• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

एग्जिट पोल ने केसीआर को दिया झटका, फेडरल फ्रंट बनाने की उम्मीद हुई खत्म

|

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के लिए 19 मई को आखिरी और सातवें चरण की वोटिंग खत्म होते ही एक्जिट पोल आए। लगभग हर एग्जिट पोल में बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए की वापसी हो रही है। इन एग्जिट पोल में एनडीए को पूर्ण बहुमत मिलने का अनुमान लगाया है। एग्जिट पोल से तेलंगाना के मुख्यमंत्री और टीआरएस प्रमुख को तगड़ा झटका है। केसीआर लंबे समय से गैर कांग्रेस, गैर बीजेपी गठबंधन की केंद्र में सरकार बनाने के लिए कोशिशें कर रहे थे। उन्होंने इसे फेडरल फ्रंट का नाम दिया था और कई विपक्षी दलों को वो एक छतरी के नीचे लाने की कोशिश कर रहे थे। एग्जिट पोल में एनडीए सरकार बनने की संभावना ने उनकी उम्मीदों को तोड़ दिया है।

एग्जिट पोल ने केसीआर को दिया झटका

एग्जिट पोल ने केसीआर को दिया झटका

रविवार को आए एग्जिट पोल में टीआरएस को तेलंगाना में बढ़त मिलने का अनुमान लगाया गया है। लेकिन इसके साथ ही एनडीए को अलग-अलग एग्जिट पोल में बहुमत मिल रहा है। तेलंगाना में दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद केसीआर फेडरल फ्रंट बनाने की कोशिश में लगे थे। राव ने रविवार को एग्जिट पोल आने से एक दिन पहले केंद्र में क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर गैर-कांग्रेस और गैर-बीजेपी गठबंधन बनाने का भरोसा जताया था।

तेलंगाना में टीआरएस को बढ़त

तेलंगाना में टीआरएस को बढ़त

रविवार को आए एग्जिट पोल के मुताबिक तेलंगाना में टीआरएस को 12 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं बाकी सीटें कांग्रेस,बीजेपी और एमआईएम को मिलने का अनुमान है। फेडरल फ्रंट को आकार देने के लिए राव ने ममता बनर्जी, अखिलेश यादव, नवीन पटनायक, पी विजयन, पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा, एम के स्टालिन और जगन मोहन रेड्डी से मुलाकात की थी। लेकिन इनमें से कई नेता उनसे इत्तेफाक नहीं रखते थे। इनमें से केवल आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस और एमआईएम ने खुलकर फेडरल फ्रंट को समर्थन दिया था। इस बीच एग्जिट पोल से के साथ टीआरएस काडर और नेता टीआरएस की जीतने की भविष्यवाणी कर रहे हैं। उनका अनुमाव है कि तेलंगाना में कांग्रेस और बीजेपी अपनी जमीन खो रहे हैं और आंध्र में टीडीपी हार रही है। लेकिन टीआरएस काडर और नेताओं को लगता है कि वास्तविक नतीजों में केंद्र में तस्वीर कुछ अलग होगी।

ये भी पढ़ें- तेलंगाना लोकसभा चुनाव 2019 की विस्तृत कवरेज

यूपीए 100 के आंकड़े को पार करेगी

यूपीए 100 के आंकड़े को पार करेगी

टीआरएस के नेता कहते हैं कि साल 2014 के आम चुनाव में यूपीए के पास सिर्फ 60 सीटें थीं और अब सभी भविष्यवाणियों से पता चलता है कि यूपीए सौ के आंकड़े को पार कर जाएगी और अन्य दलों की सीटों में भी बढ़ोतरी होगी। तेलंगाना राज्य के लिए विभिन्न एजेंसियों के एग्जिट पोल सामने आए हैं। इंडिया टुडे-माई एक्सिस के एग्जिट पोल के मुताबिक टीआरएस को 10 से 12 सीटें मिल सकती हैं। जबकि कांग्रेस को 1 से 3 सीटें मिल सकती हैं। वहीं इंडिया टुडे-माई एक्सिस के पोल ने बीजेपी को भी 1 से 3 सीट मिलने का अनुमान लगाया है। वहीं एआईएमआईएम को 1 सीट मिल सकती है। वहीं दूसरी तरफ टाइम्स नाउ-वीएमआर के एग्जिट पोल में टीआरएस को 13 सीट मिलने का अनुमान है। वहीं कांग्रेस को 2, बीजेपी को 1 और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी को एक सीट मिलने का अनुमान है। रिपब्लिक-सी वोटर एग्जिट पोल में टीआरएस को 14, कांग्रेस को 1, बीजेपी को 1 और एमआईएम को एक सीट मिल रही है। रिपब्लिक-जन की बाट पोल ने टीआरएस को 14 से 15 सीट, बीजेपी को 1 और एमआईएम को 1 सीट मिलने का अनुमान लगाया है। सीएनएन-न्यूज18- आईपीएसओएस ने का अनुमान है कि टीआरएस को 12 से 14 सीट, कांग्रेस 1 से 2 सीट, बीजेपी को 1 से 2 सीटें और एआईएमआईएम को 1 सीट मिल रही है। न्यूज 24-चाणक्य के मुताबिक टीआरएस को 14 से 16 सीटें , कांग्रेस, भाजपा और एमआईएम को शून्य से 1 सीट मिलने का अनुमान है।

ये भी पढ़ें- Lok Sabha exit polls 2019: इसलिए भरोसे के लायक नहीं है एग्जिट पोल

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Exit poll weakened K Chandrasekhar Rao chances of forming federal government in Centre
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more