• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

डायरेक्ट कैश ट्रांसफर के बिना अर्थव्यवस्था को उठाने के लिए नाकाफी हैं आर्थिक पैकेजः विशेषज्ञ

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने लॉकडाउन प्रभावित किसानों और प्रवासी श्रमिकों पर ध्यान केंद्रित करते हुए गुरूवार को 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकज की दूसरी किश्त की घोषणा की, लेकिन अभी तक लाभार्थियों तक प्रत्यक्ष नकदी समर्थन की सही मात्रा पर स्पष्टता सामने नहीं आई है

nirmala

विशेषज्ञों का मानना है कि बगैर कैश ट्रांसफर के अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने और उसे उठाने के लिए घोषित पैकेज इसलिए नाकाफी हैं, क्योंकि राजकोषीय प्रोत्साहन आम तौर पर बजटीय आवंटन के ऊपर और अधिक व्यय को संदर्भित करते हैं। यही कारण है कि वित्त मंत्री सीतारमन द्वारा आय समर्थन को बढ़ावा देने के उपायों के तहत दो किश्तों में घोषित आर्थिक पैकेज सही अर्थों में प्रोत्साहन के योग्य बिल्कुल नहीं हैं।

nirmala

जानिए, शेयर बाजार को प्रभावित करने में क्यों विफल रहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण?जानिए, शेयर बाजार को प्रभावित करने में क्यों विफल रहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण?

दरअसल, वित्त मंत्री सीतारमन द्वारा विभिन्न सेक्टरों के प्रोत्साहन के लिए दो किश्तों में घोषित अधिकांश उपाय ऋण के रूप में हैं, जो एमएसएमई, किसानों अथवा समाज के कमजोर वर्गों को तुरंत लाभ नहीं पहुंचाते हैं। उदाहरण के लिए, ऋण लेने वाले किसान अब से कुछ महीनों के बाद ही फसलों के माध्यम से आय उत्पन्न कर सकेंगे।

nirmala

बैंक कर्ज मामला: निर्मला सीतारमण ने दिया कांग्रेस के आरोपों का जवाब, कहा- जनता को गुमराह कर रहे राहुल गांधीबैंक कर्ज मामला: निर्मला सीतारमण ने दिया कांग्रेस के आरोपों का जवाब, कहा- जनता को गुमराह कर रहे राहुल गांधी

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के प्रिंसिपल इकोनॉमिस्ट और डायरेक्टर (पब्लिक फाइनेंस) सुनील कुमार सिन्हा ने कहा, अब तक की गई ज्यादातर घोषणाएं एनाब्लर्स या फैसिलिटेटर के रूप में हैं। वे अर्थव्यवस्था में जान फूंकने में सक्षम नहीं हैं।

nirmala

गुरुवार को वित्त मंत्री ने सीमांत किसानों, सड़क विक्रेताओं और प्रवासी श्रमिकों के लिए विभिन्न क्रेडिट सहायता पहलों के साथ किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के माध्यम से 2.5 करोड़ किसानों को 2 लाख करोड़ रुपए रियायती ऋण देने की घोषणा की। उन्होंने बुधवार को MSMEs के लिए 3 लाख करोड़ रुपए की जमानत मुक्त स्वत: ऋण की भी घोषणा की थी।

nirmala

बैंक कर्ज मामला: कांग्रेस ने डिफाल्टरों पर कार्रवाई को बताया झूठ, निर्मला सीतारमण से पूछे चार सवालबैंक कर्ज मामला: कांग्रेस ने डिफाल्टरों पर कार्रवाई को बताया झूठ, निर्मला सीतारमण से पूछे चार सवाल

गौरतलब है केंद्र ने पिछले सप्ताह अपने उधार लक्ष्य को 2020-21 के लिए बढ़ाकर 7.8 लाख करोड़ रुपए के बजट से बढ़ाकर 12 लाख करोड़ रुपये कर दिया था, लेकिन यह कोरोनोवायरस महामारी से उत्पन्न आर्थिक संकट से निपटने के उपायों में ज्यादा कारगर होता नहीं दिख रहा है।

nirmala

इसके अलावा RBI द्वारा बाजार में तरलता प्रदान करने और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM-KISAN) योजना के तहत आय समर्थन भी प्रधानमंत्री द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपए की प्रोत्साहन राशि का हिस्सा है।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस की बड़ी बातेंवित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस की बड़ी बातें

हालांकि पीडब्ल्यूसी में आर्थिक सलाहकार सेवाओं में लीडर रेन बैनर्जी का कहना है कि वित्त मंत्री द्वारा MSMEs, NBFC, HFC, MFI और डिस्कम्स के लिए पहले किश्त के दौरान की गई घोषणाएं डीटेल्स के अनुरूप हैं। चूंकि कुल मिलाकर राजकोषीय प्रभाव केवल 4,000 करोड़ रुपए तक सीमित है इसलिए घोषित कुछ उपायों से प्रवासी श्रमिकों को लंबी अवधि के लिए राहत मिलेगी।

nirmala

उन्होंने बताया कि बुधवार को घोषित 6 लाख करोड़ रुपए के वित्तीय पैकेज का प्रभाव वित्तीय वर्ष 2021 के लिए घोषित 20,000 करोड़ रुपए के राजकोषीय घाटे से कम था।

 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज: MSME के बाद आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण किसानों को दे सकती हैं तोहफा 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज: MSME के बाद आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण किसानों को दे सकती हैं तोहफा

उल्लेखनीय है गुरूवार को वित्त मंत्री द्वारा 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की दूसरी किश्त में विशेष रूप से सड़क विक्रेताओं, प्रवासी श्रमिकों और किसानों की पीड़ा को कम करने के लिए उपायों की थी। इनमें केंद्र ने 'वन नेशन, वन राशन कार्ड' शुरू करने की घोषणा शामिल है।

nirmala

वन कार्ड वन नेशन प्रवासी श्रमिकों को किसी भी राज्य में पीडीएस राशन कार्ड का उपयोग करने की अनुमति देता है और गैर-कार्ड धारकों की खाद्यान्न की समस्या को दूर करने के लिए प्रति परिवार को पांच किलो गेहूं या चावल और एक किलो चना मिलेगा।

MSME को लेकर चिदंबरम ने गडकरी और निर्मला पर कसा तंज, पूछा-ऋणदाता कौन और उधारकर्ता कौन ?MSME को लेकर चिदंबरम ने गडकरी और निर्मला पर कसा तंज, पूछा-ऋणदाता कौन और उधारकर्ता कौन ?

English summary
Experts believe that the announced packages to encourage and lift the economy without cash transfers are inadequate because fiscal incentives generally refer to more expenditure over budgetary allocation. This is the reason that the economic package announced in two installments as part of measures to promote income support by Finance Minister Sitharaman is not at all worthy of encouragement in the true sense.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X