• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाराष्ट्र में मध्यावधि चुनाव को लेकर अमित शाह ने कही ये बात

|

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि क्या अगले छह महीनों के भीतर क्या कोई दल सरकार बनाने में सफल होगा। अगर कोई भी राजनीतिक दल अगले छह महीने के भीतर सरकार बनाने में विफल रहती है तो क्या एक बार फिर से प्रदेश में मध्यावधि चुनाव होंगे। प्रदेश में मध्यावधि चुनाव के सवाल पर गृहमंत्री अमित शाह ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि सभी दलों के पास छह महीने का पर्याप्त समय है, जिसके पास भी नंबर है वह सरकार बना सकता है।

    Maharashtra की महाभारत पर 20 Days बाद Amit Shah ने कही ये बड़ी बात |वनइंडिया हिंदी
    मैं नहीं चाहता हूं कि मध्यावधि चुनाव हो

    मैं नहीं चाहता हूं कि मध्यावधि चुनाव हो

    अमित शाह ने कहा कि मैं नहीं चाहता हूं कि मध्यावधि चुनाव हो, मै यह नहीं सोचता हूं कि मध्यावधि चुनाव हो। जब छह महीने समाप्त होगा तो राज्यपाल उचित कानूनी सलाह लेकर अपना फैसला लेंगे। अमित शाह ने कहा कि जो लोग कहते हैं कि हमे मौका नहीं दिया गया, राज्यपाल महोदय ने गैर संवैधानिक काम किया है, मैं उनको कहना चाहता हूं कि आपके पास आज भी समय है, लेकिन आपके पास संख्या नहीं है। अगर आपके संख्या है तो आप जाकर सरकार बना लीजिए।

    मैंने 100 बार कहा फडणवीस होंगे सीएम

    मैंने 100 बार कहा फडणवीस होंगे सीएम

    वहीं शिवसेना के साथ सरकार बनाने में विफल रहने के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि अमित शाह ने कहा सार्वजनिक प्रचार में मैंने कम से कम 100 बार कहा, प्रधानमंत्री जी ने भी कई बार कहा, स्वयं देवेंद्र फडणवीस ने कई बार कहा कि अगर हमारी महायुति की सरकार आती है, बहुमत आता है तो देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बनेंगे, किसी ने भी इसका खंडन नहीं किया। मैं इतना ही कहना चाहता हूं कि राष्ट्रपति शासन को लेकर जो हाय तौबा मची है वह कोरी जनता की सहानुभूति हासिल करने की कवायद है और कुछ भी नहीं है।

    हमे शिवसेना की शर्त मंजूर नहीं

    हमे शिवसेना की शर्त मंजूर नहीं

    शाह ने कहा कि हमने शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और नतीजे आने के बाद जब साथी दल ने ऐसी शर्त रखी जो हम स्वीकार नहीं कर सकते। शिवसेना के साथ हुई बैठक के बारे में शाह ने कहा कि यह हमारी पार्टी का संस्कार है कि बंद कमरे में राजनीतिक चर्चा को सार्वजनिक नहीं करते हैं। शाह ने कहा कि अगर भ्रांति खड़ाकर शिवसेना को लगता है कि देश की जनता की हम सहानुभूति हासिल करें तो मुझे लगता है कि उन्हें देश की जनता की समझ पर भरोसा नहीं है। हम तो तैयार थे शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए, लेकिन शिवसेना की कुछ मांग ऐसी थी जिसे हम स्वीकार नहीं कर सकते हैं।

    इसे भी पढे़ं- NCP को दिए समय से पहले महाराष्ट्र में क्यों लगा राष्ट्रपति शासन, अमित शाह ने बताई बड़ी वजह

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Here is what Amit Shah said on mid term election in Maharashtra.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X