• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सील किए गए हरिद्वार के बॉर्डर, केवल इन लोगों को मिलेगी प्रवेश की इजाजत

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की महामारी ने देश में कई तरह की धार्मिक गतिविधियों पर ब्रेक लगा दिया है। लगातार बढ़ रहे संक्रमण को देखते हुए हरिद्वार प्रशासन से भी सोमवार को पड़ोसी राज्यों के लिए जिले की सीमाओं को सील कर दिया। आपको बता दें कि उत्तराखंड सरकार पहले ही 'कांवड़ यात्रा' पर प्रतिबंध का ऐलान कर चुकी है। 'कांवड़ यात्रा' हर साल सावन के महीने में शुरू होती है और यूपी, दिल्ली, हरियाणा व राजस्थान के लाखों श्रद्धालु हरिद्वार से गंगाजल लेकर भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं।

    Uttrakhand : Haridwar के बॉर्डर सील किए गए,केवल इन लोगों को मिलेगी एंट्री | वनइंडिया हिंदी
    इन जगहों पर सील किए गए बॉर्डर

    इन जगहों पर सील किए गए बॉर्डर

    गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते केसों के बीच हाल ही में कांवड़ यात्रा बंद रखने का फैसला लिया था। इस प्रतिबंध के बाद सोमवार को हरिद्वार जिला प्रशासन ने नारसन, भगवानपुर, चिड़ियापुर और सप्तऋषि चेकपोस्ट पर बॉर्डर सील कर दिए। अधिकारियों के मुताबिक, जिन लोगों के पास अपने जिले के संबंधित मजिस्ट्रेट की लिखित परमिशन होगी, केवल उन्हीं लोगों के वाहनों को जिले में प्रवेश की अनुमित दी जाएगी।

    हर की पौड़ी पर बढ़ाई गई सुरक्षा

    हर की पौड़ी पर बढ़ाई गई सुरक्षा

    सोमवार को सैंकड़ों की संख्या में ऐसे वाहनों को हरिद्वार बॉर्डर से वापस भेज दिया गया, जिनके पास परमिशन लेटर नहीं था। इसके अलावा पुलिस प्रशासन ने हरिद्वार में हर की पौड़ी के पास भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है। कांवड यात्रा के दौरान हर की पौड़ी पर भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटती है। सरकार की गाइडलाइन का पालन करने के लिए इस इलाके में मोटरसाइकिल पर आने वाले लोगों से भी पूछताछ के बाद ही आगे जाने दिया रहा है।

    दिल्ली से आए चार लोगों को क्वारंटाइन किया गया

    दिल्ली से आए चार लोगों को क्वारंटाइन किया गया

    प्रशासन से जुड़े सूत्रों ने बताया कि सोमवार को दिल्ली से चार लोग यहां कांवड़ यात्रा के लिए आए थे, जिन्हें पूछताछ के बाद 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया गया। अधिकारियों का कहना है कि सरकार ने पहले ही इस संबंध में गाइडलाइंस जारी की हुई हैं, इसलिए बाकी लोगों को एक सख्त मैसेज देने के लिए ये कदम उठाया गया। इन सभी चारों लोगों को क्वारंटाइन सेंटर में अपने खर्च पर रहना होगा।

    अहम बैठक में लिया गया फैसला

    अहम बैठक में लिया गया फैसला

    आपको बता दें कि सरकार की तरफ से जारी गाइडलाइंस में कहा गया है कि जो लोग कांवड़ यात्रा पर लगे बैन के नियमों को तोड़कर हरिद्वार आएंगे, उन्हें अपने खर्च पर 14 दिन के लिए क्वारंटाइन सेंटर में रहना होगा। बीते बुधवार को पड़ोसी राज्यों के हरिद्वार की सीमा से सटे जिलों के डीएम और एसएसपी के साथ बैठक में यह फैसला लिया गया था।

    लगातार बढ़ रहे कोरोना के केस

    लगातार बढ़ रहे कोरोना के केस

    देश के कई राज्यों में बढ़ रहे संक्रमण के बीच उत्तराखंड में भी मरीजों की संख्या पिछले कुछ दिनों में तेजी से बढ़ी है। सोमवार को राज्य के स्वास्थ्य विभाग की तरफ से बताया गया कि उत्तरांखड में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के कुल 37 केस सामने आए। वहीं, राज्य में फिलहाल एक्टिव केस 505 हैं और 42 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य के कुल केसों में से अभी तक 2586 मरीज ठीक हो चुके हैं।

    ये भी पढ़ें- शादी के लिए ब्यूटी पार्लर में तैयार हो रही थी दुल्हन, पीछे-पीछे पहुंचे ब्वॉयफ्रेंड ने ले ली जान

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Haridwar Border Sealed, Only People Having Written Permissions Allowed.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X