• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कृषि कानून निरस्त: संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक शुरू, तय होगी किसान आंदोलन की आगे की राह

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 21 नवंबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा के बाद किसान संगठनों की आज रविवार (21 नवंबर) को अहम बैठक हो रही है। बैठक में कृषि कानून निरस्त होने और किसान आंदोलन को लेकर आगे की क्या योजना है, इसपर चर्चा की जाएगी। आंदोलनकारी किसान के इस बैठक का आयोजन संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने किया है। संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक सिंघू (सिंघु (दिल्ली-हरियाणा) सीमा पर रविवार लगभग 12 बजे शुरू हुई है। किसान नेताओं का कहना है कि बैठक में एमएसपी, जान गंवाने वाले किसानों को मुआवजा, किसानों के खिलाफ दर्ज मामले और उनकी अगली कार्ययोजना पर चर्चा की जाएगी।

farmers protest

एसकेएम कोर कमेटी के सदस्य दर्शन पाल ने कहा कि एमएसपी मुद्दा और आगामी शीतकालीन सत्र के दौरान संसद तक प्रस्तावित दैनिक ट्रैक्टर मार्च को लेकर भी फैसला किया जाएगा।

तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने के अपने फैसले के बाद, केंद्र अब आंदोलनकारी किसान संघों और विपक्षी दलों के दबाव का सामना कर रहा है कि वह न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी वाला कानून लाए। सत्तारूढ़ भाजपा सांसद वरुण गांधी भी ने भी ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह मांग की है। वरुण गांधी ने लिखा है कि एमएसपी का मुद्दा हल होने तक आंदोलन समाप्त नहीं होगा।

    Singhu border: Samyukt Kisan Morcha की बैठक, नहीं शामिल हुए राकेश टिकैत | वनइंडिया हिंदी

    किसान नेताओं का कहना है कि जब तक केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार संसद में इन तीनों कानूनों को औपचारिक रूप से रद्द नहीं कर देती, तब तक प्रदर्शनकारी किसान दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में ही रहेंगे। दर्शन पाल ने कहा, ''संसद तक ट्रैक्टर मार्च का हमारा आह्वान अभी भी कायम है। आंदोलन के भविष्य के पाठ्यक्रम और एमएसपी मुद्दे पर अंतिम निर्णय रविवार (21 नवंबर) को सिंघू सीमा पर एसकेएम की बैठक में लिया जाएगा।''

    एसकेएम ने कहा कि उसके निर्धारित कार्यक्रम जारी रहेंगे। एसकेएम ने किसानों से 26 नवंबर को कानून के खिलाफ आंदोलन की पहली बरसी पर सभी विरोध स्थलों पर बड़ी संख्या में इकट्ठा होने का आग्रह किया है।

    ये भी पढ़ें- कृषि कानून के विरोध के दौरान मारे गए 750 किसानों के परिवारों को 3 लाख रुपये देगी तेलंगाना सरकारये भी पढ़ें- कृषि कानून के विरोध के दौरान मारे गए 750 किसानों के परिवारों को 3 लाख रुपये देगी तेलंगाना सरकार

    हालांकि पीएम मोदी ने तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले का ऐलान करते हुए किसान आंदोलन में शामिल किसानों से उनके विरोध प्रदर्शन को छोड़कर घर जाने का आग्रह किया था।

    Comments
    English summary
    farm laws withdrawn SKM to meeting today to decide on next course of action
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X