• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र में एनडीए सरकार की विफलता के नायक हैं?

|

बेंगलुरू। महाराष्ट्र में एक महीने के सियासी ड्रामे के बाद शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में एनसीपी और कांग्रेस की साझा सरकार ने शपथ ले ली है। महा विकास अगाड़ी मोर्चा बैनर के तहत गठित महाराष्ट्र की नई सरकार कितनों दिनों की मेहमान है, यह तो नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि 30 वर्ष पुराने साझीदार बीजेपी से दामन छुड़ाकर परस्पर विरोधी कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार में शामिल हुए शिवसेना नहीं चाहेगी कि पार्टी की वैचारिक भिन्नताओं के चलते महा विकास अघाड़ी मोर्च के सरकार समय से पहले गिर जाए।

fadnavis

यही कारण है कि शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे शपथ लेने के बाद बुलाए पहले प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकारों द्वारा पूछे गए सेक्युलिरज्म के सवाल को चतुराई से टाल गए। यही नहीं, तीन दलों द्वारा तैयार कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का ख्याल रखते हुए शिवसेना चीफ ने ऐतिहासिक शिवाजी पार्क में सजाए शपथ ग्रहण मंच पर पिता और शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे की तस्वीर लगाने से गुरेज किया।

fadnavis

बड़ा सवाल है कि शिवसेना और बीजेपी गठबंधन के बीच का विलेन कौन था, जिससे 30 वर्ष पुराने गठबंधन को तहस-नहस कर दिया। करीब 18 दिन तक बीजेपी और शिवसेना के बीच सुलह-समझौतों का दौर चला, लेकिन बात बनते-बनते भी अंत तक बिगड़ती चली गई और शिवसेना को सरकार गठन के लिए परस्पर विरोधी दल तलाशने पड़ गए।

fadnavis

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 ने नतीजे के बाद से शुरू हुआ संग्राम 50-50 फार्मूले को लेकर शुरू हुआ था। बीजेपी पर दवाब बनाने के लिए शिवसेना द्वारा शुरू की राजनीति का खेल उस दिन अचानक बिगड़ गया जब पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने 50-50 फार्मूले पर शिवसेना को खरी-खरी सुना दिया।

fadnavis

देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना के 50-50 फार्मूले को सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि एनडीए गठबंधन सरकार में 5 वर्ष के लिए सिर्फ वो ही मुख्यमंत्री रहेंगे, जो शिवसेना के अह्म से टकरा गया था और उसने प्रण कर लिया कि देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में पार्टी एनडीए गठबंधन में शामिल नहीं होगी।

अपनी अह्म के संतुष्टि के लिए शिवसेना 50-50 फार्मूले और डिप्टी सीएम पद भी छोड़ने को तैयार हो गई थी, लेकिन बीजेपी शीर्ष नेतृत्व देवेंद्र फडणवीस की जगह किसी और मुख्यमंत्री बनाने पर राजी नहीं हुईं। शिवसेना भी अच्छी तरह जानती थी कि बीजेपी उसकी स्वाभाविक पार्टनर है और किसी और दल के साथ गठबंधन सरकार का कोई वजूद नहीं हैं।

fadnavis

यही वजह थी कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जारी गतिरोध के खात्मे के लिए शिवसेना चाहती थी कि मामले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ दखल दे। संघ के दखल के लिए शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने बाकायदा संघ प्रमुख मोहन भागवत को पत्र भी लिखा है, जिसमें केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को बीजेपी और शिवसेना के बीच चल रहे सत्ता संघर्ष को सुलझाने की जिम्मेदारी सौंपने की गुजारिश की गई थी।

सूत्रों की मानें तो विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद जब शिवसेना सत्ता के बराबर बंटवारे और ढाई साल के लिए शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने की अपनी जिद पर अड़ी तो भाजपा के रणनीतिकारों ने भी उद्धव ठाकरे को मनाने की जिम्मेदारी नितिन गडकरी को सौंपी थी।

fadnavis

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी उद्धव ठाकरे से मुलाकात के लिए मुंबई पहुंचे तो शिवसेना ने देवेंद्र फडणवीस के विरूद्ध गुस्सा जाहिर करते हुए स्पष्ट कर दिया था कि अगर भाजपा गडकरी को मुख्यमंत्री बनाती है तो शिवसेना अपनी सभी शर्तों से पीछे हटने को तैयार है। उद्धव से मुलाकात के बाद गडकरी नागपुर गए तो उन्होंने सर संघचालक मोहन भागवत से भी शिवसेना की नई शर्त को साझा किया।

