• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सोशल डिस्टेंसिंग उपायों के साथ संसद का मानसून सत्र चलाने की कवायद, जानिए क्या है योजना?

|

नयी दिल्ली। कोरोनावायरस महामारी के संचरण के लिए महत्वपूर्ण सोशल डिस्टेंसिंग उपायों का प्रमुख भूमिका है। जल्द ही संसद भवन का मानसूत्र सत्र का समय निकट आ रहा है, ऐसे में मानसून सत्र के लिए संसदीय कार्रवाई शुरू करने के लिए राज्यसभा के पदेन सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने इसके आयोजन को लेकर सोमवार को एक बैठक में आभासी यानी ई-संसद की संभावना जैसे विषयों व विकल्पों के बारे में गहन चर्चा की गई।

session

दोनों उच्च और निचले सदन के अध्यक्षों ने बैठक में माना कि ऐसी स्थिति में जब नियमित बैठकें संभव नहीं हैं, इसलिए तब तक संसद के सत्र को सुगम बनाने के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाने की जरूरत है। हालांकि यह विचार भी व्यक्त किया कि आभासी बैठकें आयोजित करने के मुद्दे को दोनों सदनों के संसद की नियमों से संबंधित समिति को विचारार्थ भेजा जाना जरूरी होगा, क्योंकि चर्चा की गोपनीयता जरूरी होती है।

session

कोरोना संकट को लेकर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू ने की मुलाकात

हालांकि लोकसभा की बैठक राज्यसभा के साथ केंद्रीय कक्ष में आयोजित करने सहित कई विकल्पों पर विचार किया गया। इस विकल्प पर भी विचार किया गया कि दोनों सदनों की बैठक एक दिन छोड़ कर आयोजित की जा सकती है। उनका मानना था कि चूंकि संसद की कार्यवाही का आम लोगों के लिए सीधा प्रसारण किया जाता है, अत: गोपनीयता बनाए रखने की कोई ऐसी जरूरत नहीं है। ऐसे में दीर्घावधि में आभासी संसद एक विकल्प हो सकता है।

सोशल डिस्टेंसिंग उपायों के साथ संसद का मानसून सत्र चलाने की कवायद, जानिए क्या है योजना?Read more at: https://hindi.oneindia.com/news/india/exercise-to-run-the-monsoon-session-of-parliament-with-social-distancing-measures-know-what-is-plan-563211.html

session

लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला बोले, Coronavirus को रोकने में भारत काफी हद तक सफल

गौरतलब है आमतौर पर संसद का मानसून सत्र जुलाई-अगस्त में आयोजित किया जाता है। बजट सत्र 24 मार्च को Covid-19 का संक्रमण फैलने के कारण अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया था। सोमवार को आयोजित की गई यह बैठे उपराष्ट्रपति नायडू ने अपने आधिकारिक आवास पर बैठक बुलाई थी, जिसमें दोनों सदनों के महासचिवों ने हिस्सा लिया।

session

मानसून को लेकर मौसम विभाग ने दी राहत भरी खबर, इस साल सामान्य होगी बारिश

हालांकि उपराष्ट्रपति नायडू और लोकसभा अध्यक्ष बिरला का विचार था कि आभासी बैठकें आयोजित करने के विषय को दोनों सदनों की नियमों से जुड़ी समिति को विचारार्थ भेजना जरूरी है। दोनों महासचिवों ने सभापति और स्पीकर को संसद की विभिन्न समितियों की बैठक आभासी माध्यम से आयोजित करने से जुड़े विविध पहलुओं के बारे में जानकारी दी, जिसमें सुरक्षित प्रौद्योगिकी प्लेटफार्म, ऐसी बैठकों से जुड़ी गोपनीयता व अन्य विषय शामिल हैं।

COVID-19: संसद भवन पहुंचा कोरोना वायरस, हाउसकीपिंग कर्मचारी की टेस्ट रिपोर्ट आई पॉजिटिव

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Important social distancing measures play a major role in the transmission of coronavirus epidemics. As the time for the Manasutra session of Parliament House is coming to a close, the ex-officio Speaker of the Rajya Sabha and Vice President Venkaiah Naidu and Lok Sabha Speaker Om Birla held a virtual meeting on Monday to initiate parliamentary proceedings for the monsoon session. That is, topics and options like the possibility of e-Parliament were discussed in depth.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X