वन रैंक वन पेंशन को लेकर भूतपूर्व सैनिक ने की आत्महत्या

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। वन रैंक वन पेंशन को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दे रहे भूतपूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल ने आत्महत्या कर ली है। अपने सुसाइड नोट में ग्रेवाल ने लिखा कि वह सैनिकों के लिए एक बड़ा कदम उठा रहे हैं।

suicide

वन रैंक वन पेंशन को लेकर भूतपूर्व सैनिक ने की आत्महत्या

आपको बता दें कि राम किशन ग्रेवाल हरियाणा के भिवानी जिले में स्थिति बुमला गांव के रहने वाले थे। राम किशन के बेटे ने बताया कि उन्होंने आत्महत्या करने से पहले बताया कि सरकार वन रैंक वन पेंशन को लेकर उनकी मांगें पूरी नहीं कर रही है, इसलिए वह आत्महत्या कर रहे हैं।

वह रक्षा मंत्री को अपना ज्ञापन भी सौंपने वाले थे। अपने ज्ञापन में ही उन्होंने सबसे नीचे लिखा- मैं मेरे देश के लिए, मेरी मातृभूमि के लिए एवं अपने देश के वीर जवानों के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर रहा हूं।

दिल्ली: बिल्डिंग में आग लगने से 3 की मौत, 10 घायल

जैसे ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को राम किशन द्वारा वन रैंक वन पेंशन मुद्दे पर अपनी मांगें न माने जाने के चलते आत्महत्या करने का पता चला, वह तुरंत ही राम किशन के परिवार से मिलने हरियाणा गए।

3 नवंबर को अर्धसैनिक बल देंगे धरना

यह आत्महत्या उस दिन हुई है, जिसके एक दिन बाद ही जंतर मंतर पर अर्धसैनिक बलों द्वारा धरना देने की घोषणा की गई है। अर्धसैनिक बल कॉन्फेडरेशन ऑफ एक्स पैरामिलिट्री फोर्सेस वेलफेयर एसोसिएशन के बैनर तल धरना देंगे।

जासूसी मामले में गिरफ्तार कर्मचारी ने पुलिस को बताए 16 के नाम

आपको बता दें कि अर्धसैनिक बल के लोग जंतर मंतर पर ये धरना पेंशन के मुद्दे पर दे रहे हैं। दरअसल, अर्धसैनिक बलों को सातवें वेतन आयोग में अर्ध सैनिक बलों के सिपाही को सिविल का दर्जा दिया गया है और उनकी तुलना 8 घंटे ड्यूटी देने वाले चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी से की गई है।

2001 में संसद को बचाने वाले अर्धसैनिक बलों को उनकी वीरता का इनाम उनकी पेंशन को बंद करके दिया गया। इन्हीं सबके विरोध में अर्धसैनिक बल जंतर मंतर पर धरना देंगे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ex-serviceman committed suicide over one rank one pension issue
Please Wait while comments are loading...