• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Good News: नौकरी तलाशने वालों के लिए बड़ी खबर, जुलाई में हायरिंग एक्टिविटी में दिखी उछाल!

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस प्रेरित लॉकडाउन में एक तरफ जहां सब कुछ ठप पड़ा और लोगों की नौकरियों से हाथ तक धोना पड़ा है, उनके के लिए जुलाई का महीना राहत की खबर लेकर आया है। दरअसल, जून महीने की तुलना में भारत में हायरिंग एक्टिविटी में 5 फीसदी की वृद्धि देखी गई है। इसका खुलासा Naukri जॉबस्पीक इंडेक्स ने किया है। उसके मुताबिक जुलाई, 2020 में जून की तुलना में 5 फीसदी की मामूली, लेकिन सकारात्मक उछाल आई है।

job

क्या सीएए और एनआरसी के खिलाफ फिर शुरू होने जा रही है मुहिम, तैयारी में जुटे प्रदर्शनकारी!

जुलाई 2020 में हायरिंग एक्टिविटी में 5% का सुधार हुआ: नौकरी जॉबस्पीक

जुलाई 2020 में हायरिंग एक्टिविटी में 5% का सुधार हुआ: नौकरी जॉबस्पीक

नौकरी जॉबस्पीक डेटा के मुताबिक जून के 1208 की तुलना में जुलाई, 2020 में हायरिंग एक्टिविटी में 5% का सुधार हुआ है। इसकी वजह राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में छूट और महत्वपूर्ण उद्योगों को फिर से खोलने से समझा जा रहा है। इससे लोगों को नौकरी पर रखने की गतिविधियों में मामूली रिकवरी का रास्ता खुला है, लेकिन जुलाई 2020 में Y-O-Y भर्ती यानी साल दर साल भर्ती में अभी भी 47 फीसदी की गिरावट है।

होटल, रेस्तरां, एयरलाइंस, ट्रेवल जैसे इंडस्ट्री में 80 फीसदी गिरावट जारी

होटल, रेस्तरां, एयरलाइंस, ट्रेवल जैसे इंडस्ट्री में 80 फीसदी गिरावट जारी

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले वर्ष में इसी अवधि की तुलना में जुलाई 2020 में होटल, रेस्तरां, एयरलाइंस, ट्रेवल जैसे इंडस्ट्री में 80 फीसदी, खुदरा में 71 फीसदी, रियल एस्टेट में 60 फीसदी और तेल और गैस / पावर 58 फीसदी गिरावट के साथ संघर्ष करना जारी रखते हैं। हालांकि YOY को काम पर रखने में बीपीओ/ आईटीईएस (42 फीसदी), एफएमसीजी ( 39 फीसदी), फार्मा / बायोटेक (38 फीसदी), आईटी-हार्डवेयर (30 फीसदी) और मेडिकल / हेल्थकेयर (20 फीसदी) जैसे प्रमुख क्षेत्र कम से कम प्रभावित हुए हैं।

महानगरों में कोरोना ​​केस में तीव्रता और लॉकडाउन से जॉब में आई गिरावट

महानगरों में कोरोना ​​केस में तीव्रता और लॉकडाउन से जॉब में आई गिरावट

रिपोर्ट कहती है कि महानगरों में कोरोना ​​मामलों की तीव्रता और कुछ स्थानों पर रुक-रुक कर लॉकडाउन करने से महानगरों में काम पर रखने की गतिविधि में गिरावट दर्ज हुई है, जो राष्ट्रीय औसत 50 फीसदी से गिरकर 47 फीसदी से अधिक हो गई है। मेट्रो शहरों में मसलन चेन्नई (55 फीसदी), मुंबई (54 फीसदी) और बेंगलुरू (54 फीसदी) ने गिरावट देखी गई। वहीं, छोटे शहर मसलन चंडीगढ़ (28 फीसदी), जयपुर (25 फीसदी) और कोच्चि (33 फीसदी) कम से कम प्रभावित हुए। एंटी लेबल स्तर (0 से 3 वर्ष के एक अनुभव) से लेकर अनुभव लेबल के विभिन्न स्तरों पर भर्ती में 51% की सबसे तेज गिरावट देखी गई।

जुलाई में वाई-ओ-वाई हायरिंग पर अभी भी 47 फीसदी की गिरावट दिखी

जुलाई में वाई-ओ-वाई हायरिंग पर अभी भी 47 फीसदी की गिरावट दिखी

Naukri.com के मुख्य बिजनेस अधिकारी, पवन गोयल ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि जुलाई-महीने की मासिक गतिविधियों में जुलाई महीने में मामूली सुधार हुआ है। भर्ती / रोजगार, मीडिया / मनोरंजन और निर्माण / इंजीनियरिंग जैसे उद्योग एम-ओ-एम को काम पर रखने में सकारात्मक संकेतों के साथ वापसी हुई है, क्योंकि लॉकडाउन प्रतिबंधों को और भी आसान कर दिया गया है। हालांकि जुलाई में वाई-ओ-वाई हायरिंग पर अभी भी 47 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है, लेकिन उभरते हुए शहरों में जॉब मार्केट रिकवरी बेहतर है जबकि महानगरों में अभी भी हालत खराब है, जहां 50 फीसदी से अधिक गिरावट देखी जा जा रही है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The month of July has brought news of relief for the Corona virus-induced lockdown, where everything has come to a standstill and people have to lose their jobs. Actually, India has seen a 5% increase in hiring activity compared to the month of June. This has been revealed by the Naukri Jobspeak Index. According to him, there has been a slight but positive jump of 5 per cent in July 2020 compared to June.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X