Fadnavis

सूत्र बताते हैं कि संघ भी नितिन गडकरी को महाराष्ट्र का अगला मुख्यमंत्री बनाने की शिवसेना के शर्त को हरी झंडी मिल गई थी। संघ की सहमति के बाद यह जानकारी उद्धव ठाकरे को दी गई, जिसके बाद शिवसेना की ओर से उक्त प्रस्ताव बीजेपी कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा को भेजा गया, लेकिन बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व उक्त प्रस्ताव को यह कहकर खारिज कर दिया कि इससे उचित राजनीतिक संदेश नहीं जाएगा।

fadnavis

बीजेपी शीर्ष नेतृत्व ने शिवसेना के मुख्यमंत्री बदलने के प्रस्ताव को दो कारणों से खारिज किया। एक, मुख्यमंत्री बदलना शिवसेना के दबाव को मान लेना होगा, जिसका राजनीतिक संदेश ठीक नहीं जाएगा। दूसरा, बीजेपी महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव का पूरा कैंपने देवेंद्र फडणवीस के नाम पर पड़ा था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद अपने भाषण में दिल्ली में नरेंद्र और मुंबई में देवेंद्र जैसा लोकप्रिय नारा दिया था। इसलिए मुख्यमंत्री के नाम पर कोई समझौता नहीं किया गया। हालांकि कोई यह नहीं बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व नहीं भांप सका कि शिवसेना अह्म की संतुष्टि के लिए वहां तक पहुंच जाएगी, जहां वह आज बैठ गई है।

fadnavis

शिवसेना किसी भी सूरत में देवेद्र फडणवीस को बीजेपी-शिवसेना गठबंधन सरकार में मुख्यमंत्री बनाने को तैयार नहीं थी, लेकिन उसके मुख्यमंत्री बदलने के प्रस्ताव को हरी झंडी नहीं मिली तो उसने तय कर लिया कि अब वह बिना बीजेपी के सरकार गठन करके दिखाएगी।

शिवसेना को यह बात भी बहुत अखर रही थी कि दो हफ्ते हो चले बीजेपी और शिवसेना की खींचतान में एक बार भी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा महाराष्ट्र मुद्दे पर शिवसेना से बातचीत की कोशिश नहीं गई। यह बात शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे कई बार मीडिया के दिए अपने बयानों में यह कह चुके थे कि बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष मामले में हस्तक्षेप क्यों नहीं कर रहे हैं।

fadnavis

उल्लेखनीय है 18 नवंबर तक महाराष्ट्र में गठन को लेकर दोनों दलों के बीच कोशिशें खत्म हो गईं तो और सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। दिलचस्प बात यह है कि देवेद्र फडणवीस के खिलाफ खड़ी शिवसेना ने बीजेपी द्वारा ऑपर किए 16-17 मंत्री पद और डिप्टी सीएम पद को ठुकरा दिया था।

देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ अपनी नाराजगी को शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में भी टारगेट किया गया था। सामना संपादकीय में देवेंद्र फडणवीस को आउटगोइंग सीएम करार दिया गया था। माना जाता है कि बीजेपी शीर्ष नेतृत्व यह आकलन करने में नाकाम रही कि शिवसेना उसके बिना भी सरकार बना सकती है।

fadnavis

महत्वपूर्ण बात यह है कि शिवसेना अच्छी तरह जानती थी कि देवेंद्र फडणवीस को रास्ते से हटा पाना मुश्किल है, क्योंकि देवेंद्र को पीएम नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद हासिल है। शिवसेना यह भी अच्छी तरह से समझती है कि बीजेपी से उससे अलग होकर एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर साझा सरकार में टिकाऊ नहीं होगी। कॉमन मिनिमम प्रोग्राम भी परस्पर विरोधी दलों को साथ लेकर चलने में मुश्किल खड़ी करेगा। यही वजह थी कि शिवसेना ने अंतिम क्षण तक संघ को महाराष्ट्र सरकार के गठन में जारी गतिरोध को दूर करने के लिए शामिल किया था।

fadnavis

दरअसल, भाजपा शीर्ष नेतृत्व को पूरा भरोसा था कि शिवसेना कांग्रेस के साथ नहीं जा सकती और अगर जाना भी चाहेगी तो कांग्रेस कभी भी इसके लिए तैयार नहीं होगी, क्योंकि उसकी धर्मनिरपेक्षता की राजनीति उसे ऐसा नहीं करने देगी। इसलिए कोई अन्य विकल्प न होने से देर-सबेर शिवसेना झुक जाएगी।

fadnavis

लेकिन देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ शिवसेना अपनी जिद में ऐसे अड़ी कि बीजेपी को सतह पर ले आई। शिवसेना की राह आसान करने में एनसीपी चीफ शरद पवार तुरूप के इक्का साबित हुए, जिससे बीजेपी एक भी चाल कामयाब नहीं हो पाई। शरद पवार ने ही असमंजस में फंसी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को राजी किया और असंभव को संभव करने में बड़ा योगदान निभाया।

उद्धव ने उसे मंत्री बनाया, जिसने कभी बालासाहेब ठाकरे के खिलाफ जारी किया था गिरफ्तारी वारंट!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The big question is who was the villain between the Shiv Sena and the BJP alliance, which destroyed the 30-year-old alliance. For about 18 days, there was a period of reconciliation agreements between the BJP and the Shiv Sena, but even as the matter progressed, the situation worsened to the end and Shiv Sena had to find conflicting parties to form the government.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more
X