• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बिजनेस को आसान बनाने के लिए कंपनियों को बड़ी राहत, क्रिमनल केस नहीं होगा दर्ज

|

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को 20 लाख करोड़ रुपए के कोविड-19 राहत पैकेज की पांचवीं और आखिरी किस्त बताई। आज के ऐलान में रिफॉर्म्स पर फोकस रहा और 7 ऐलान किए गए। इनमें मनरेगा, स्वास्थ्य, शिक्षा, कारोबार, कंपनीज एक्ट, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस और पीएसयू से शामिल हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सरकार ने कंपनी अधिनियम की अवहेलना करने के लिए कदम उठाए। छोटी तकनीकी व प्रक्रियात्मक चूकों को अब अपराधीकरण की सूची से निकाला जा रहा है। कंपाउंडेबल ऑफेंसेज के तहत 18 सेक्शन की सीमा को बढ़ाकर 58 कर दिया गया है।

finance minister nirmala sitharaman press conference big relief to companies

कंपनियों को बड़ी राहत

7 कापाउंडेबल ऑफेंसेज को पूरी तरह से ड्रॉप कर दिया गया है और 5 को अल्टरनेटिव फ्रेमवर्क के तहत लिया जाएगा। इससे एनसीएलटी और क्रिमिनल कोर्ट पर दबाव कम होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि इससे अदालतों पर बोझ कम होगा और कंपनियों कि उत्पादकता बढ़ेगी।

COVID-19 से जुड़े कर्ज IBC के तहत डिफॉल्‍ट से रखे जाएंगे बाहर

कोरोना वायरस की वजह से बकाया कर्ज को Default में शामिल नहीं किया जाएगा। अगले एक साल तक कोई भी नई इंसॉल्वेंसी प्रक्रिया शुरू नहीं की जाएगी। एमएसएमई सेक्टर के लिए विशेष दिवालिया समाधान ढांचा को जल्द ही अधिसूचित किया जाएगा। IBC से जुड़े मामलों को लेकर वित्त मंत्री ने अहम घोषणा की। दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने के लिए थ्रेसहोल्ड को एक लाख रुपये से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये किया जाएगा।

स्ट्रैटिजिक सेक्टर में चार से अधिक पब्लिक सेक्टर कंपनियां नहीं होंगी

स्ट्रैटिजिक सेक्टर में चार से अधिक पब्लिक सेक्टर कंपनियां नहीं होंगी। चार से अधिक पब्लिक सेक्टर अगर किसी स्ट्रैटिजिक सेक्टर में हैं तो उनका विलय किया जाएगा। अधिसूचित स्ट्रैटिजिक सेक्टर में कम से कम एक पब्लिक सेक्टर कंपनियां रहेंगी, लेकिन निजी क्षेत्रों को भी इस सेक्टर में शामिल किया जाएगा। अन्य सेक्टर्स में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों का निजीकरण किया जाएगा। हालांकि, इस बारे में उचित समय को देखते हुए फैसला किया जाएगा।

    Finance Minister Nirmala Sitharaman का ऐलान, ब्लॉक लेवल पर बनेंगे Public Health Lab | वनइंडिया हिंदी

    COVID19 से संबंधित कर्ज को 'डिफॉल्ट' की श्रेणी में नहीं डाला जाएगा

    ईज ऑफ डूईंग बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक साल के लिए नई इन्सॉल्वेंसी प्रक्रियाओं को सस्पेंड कर दिया है, इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत COVID19 से संबंधित कर्ज को 'डिफॉल्ट' की श्रेणी में नहीं डाला जाएगा।

    निर्मला सीतारमण के राहत पैकेज की आखिरी किस्त, जानिए आज की 7 महत्वपूर्ण बातें

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    finance minister nirmala sitharaman press conference big relief to companies
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X