• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बिहारः आरा सीट पर लेफ्ट और राइट में कांटे की जंग, क्या BJP इस बार जीत का गणित बिठा पाएगी?

|

पटना। राजा भोज की ऐतिहासिक नगरी के रूप में जानी जाने वाली आरा (Arrah) में विधानसभा चुनाव को लेकर गहमागहमी तेज हो गई है। 28 अक्टूबर को पहले चरण में हो रहे चुनाव में यहां मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के प्रत्याशियों के बीच ही है लेकिन अभी तक किसी के भी पक्ष में कोई चुनावी लहर नहीं दिख रही है। मतदाताओं का शांत मूड प्रत्याशियों की बेचैनी बढ़ा रहा है।

Arrah Vidhansabha

भाजपा ने यहां से अपने पुराने नेता अमरेंद्र प्रताप सिंह पर भरोसा जताया है। वहीं महागठबंधन के सीट बंटवारे में राजद ने अपने सिटिंग विधायक का टिकट काटकर इस बार लेफ्ट के हिस्से में दी है। यहां से भाकपा माले ने कयामुद्दीन अंसारी को प्रत्याशी बनाया है। उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा से प्रवीण सिंह मैदान में हैं तो पप्पू यादव की जाप ने ब्रजेश कुमार सिंह को टिकट दिया है।

भाजपा की परंपरागत सीट

भाजपा की परंपरागत सीट रहे इस विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के सामने इस बार कमल खिलाने की चुनौती है। 2015 के चुनाव में महागठबंधन की लहर में भाजपा के चार बार के विधायक अमरेंद्र प्रताप सिंह अपनी सीट नहीं बचा पाए थे। राजद के नवाज आलम ने उन्हें हरा दिया था। हालांकि अमरेंद्र प्रताप सिंह 666 के नजदीकी अंतर से ये मुकाबला चूके थे। यही वजह है कि एक बार फिर भाजपा के टिकट पर एनडीए प्रत्याशी अमरेंद्र प्रताप सिंह को सबसे दमदार माना जा रहा है। वहीं पिछली बार की हार के बाद अमरेंद्र प्रताप सिंह कोई चूक नहीं करना चाहेंगे।

पहली बार लेफ्ट को उम्मीद

आरा विधानसभा सीट पर पिछले कई चुनावों से भाजपा और आरजेडी में ही मुकाबला होता रहा है। राजपूत वोटरों के दबदबे वाली इस सीट पर 2000 से 2010 तक यहां अमरेंद्र प्रताप बीजेपी का कमल खिलाते रहे हैं। लेफ्ट पार्टियां यहां से कभी चुनाव नहीं जीती हैं। ऐसे में माले यहां से जीत का ये सुनहरा मौका नहीं खोना चाहेगी। खासकर जब उसे राजद जैसे प्रमुख दल ने अपने सिटिंग विधायक का टिकट काटकर ये सीट दी है। राजद की पिछली जीत से माले को जरूर उत्साह मिलेगा।

    Tejashwi Yadav ने जारी किया RJD का Manifesto, 10 लाख Jobs समेत किए ये वादे | वनइंडिया हिंदी

    आराम में कुल 327492 मतदाता हैं जिनमें 1,77,520 पुरुष और 149,966 महिलाएं हैं। वैसे तो ये राजपूत वोटरों के प्रभाव वाली सीट है लेकिन शहरी क्षेत्र में वैश्य, कायस्थ वोटरों का ध्रुवीकरण चुनाव परिणाम में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। ये वोटर परंपरागत रूप से भाजपा के समर्थक माने जाते रहे हैं। यही वजह है कि भाजपा अमरेंद्र प्रताप सिंह की जीत की उम्मीद कर रही है।

    पिछले 5 चुनाव के नतीजे

    पिछले 5 चुनाव के नतीजे देखें तो यहां भाजपा का दबदबा दिखता है। 1990 में पहली बार इस सीट पर कमल खिला लेकिन उसके बाद भाजपा ने यहां से जीत का चौका लगाया। 2000 में अविभाजित बिहार के आखिरी चुनाव में भाजपा के अमरेंद्र प्रताप सिंह ने राजद के अब्दुल मलिक को 15,453 वोट से हराकर जीत हासिल की थी। 2005 में फरवरी और अक्टूबर दो बार विधानसभा चुनाव हुए और दोनों बार अमरेंद्र प्रताप सिंह ने राजद के नवाज आलम को पराजित किया। 2010 में फिर से भाजपा के टिकट पर उतरे अमरेंद्र प्रताप सिंह ने लोजपा के श्री कुमार सिंह को 18,940 वोट के बड़े अंतर से हराया। 2015 में जब जेडीयू और आरजेडी साथ मिलकर विधानसभा में उतरे तो अमरेंद्र प्रताप सिंह राजद के नवाज आलम से नजदीकी मुकाबले में 666 वोट से चुनाव हार गए। नवाज आलम को 70,004 वोट मिले थे जबकि अमरेंद्र प्रताप सिंह 69,338 मत प्राप्त करके दूसरे नंबर पर रहे थे।

    Bihar Elections: केंद्रीय मंत्री के आरके सिंह के काफिले पर हमला, गाड़ी रोककर दिखाए गए काले झंडे

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    equation on arrah assembly seat and poll scenario
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X