इसके पीछे कारण क्या है? शायद प्रगतिशील समाज के चलते आज हिंदी भाषियों की हालत काफी पतली है, जो बच्चे हिंदी मीडियम स्कूलों में पढ़ते हैं, उन्हें प्रतियोगिताओं में भाषा के कारण काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

आज लोग हिंदी नहीं 'हिंगलिश' बोलते हैं, क्यों?

आज लोग हिंदी नहीं 'हिंगलिश' बोलते हैं, क्यों?

जो उस्ताद होते हैं वो तो किसी तरह इस मुश्किल को झेल लेते हैं लेकिन जो अंग्रेजी में कमजोर होते हैं उनके पास अच्छे सपने और सपनों को पूरा करने का कोई अधिकार नहीं होता है।

यह पढ़ें:Hindi Diwas 2019: UN में हिंदी में भाषण देने वाले पहले भारतीय थे अटल बिहारी वाजपेयीयह पढ़ें:Hindi Diwas 2019: UN में हिंदी में भाषण देने वाले पहले भारतीय थे अटल बिहारी वाजपेयी

अंग्रेजी है वक्त की जरूरत..

अंग्रेजी है वक्त की जरूरत..

आज जिंदगी की दौड़ में हिंदी बहुत पिछड़ती जा रही है, जब तक इंसान ग्लोबल भाषा अंग्रेजी के साथ नहीं चलेगा वो तरक्की नहीं करेगा जिसके चलते आज मां-बाप अपने बच्चों को अंग्रजी स्कूलों में पढ़ाने के लिए लालायित रहते हैं ताकि जिन समस्याओं से दो-चार वो हो रहे हैं उन चीजों से उनके बच्चे ना हो। उनके बच्चों को सफल जीवन मिले जो कि अंग्रेजी से मिलेगा ना कि हिंदी से।

हिंदी का रूप-रंग बदल गया

हिंदी का रूप-रंग बदल गया

बदलते परिवेश ने हमारी भाषा हिंदी का रूप-रंग ही बदल कर रख दिया है। आज अपने छोटे बच्चों को फैन कहना सिखाते हैं ना कि पंखा, आज बच्चों से वाटर मांगा जाता है ना कि पानी, आज बच्चों से पूछा जाता है कि फ्रूट खाओगे ना कि फल।

हिंदी की जगह हिंगलिश

हिंदी की जगह हिंगलिश

आज लोग हिंदी की जगह हिंगलिश बोलते हैं। आप अपने चारों ओर नजर उठाकर देखिए तो आपको पता लग जायेगा कि हम सही है। केवल आम जिंदगी ही नहीं हमारे मनोरंजन के साधनों में भी हिंगलिश का बोल-बाला है। मसलन फिल्मों को ही ले लीजिए, द डर्टी पिक्चर, काईटस, रॉकस्टार, नो वन किल्ड जेसिका, वांटेड, रेडी, बॉडीगार्ड, रा वन, हिरोईन, इश्क इन पेरिस तमाम ऐसे उदाहरण हैं जो आपको बता देंगे कि आज लोग हिंदी की जगह हिंदी-इंगलिश मिला कर बोलते हैं।

मीडिया ने भी नहीं देती तवज्जो

यही नहीं आज जागरूकता अभियान के तहत भी हिंदी को लेकर कहीं बातें नहीं होती हैं, जहां होती हैं उसे हमारे मीडिया वाले वाले कवर नहीं करते हैं। चाहें तो आप खुद देख लीजिए।

हिंदी भाषा के साथ थोड़ा इंसाफ हो जाएगा...

हिंदी भाषा के साथ थोड़ा इंसाफ हो जाएगा...

यह तस्वीर है आज की जो हमने आप के सामने पेश की, इसे पढ़ने के बाद अगर हर रोज आप खुद से और अपने लोगों से करीब दस हिंदी शब्दों का प्रयोग करके भी बात कर लें तो हमारा लिखना सफल हो जाएगा और हिंदी भाषा के साथ थोड़ा इंसाफ हो जाएगा।

    Hindi Diwas पर जानिए हिंदी भाषा का शानदार सफर । वनइंडिया हिंदी

    यह पढ़ें: Hindi Diwas 2019: जानिए हिंदी भाषा से जुड़ी कुछ रोचक बातेंयह पढ़ें: Hindi Diwas 2019: जानिए हिंदी भाषा से जुड़ी कुछ रोचक बातें

    English summary
    Hindi divas is celebrated on september 14 and it is celebrated so because on this day our constituent assembly adopted hindi as the official language of the assembly in 1949.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X