• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कृषि अध्यादेशों के खिलाफ ट्रैक्टर के साथ विरोध करेंगे पंजाब के किसान, हाईवे होगा जाम

|

नई दिल्‍ली। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा कोरोना वायरस के मद्देनजर केंद्र के कृषि अध्यादेशों के विरोध को स्थगित करने की अपील के बावजूद, किसानों की यूनियनों ने 20 जुलाई को योजना के साथ आगे बढ़ने और राजमार्गों पर सैकड़ों ट्रैक्टर पार्क करने का फैसला किया है। भारतीय किसान यूनियन (राजोवाल) के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजोवाल ने कहा कि यह तीन घंटे का विरोध प्रदर्शन होगा और यात्रियों को कोई असुविधा नहीं होगी।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

कृषि अध्यादेशों के खिलाफ ट्रैक्टर के साथ विरोध करेंगे पंजाब के किसान, हाईवे होगा जाम

उन्होंने कहा, 'मुख्यमंत्री ने अध्यादेशों का विरोध करने के लिए एकजुट होने के मुद्दे पर एक बैठक के दौरान हमसे खुद पूछा था, लेकिन अब वह हमसे इस योजना को छोड़ने के लिए कह रहे हैं। हम डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी और बिजली अधिनियम में संशोधन का भी विरोध करेंगे। ' पंजाब और हरियाणा के ट्रैक्टर सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक सड़कों पर रहेंगे। "हमने अपने सदस्यों को एक ट्रैक्टर पर केवल एक व्यक्ति के साथ सामाजिक दूरी का अभ्यास करने के निर्देश दिए हैं। वे भी निशान पहनेंगे।

भारत के इस इकलौते प्रदेश में नहीं है एक भी कोरोना केस, जानिए कैसे नहीं पहुंच पाया ये जानलेवा वायरस

12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

हालांकि, यहां तक कि कोरोनो वायरस मामलों की सबसे अधिक संख्या वाले राज्यों ने कोई भी प्रतिबंधात्मक आदेश जारी नहीं किया है। सरकारें कोरोना की आड़ में हर तरह के फैसले ले रही हैं, लेकिन हमें शांतिपूर्ण विरोध से भी रोका जा रहा है। कुछ अन्य किसान यूनियन भी विरोध प्रदर्शन में भाग लेंगे। भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के महासचिव हरिंदर सिंह लखोवाल ने कहा कि विरोध प्रदर्शनों को न टालने का फैसला किया गया था, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए सावधानी बरती जाएगी कि कोविद का प्रसार न हो।

केंद्र के खिलाफ ज्ञापन सौंपेंगे पंजाब के आढ़ती

केंद्र सरकार की तरफ से आढ़ती, किसान और मजदूरों के विरुद्ध पेश किए गए कृषि अध्यादेश के विरोध में पंजाब भर के आढ़ती अपने इलाकों में एसडीएम को ज्ञापन सौंपेंगे। अनाज मंडी में फेडरेशन ऑफ आढ़ती एसोसिएशन पंजाब के उप प्रधान हरबंस सिंह रोशा और सचिव यादविदर सिंह लिबड़ा ने कहा कि केंद्र सरकार एमएसपी को खत्म कर कारपोरेट घरानों को फूड ग्रेन सेक्टर में लाना चाहती है। सरकार पंजाब के किसान, आढ़ती और म•ादूर को मारने पर तुली हुई है। उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में 20 जुलाई को मंडियां बंद रखी जाएंगी। काली झंडियां दुकानों पर लगा कर रोष प्रकट किया जाएगा। किसानों को साथ लेकर पंजाब का समूचा आढ़ती वर्ग संघर्ष करेगा और केंद्र के मंसूबे को कभी पूरा नहीं होने देंगे। पंजाब में आढ़ती और किसान का आपस में अटूट रिश्ता है। इसमें कभी भी दरार नहीं आने दी जाएगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Farmers’ unions to go ahead with protest on tractors against ordinances.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X