• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

वाटर बॉटल रखने के लिए मेहमानों को बांटे गए थे जो बैग, उसमें भी दिखा मोदी का ग्रीन विजन

|

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूसरा शपथ ग्रहण कई मायनो में खास रहा लेकिन इस आयोजन की एक खास बात पर आम लोगों की और मीडिया की नजर नहीं पड़ी। मोदी हमेशा कुछ नया करने और नया सोचने के लिए जाने जाते हैं। उनके इस समारोह में प्लास्टिक वेस्ट की रीसाइक्लिंग से बने बैग मेहमानों को बांटे गए जिसमें वे अपनी बाटर बॉटल और अन्य जरूरी सामान रख सकें। खादी ग्रामोद्योग की की तरफ से निर्मित इन बैग ने शपथ ग्रहण समारोह को "गो ग्रीन" की थीम पर ला दिया। खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने बताया कि नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में बेकार प्लास्टिक से बने लगभग 7,000 हस्तनिर्मित पेपर कैरी बैग बांटे गए।

 खादी के नाम कई और उपलब्धियां दर्ज होने वाली है

खादी के नाम कई और उपलब्धियां दर्ज होने वाली है

जयपुर में केवीआईसी, कुमारप्पा नेशनल हैंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट (KNHPI) की एक इकाई ने पानी की बोतलें रखने के लिए शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित गणमान्य लोगों के लिए इन हस्तनिर्मित पेपर बैग्‍स की आपूर्ति की। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद खादी के ब्रांड एम्बेसडर भी हैं। केवीआईसी के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के पहले कार्यकाल में खादी की वृद्धि दिखाती है कि आने वाले समय में खादी के नाम कई और उपलब्धियां दर्ज होने वाली हैं।

प्रोजेक्ट REPLAN के तहत बनाया गया पेपर बैग

प्रोजेक्ट REPLAN के तहत बनाया गया पेपर बैग

KVIC के एक बयान के अनुसार, पेपर बैग KVIC के प्रोजेक्ट REPLAN (REducing PLAstic in Nature) के तहत बनाए गए थे और इसकी निर्माण प्रक्रिया में अपशिष्ट प्लास्टिक को इकट्ठा किया, साफ किया, कटा गया और इसे सॉफ्ट करने के लिए रासायनिक उपचार दिया गया। विनय सेक्‍सेना ने अपने बयान में कहा कि इसके बाद इसे कागजी कच्चे माल के साथ मिलाया गया, यानी 80 फीसदी (लुगदी) और 20 फीसदी (प्लास्टिक कचरा) के अनुपात में कपास की छाल मिलाकर चादरें बनाई गईं।

17 मीट्रिक टन से अधिक प्लास्टिक कचरे का उपयोग

सक्‍सेना ने कहा "रेप्लान ( REPLAN) ने न केवल समकालीन दुनिया की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक, प्लास्टिक के खतरे को कम करने के लिए एक आनुपातिक तरीका निकाला था, बल्कि संस्था को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस 26 वर्षीय केएनएचपीआई को भी पुनर्जीवित किया।" उन्‍होंने कहा कि KNHPI ने सात लाख से अधिक हस्तनिर्मित पेपर बैगों की आपूर्ति की है और इसके निर्माण में 17 मीट्रिक टन से अधिक प्लास्टिक कचरे का उपयोग किया है।

30 मई को पीएम मोदी ने लिया शपथ

30 मई को पीएम मोदी ने लिया शपथ

लोकसभा चुनाव 2019 जीतने के बाद 30 मई को नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली है। इस शपथ ग्रहण समारोह में कई बड़ी हस्तियां शामिल हुई थीं। राजनीति, बिजनेस और मनोरंजन जगत सभी से कई हस्तियां इस समारोह में शामिल हुए थे।

Read Also- पीएम मोदी को बधाई देते समय गलती से सलमान की फिल्‍म 'भारत' को प्रमोट कर बैठे विवेक ओबेरॉय, जानिए कैसे

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Around 7,000 handmade paper carry bags made from waste plastic were distributed at the swearing-in ceremony of Narendra Modi as the 16th Prime Minister of the country, the Khadi and Village Industries Commission (KVIC) said.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more