पत्‍नी संग जबरदस्‍ती ओरल सेक्‍स करना रेप नहीं बल्‍कि घरेलू हिंसा- गुजरात सरकार

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
Gujarat Govt says to HC that oral sex is Domestic Violence | वनइंडिया हिंदी

अहमदाबाद। गुजरात हाई कोर्ट के समक्ष राज्‍य सरकार की तरफ से एक हलफनामा दायर किया गया है जिसमें कहा गया है कि पत्‍नी को ओरल सेक्‍स के लिए मजबूर करना बलात्‍कार या अननैचरल सेक्‍स नहीं बल्‍कि घरेलू हिंसा के अंतर्गत आएगा। राज्य सरकार की यह प्रतिक्रिया उस याचिका पर आई है, जिसमें महीने भर पहले कोर्ट ने सरकार के सामने एक अहम सवाल रखा था। कोर्ट ने याचिका में राज्य सरकार से तीन सवाल किए थे। तब पूछा गया था कि क्या अप्राकृतिक सेक्स भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के तहत, रेप धारा 376 के अंतर्गत और शादीशुदा जीवन में मानसिक व शारीरिक उत्पीड़न धारा 498A के तहत आएगा?

हाई कोर्ट के सवाल पर राज्‍य सरकार का जवाब

हाई कोर्ट के सवाल पर राज्‍य सरकार का जवाब

हाई कोर्ट के सवाल के जवाब में राज्य सरकार ने विभिन्न प्रावधानों का हवाला देते हुए कहा कि विवाहित जोड़े के लिए बलात्कार की परिभाषा में एक अपवाद है और इसलिए पत्नी को ओरल सेक्स के लिए मजबूर करना रेप के आरोपों के अंतर्गत नहीं आएगा। हालांकि सरकार का यह भी कहना है कि पत्नी की मर्जी के बिना पति का ओरल सेक्स के लिए मजबूर करना क्रूरता का कार्य था और इसलिए ऐसे मामलों में आईपीसी की धारा 498 ए लागू होती है।

क्‍या कहना है दूसरे पक्ष का

क्‍या कहना है दूसरे पक्ष का

उधर, दूसरे पक्ष की ओर महिला के वकील राजेश ने बताया कि मंजूरी के बगैर पत्नी के साथ मुखमैथुन करना सिर्फ और सिर्फ बलात्कार, आप्रकृतिक यौन संबंध और घरेलू हिंसा में आता है। दोनों पक्षों की ओर से जमा किए गए हलफनामे के बाद जस्टिस जेबी पर्दीवाला ने इस मामले फैसला सुरक्षित रख लिया है।

क्‍या था पूरा मामला

क्‍या था पूरा मामला

मामला यहां के साबरकंठा जिला का है। यहां बीते महीने एक पत्नी ने पति के खिलाफ मुखमैथुन करने को लेकर पुलिस में शिकायत दी थी, जिसके बाद एफआईआर दर्ज हुई। जबकि, पति ने कोर्ट से दरख्वास्त की थी कि उस पर लगे आरोप हटाए जाएं। उसका कहना था कि पति-पति होने की वजह से वे सभी आरोप बलात्कार के तहत नहीं आते हैं।

Read Also- फेसबुक पर आते थे बीवी को लाइक्‍स तो मुंह में कपड़ा ठूंसकर ऐसे-ऐसे अत्‍याचार करता था सनकी पति

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The state government has submitted before the Gujarat high court that forcing a wife to perform oral sex invites charges of domestic violence and not of rape and unnatural sex.
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.