• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या असल में 5-7 गुना ज्यादा, सरकार ने रिपोर्ट को बताया निराधार

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 13 जून। भारत में कोरोना से पिछले एक साल में लाखों लोगों की जान चली गई है। लेकिन कोरोना से मौत के आंकड़ो को लेकर हाल ही में अलग-अलग तरह की रिपोर्ट सामने आई कि मरने वालों की संख्या बताई गई संख्या से 5-7 गुना अधिक है। लेकिन इन रिपोर्ट को सरकार ने खारिज किया है। इकोनॉमिस्ट में छपी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या असल में 5-7 गुना अधिक है। सरकार की ओर से इन आंकड़ों को खारिज करते हुए कहा गया कि लेख में कल्पना पर आधारित है, जिसका कोई आधार नहीं है और पूरी तरह से गलत जानकारी देता है। बिना किसी तथ्य के इस आर्टिकल को लिखा गया है।

    Corona Death In India: 7 गुना मौत के दावे को Centre Govt ने किया खारिज, गिनाए कारण | वनइंडिया हिंदी
    corona

    आंकड़ों को सरकार ने बताया काल्पनिक

    सरकार की ओर से कहा गया है कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के कोरोना से मरने वालों के आंकड़े आईसीएमआर द्वारा स्थापित प्रणाली के आधार पर ही इकट्ठा किए गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार हर रोज अलग-अलग शहरों के आंकड़े बृहद मॉनिटरिंग के आधार पर इकट्ठा कर रहा है। इंटरनेशनल मैग्जीन में दावा किया गया है कि कोरोना से मरने वालों की संख्या कहीं अधिक है वह निराधार है। मैग्जीन में आंकड़ों को इकट्ठा करने का तरीका भी नहीं बताया गया है। यह शोध मुख्य रूप से वर्जीनिया कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटी के क्रिस्टोफर लैफलर ने किया है जोकि इंटनेट सर्चऔर रिसर्च पर आधारित है।

    आंकड़े इकट्ठा करने वाली संस्था पर ही सवाल

    मैग्जीन में आंकड़ों को लेकर जो तथ्य रखे गए हैं उसमे तेलंगाना के आंकड़े बीमा के आधार पर दिए गए हैं। इसमे भी कोई वैज्ञानिक तरीका नहीं अपनाया गया है। दो अन्य शोध किए गए हैं वो प्रश्नम और सी वोटर के आधार पर किए गए हैं। लेकिन ये दोनों ही संस्था चुनाव के आंकड़े जुटाने का काम करती हैं इनके पास स्वास्थ्य के आंकड़ों को लेकर किसी भी तरह का कोई अनुभव नहीं है। यही नहीं चुनावी पोल देने के इनके तरीके पर कई बार सवाल खड़े हो चुके हैं और इनके आंकड़े कई बार गलत भी साबित हुए हैं।

    इसे भी पढ़ें- 'ममता बनर्जी का कोई मुकाबला नहीं, BJP धोखेबाज है', बंगाल की सड़कों पर माफी मांगते घूम रहे भाजपा कार्यकर्ताइसे भी पढ़ें- 'ममता बनर्जी का कोई मुकाबला नहीं, BJP धोखेबाज है', बंगाल की सड़कों पर माफी मांगते घूम रहे भाजपा कार्यकर्ता

    विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक पर आधारित सरकार की पद्धति

    सरकार की ओर से जो बयान जारी किया गया है उसमे कहा गया है कि मैग्जीन के लेख में खुद कहा गया है कि ये आंकड़ो को स्थानीय सरकार अक्सर विश्वसनीय नहीं मानती है। 20 मार्च 2020 में आईसीएमआर की ओर से जो गाइडलाइन जारी की गई थी उसमे भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या के आंकलन के लिए आईसीडी-10 कोड का इस्तेमाल किया जाता है जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार ही तैयार किया गया हैा।

    English summary
    Government rejects the report claiming corona causes 5-7 time more life than reported.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X