• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

स्‍पेशल श्रमिक ट्रेनों में हुईं 97 लोगों की मौत, रेल मंत्री ने बताया क्या थी वजह

|

नई दिल्‍ली। कोरोना महामारी के चलते देशव्‍यापी लॉकडाउन के दौरान लाखों की संख्‍या में श्रमिक राज्यों में फंसे हुए थे। जिनको उनके घर पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा स्‍पेशल श्रमिक ट्रेनें संचालित की गईं थी। विपक्ष बार-बार आरोप लगा रहा है कि इन श्रमिक ट्रेनों में भूख-प्‍यास के कारण श्रमिकों की मौत हुई। यहां तक कि ये भी आरोप लगाया कि कितनी मौतें हुई इसका भी आंकड़ा सरकार के पास नहीं है। वहीं अब राज्यसभा में रेली मंत्री ने बताया कि इन स्‍पेशल ट्रेनों में मई माह में यात्रा के दौरान 97 लोगों की मौतें हुईं। केन्‍द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ये जानकारी तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ'ब्रायन द्वारा शुक्रवार को राज्यसभा में उठाए गए सवालों के जवाब में दी।

Shramik trains
    Parliament Monsoon Session: Government ने कहा, श्रमिक स्पेशल में 97 लोगों की गई जान | वनइंडिया हिंदी

    बता दें सांसद डेरेक ओब्राय ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में कुल मौतों का ब्यौरा मांगा था। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा में एक प्रश्न के जवाब में बतया कि 9 सितंबर तक कुल 97 लोगों की मौत हुई। ये सभी मौतें केंद्र द्वारा लॉकडाउन अवधि के दौरान प्रवासी कामगारों को उनके घर पहुंचाने के लिए विशेष रेलगाड़ियों में यात्रा करने के दौरान हुई। मीडिया रिपोर्ट में रेलवे सुरक्षा बल के आंकड़ों का हवाला देते हुए, 9 मई से 27 मई के बीच लगभग 80 मौतें श्रमजीवी स्पेशल ट्रेनों में हुईं।

    Shramik trains

    केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि स्‍पेशल श्रमिक ट्रेनों में हुई कुल 97 मौतों में राज्य पुलिस ने 87 के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे। संबंधित राज्य पुलिस से अब तक 51 पोस्टमार्टम रिपोर्ट प्राप्त की गई हैं, जिसमें मौत के कारणों को काडियक अरेस्‍ट/ हृदय रोग / ब्रेन हैम्रेज / पूर्व और मौजूदा पुरानी बीमारी / पुरानी फेफड़ों की बीमारी / पुरानी जिगर की बीमारी आदि से ग्रसित थे। जो उनकी मौत की वजह बना।

    Shramik trains

    बता दें सत्र शुरु होने के बाद से ही सदन में ये आरोप लगाया जा रहा था कि लॉकडाउन के दौरान जान गंवाने वाले प्रवासी श्रमिकों की संख्या का सरकार के पास कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। श्रमायुक्त स्पेशल ट्रेनों ने लॉकडाउन अवधि के दौरान 1 मई को प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों में वापस करने के लिए ऑपरेशन शुरू किया। मंत्रालय ने संसद में कहा कि सभी 1 मई से 31 अगस्त के बीच 4,621 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया गया है और 6,319,000 यात्रियों को उनके घर ले जाया गया है।

    Piyush Goyal

    गोयल ने कहा था कि बेहतर मेडिकल स्क्रीनिंग से कुछ मौतों को रोका जा सकता है, लेकिन जो डॉक्टर लोगों के भारी प्रवाह से निपट रहे हैं, उन्हें दोषी नहीं ठहराया जा सकता। "भारतीय रेलवे के पास एक नियंत्रण प्रणाली है ट्रेन को तुरंत रोक दिया जाता है अगर कोई बीमार पाया जाता है और उन्हें अपने जीवन को बचाने और बचाने के लिए निकटतम अस्पताल में भेजा जाता है। रेलवे बोर्ड के सीईओ वीके यादव ने मई में कहा था मौतों के मामले में, स्थानीय क्षेत्र कारण की जांच करते हैं और जांच के बिना, आरोप हैं कि भोजन की कमी नहीं होने पर वे भूख से मर गए। कुछ मौतें हुईं और हम आंकड़े संकलित कर रहे हैं ... हम कुछ दिनों में आंकड़े जारी करेंगे।

    Shramik trains

    '' गोयल ने राज्यसभा में श्रमिक ट्रेनों पर एक अलग सवाल के जवाब में कहा यात्रा के दौरान भोजन और पानी की अनुपलब्धता पर 4,621 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों से IRCTC द्वारा कुल 113 शिकायतें प्राप्त की गई हैं। गोयल ने यह भी स्पष्ट किया कि रेलवे ने श्रमिक ट्रेनों के लिए यात्रियों से सीधे कोई किराया नहीं वसूला। "रेलवे ने राज्य सरकारों या उनके अधिकृत प्रतिनिधियों से श्रमिक विशेष ट्रेनों का किराया एकत्र किया है। रेलवे ने यात्रियों से सीधे कोई किराया नहीं लिया। मंत्रालय ने कहा कि 1 मई से 31 अगस्त, 2020 के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने के लिए राज्य सरकारों से लिया गया किराया लगभग 433 करोड़ रुपये है।

    सोनम कपूर के पति को महिला यूजर ने बोला 'बदसूरत' तो भड़क गईं एक्‍ट्रेस, दिया ये जवाब

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Govt tells Rajya Sabha, 97 people died on-board 97 people died on-board Shramik trains
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X