• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन का सबसे बडा़ असर, हरिद्वार में पीने लायक हुआ गंगा का जल

|

नई दिल्ली। मई 2019 में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने कहा था कि नदी गंगा का पानी पीने लायक नहीं है, जबकि पिछले साथ अक्टूबर में यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने यहां तक कहा था कि नदी का पानी नहाने के लिहाज से भी ठीक नहीं है। लेकिन इस साल मार्च के अंत में पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान हो गया, जिसके वजह से औद्योगिक इकाइयां पूरी तरह से बंद हो गईं हैं और इसके बाद गंगा के पानी की गुणवत्ता में अप्रत्याशित रूप से काफी सुधार हुआ है।

हरिद्वार और ऋषिकेश में गंगा नदी हुआ स्वच्छ

हरिद्वार और ऋषिकेश में गंगा नदी हुआ स्वच्छ

एक रिपोर्ट के मुताबिक, हरिद्वार और ऋषिकेश में गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता काफी बेहतर हो गई है। इसको लेकर वैज्ञानिकों का कहना है कि गंगा नदी का पानी इतना साफ हो गया है कि अब उसे बिना फिल्टर किए ही पिया जा सकता है। लॉकडाउन के दौरान इंडस्ट्रीज बंद हैं और इस वजह से कारखानों का कचरा गंगा में पहुंचना बंद हो गया है।

ये भी पढ़ें: 3 मई तक LOCKDOWN बढ़ने के बाद टिकट बुकिंग को लेकर रेलवे का नया निर्देश

आचमन के लायक हुआ पानी

आचमन के लायक हुआ पानी

एन्वॉयरमेंटल साइंटिस्ट और गुरुकुल कांगड़ी यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रोफेसर बीडी जोशी इस पर कहते हैं कि हरिद्वार और ऋषिकेश का पानी लंबे समय के बाद इतना साफ हुआ है कि अब ये आचमन के लायक हो गया है। इंडस्ट्रीज का कचरा, होटलों की गंदगी इस वक्त गंगा के पानी को प्रदूषित नहीं कर रही है। लॉकडाउन के कारण मानव गतिविधियां कम होने के अच्छे परिणाम दिखाई दे रहे हैं। हरिद्वार में हर की पौड़ी घाट, जहां रोज लाखों श्रद्धालुओं का आना-जाना होता था, लॉकडाउन के कारण उनका आना बंद है।

पानी की गुणवत्ता में 40-50 प्रतिशत सुधार हुआ

पानी की गुणवत्ता में 40-50 प्रतिशत सुधार हुआ

हर की पौड़ी मंदिर के पुजारी ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि गंगा आज स्वच्छ और शुद्ध है। मछली और अन्य जीव पानी में साफ दिखाई देते हैं। घाट पूरी तरह से साफ हैं। एक अन्य पुजारी ने कहा कि हम गंगा को इसी तरह साफ देखना चाहते हैं, लॉकडाउन के कारण ऐसा हो सका है लेकिन हमें खुशी होगी अगर श्रद्धालुओं के आने के बाद भी गंगा का पानी इसी तरह स्वच्छ रहे। विशेषज्ञों के अनुसार, पहले की तुलना में गंगा के पानी की गुणवत्ता में 40-50 प्रतिशत सुधार हुआ है। वहीं, एक स्थानीय नागरिक का कहना है कि पानी की गुणवत्ता में सुधार हुआ है लेकिन जल स्तर कम है। एक बार जल स्तर बढ़ने के बाद, गंगा पूरी तरह से साफ दिखाई देगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ganga waters at Rishikesh and Haridwar become very clean amid lockdown
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X