India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

गुजरात दंगा: ATS ने तीस्ता सीतलवाड़ को हिरासत में लिया, NGO के केस में होगी पूछताछ

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 25 जून: गुजरात एटीएस की एक टीम शनिवार को सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के मुंबई स्थित आवास पहुंची। वहां से उनको हिरासत में लेकर मुंबई के सांताक्रूज थाने ले जाया गया। फिलहाल अभी थाने में कागजी कार्रवाई पूरी की जा रही। इसके बाद एटीएस टीम पूछताछ के लिए उनको अहमदाबाद लेकर जाएगी। तीस्ता के एनजीओ के ऊपर कुछ आरोप लगे हैं, जिसकी जांच एटीएस कर रही। इस कार्रवाई से एक दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने तीस्ता के ऊपर तल्ख टिप्पणी की थी।

    Gujarat Riots: Teesta Setalvad पर Gujrat ATS का एक्शन, क्यों दर्ज हुई FIR ? | वनइंडिया हिंदी | *News
    Gujarat

    तीस्ता पत्रकार होने के साथ सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। वो 2002 के गुजरात दंगा पीड़ितों को न्याय दिलाने का दावा करने वाले संगठन सिटिजन फॉर जस्टिस एंड पीस (सीजेपी) की सचिव हैं। वहीं जाकिया जाफरी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी समेत 55 राजनेताओं और अधिकारियों को मिली क्लीन चिट को चुनौती दी गई। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया। साथ ही कोर्ट ने तीस्ता की भूमिका पर सवाल उठाए।

    जस्टिस एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ ने शुक्रवार को कहा कि एसआईटी रिपोर्ट को स्वीकार करने वाले गुजरात के मजिस्ट्रेट द्वारा पारित 2012 के आदेश को बरकरार रखते हुए जाकिया जाफरी की याचिका में कोई दम नहीं है। तीस्ता सीतलवाड़ की और जांच की जरूरत है क्योंकि वो अपने फायदे के लिए जाकिया जाफरी की भावनाओं का इस्तेमाल कर रही थीं। इस टिप्पणी के एक ही दिन बाद गुजरात एटीएस ने उनको हिरासत में ले लिया।

    'दंगों के दौरान सेना बुलाने में नहीं की गई थी कोई देरी', अमित शाह ने किया गुजरात की मोदी सरकार का बचाव'दंगों के दौरान सेना बुलाने में नहीं की गई थी कोई देरी', अमित शाह ने किया गुजरात की मोदी सरकार का बचाव

    अमित शाह ने कही थे ये बात
    वहीं सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने न्यूज एजेंसी एएनआई को इंटरव्यू दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा कि जाकिया जाफरी किसी और के निर्देश पर काम करती थी। NGO ने कई पीड़ितों के हलफनामे पर हस्ताक्षर किए और उन्हें पता भी नहीं है। सब जानते हैं कि तीस्ता सीतलवाड़ का NGO ये सब कर रहा था। उस समय कांग्रेस की सरकार थी, जिसने उसके एनजीओ की खूब मदद की थी।

    Comments
    English summary
    Gujarat ATS at Teesta Setalvad residence in Mumbai
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X