• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'जब तक जरूरी न हो आरोपियों को गिरफ्तार न करें', जेलों में कोरोना को लेकर SC का बड़ा आदेश

|

नई दिल्ली, 8 मई। कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को जेलों पर कैदियों का भार कम करने को लेकर बड़ा आदेश दिया है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस को वर्तमान में समय में 7 साल से कम सजा के मामलों में यदि बहुत जरूरी नहीं है तो आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही कोर्ट ने अधिकारियों से जेल में कैदियों को चिकिस्ता सुविधा सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया।

कोविड के चलते जेलों में भी स्थिति चिंताजनक

कोविड के चलते जेलों में भी स्थिति चिंताजनक

कोविड-19 की दूसरी लहर के चलते पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है। जेल में कैदियों में कोरोना वायरस के केस मिलने लगे हैं। पहले से क्षमता से अधिक कैदियों को रखे हुए भारतीय जेलों में कोरोना का खतरा बहुत ज्यादा है। इसे लेकर ही कोर्ट ने जेल में कैदियों की संख्या कम रखने के लिए ये आदेश दिया है।

सर्वोच्च अदालत ने राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों में गठित उच्चस्तरीय समितियों को कैदियों की कमजोर श्रेणियों की पहचान करने और उन्हें तत्काल आधार पर जारी करने का भी आदेश दिया है।

पेरोल पाने वाले कैदियों की फिर से हो रिहाई- कोर्ट

पेरोल पाने वाले कैदियों की फिर से हो रिहाई- कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने भी निर्देश दिया है कि जिन कैदियों को पिछले साल पेरोल दिया गया था उन्हें महामारी के चलते फिर से 90 दिन का फरलो दिया जाए।

कोर्ट ने कहा "उच्चाधिकार प्राप्त समिति को ताजा रिहाई पर विचार करने के अलावा, उन सभी कैदियों को रिहा करना चाहिए, जिन्हें 23 मार्च 2020 को पहले दिए गए हमारे आदेश के अनुसार उचित शर्तों के साथ रिहा किया गया था। इस तरह का अभ्यास मूल्यवान समय को बचाने के लिए अनिवार्य है।"

पिछले साल महामारी की शुरुआत के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने 23 मार्च को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उच्च स्तरीय कमेटी गठित करने को कहा था। इस कमेटी को कोविड-19 महामारी के दौरान जेल में भीड़भाड़ कम करने के लिए कैदियों को अंतरिम बेल दिए जाने, पेरोल और सात साल से अधिक समय से रह रहे विचाराधीन कैदियों को बाहर करने पर विचार करना था।

    Coronavirus India Update: Delhi में 24 घंटों में 17,364 नए Covid 19 केस, 332 मौतें | वनइंडिया हिंदी
    कैदियों और जेल कर्मचारियों के नियमित परीक्षण का आदेश

    कैदियों और जेल कर्मचारियों के नियमित परीक्षण का आदेश

    सर्वोच्च अदालत ने ताजा आदेश में कहा है कि कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए। कैदियों और जेल कर्मचारियों का नियमित परीक्षण किया जाए और उन्हें तत्काल उपचार उपलब्ध कराया जाए।

    आदेश में कहा गया "दैनिक स्वच्छता और स्वच्छता के स्तरों को बनाए रखना आवश्यक है। जेल में कैदियों के बीच घातक वायरस के फैलाव को रोकने के लिए उपयुक्त सावधानी बरती जाए।"

    कुछ कैदी अपनी सामाजिक पृष्ठभूमि और वायरस से संक्रमित होने की आशंका के मद्देनजर रिहा होने को तैयार नहीं हैं। कोर्ट ने कहा "ऐसे असाधारण मामलों में अधिकारियों को कैदियों की चिंताओं पर विचार करने के लिए निर्देशित किया जाता है।"

    यूपी: HC ने योगी सरकार से कहा- 'जब तक प्रत्येक व्यक्ति नहीं होता कोरोना से सेफ, तब तक हम भी असुरक्षित'यूपी: HC ने योगी सरकार से कहा- 'जब तक प्रत्येक व्यक्ति नहीं होता कोरोना से सेफ, तब तक हम भी असुरक्षित'

    English summary
    do not handcuffed accused unless necessary in covid time says supreme court
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X