• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

हैकर्स ने लीक किए करीब 3 करोड़ भारतीयों की पर्सनल जानकारी, डार्क वेब पर साझा किया डेटा

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। हैकर्स द्वारा एक बार फिर भारतीय यूजर्स का पर्सनल डेटा चुराने और उसे लीक करने का मामला सामने आया है। साइबर अपराधियों पर नजर रखने वाली ऑनलाइन खुफिया कंपनी साइबल के मुताबिक साइबर अपराधियों ने करीब 3 करोड़ भारतीयों की निजी जानकारियां डार्क वेब पर लीक कर दी हैं। इससे पहले, कंपनी ने फेसबुक और ऑनलाइन एजुकेशन वेबसाइट अनएकेडेमी पर यूजर्स का डेटा हैक होने की जानकारी दी थी।

data

ऑनलाइन खुफिया कंपनी साइबल के अनुसार साइबर अपराधियों ने कुल 2.9 करोड़ नौकरी चाहने वाले (Job seekers) भारतीयों के पर्सनल डेटा को हैकिंग फ़ोरम में से एक डार्क वेब पर मुफ्त में पोस्ट किया है, जिसमें भारतीयों के पर्सनल डेटा में शामिल उनके घर के पते, शिक्षण संस्थान और संपर्क सूत्र इत्यादि विवरण शामिल हैं।

data

सावधान! अगर आप भी करते हैं 'वर्क फ्रॉम होम' तो आपके कंप्यूटर पर हो सकती है हैकर्स की नज़रसावधान! अगर आप भी करते हैं 'वर्क फ्रॉम होम' तो आपके कंप्यूटर पर हो सकती है हैकर्स की नज़र

गौरतलब है अक्टूबर, 2018 में भी सोशल मीडिया साइट्स फेसबकु ने उपभोक्ताओं के डेटा को लेकर ऐसा ही खुलासा किया था, जिसमें बताया गया था कि हैकर्स ने विश्वभर के 2.9 करोड़ यूजर्स का डेटा को एक्सेस किया था। फेसबुक द्वारा मुहैया कराई गई जानकारी के मुताबिक इस साइबर हमले की वजह से कुछ समय में विश्वभर के 5 करोड़ एकाउंट प्रभावित हुए थे।

क़ानूनी तरीके से लाखों डॉलर कैसे कमा रहे हैं भारतीय हैकर्सक़ानूनी तरीके से लाखों डॉलर कैसे कमा रहे हैं भारतीय हैकर्स

जानिए, क्या है डार्क वेब, जहां हैकर्स ने साझा की है निजी जानकारी?

जानिए, क्या है डार्क वेब, जहां हैकर्स ने साझा की है निजी जानकारी?

दरअसल, डार्क वेब इंटरनेट का ही हिस्सा है, लेकिन इसे सामान्य रूप से सर्च इंजन पर नहीं ढूंढा जा सकता। इस तरह की साइट को खोलने के लिए विशेष तरह के ब्राउजर की जरूरत होती है, जिसे टोर कहते हैं।

निजी जानकारी चुराकर हैकर्स देते हैं घोटाला या जासूसी कार्य को अंजाम

निजी जानकारी चुराकर हैकर्स देते हैं घोटाला या जासूसी कार्य को अंजाम

साइबल ने कहा है कि साइबर अपराधी ऐसी जानकारी जुटाकर दूसरे लोगों के नाम पर घोटाला या जासूसी जैसे कार्यों को अंजाम देते हैं। हाल ही में एक रिपोर्ट में खुलासा किया था कि भारतीय फर्मों ने अपने कामकाज पर रैंसमवेयर वायरस के दुष्प्रभाव को खत्म करने के लिए औसतन आठ करोड़ रुपए से अधिक की फिरौती दी है।

हैकर्स ने भारतीयों के ऐड्रेस, ईमल, फोन जैसी डिटेल लीक की हैं

हैकर्स ने भारतीयों के ऐड्रेस, ईमल, फोन जैसी डिटेल लीक की हैं

साइबल ने कहा कि नौकरी की तलाश कर रहे 2.91 करोड़ भारतीयों का डेटा लीक किया गया है। इस बार बड़ी संख्या में डेटा की चोरी हुई है और उसे डार्क वेब पर डाला गया है। इसमें एजुकेशन, ऐड्रेस, ईमल, फोन, योग्यता, कार्य अनुभव जैसी कई संबंधी निजी जानकारियां शामिल हैं। नौकरी संबंधी जानकारी देने वाली कई नामी भारतीय वेबसाइट के स्क्रीनशॉट भी साइबिल ने पोस्ट किए हैं। फिलहाल कंपनी उस सोर्स का पता लगा रही है, जहां से डेटा लीक हुआ है।

<strong></strong>

English summary
According to online intelligence company Cyble, cyber criminals have posted personal data of a total of 2.9 crore job seekers Indians on the Dark Web, one of the hacking forums, which includes their home addresses, which include personal data of Indians Details of educational institutions and contact details are included.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X