• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जब नवाज शरीफ एक मोहतरमा के लिए गा रहे थे प्यार भरा नगमा, तो क्या RAW ने उसे रिकॉर्ड कर लिया था ?

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 22 जुलाई। कई बार इंटेलिजेंस ब्यूरो, सीबीआई, रॉ या पुलिस का क्राइम ब्रांच यूं ही रोजमर्रा की तरह काम कर रहा होता है कि उसके जाल में अचानक बड़ी मछली फंस जाती है। वे सामान्य दिनों की तरह रेडियो तरंगों को इंटरसेप्ट करतें हैं या फिर सर्विलांस पर रखे गये फोन के कॉल को अटेंड करते हैं । लेकिन एक दिन अचानक दिन उन्हें कुछ ऐसा मिल जाता है कि तहलका मच जाता है।

did raw record a phone call of nawaz sharif when they sing a song?

जैसे सन 2000 में दिल्ली पुलिस रंगदारी के एक मामले की जांच कर रही थी। दिल्ली के एक व्यवसायी को फोन पर धमकी देकर पैसा मांगा जा रहा था। जिन नम्बरों से धमकी भरे फोन आ रहे थे उनको पुलिस ने सर्विलांस पर रखा हुआ था। कुछ दिनों तक दिल्ली पुलिस उन नम्बरों पर आने वाले कॉल को सुनती रही। लेकिन कुछ खास पता नहीं चला। पुलिस का ध्यान इस तरफ थोड़ा कम हो गया। लेकिन एक दिन एक ऐसा शिकार जाल में फंस गया जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी।

उस फोन नम्बर पर दक्षिण अफ्रीका के तत्कालीन क्रिकेट कप्तान हैंसी क्रोनिये की आवाज सुनाई पड़ने लगी। उस समय दक्षिण अफ्रीका की टीम भारत के दौरे पर आयी हुई थी। इसी बातचीत से भंडाफोड़ हुआ था कि क्रिकेट में मैच फिक्सिंग चल रही है। इसी तरह का एक किस्सा 1991 में सामने आया था। दावा किया गया है कि यूं ही अचानक रॉ ने एक खास बातचीत रिकॉर्ड कर ली थी।

एक मोहतमा के लिए नवाज शरीफ ने जब फोन पर गाना गाया !

एक मोहतमा के लिए नवाज शरीफ ने जब फोन पर गाना गाया !

रॉ के पूर्व अधिकारी बी रमन ने अपनी किताब- काव ब्वॉज ऑफ रॉ : डाउन मेमोरी लेन में एक बहुत ही सनसनीखेज बात लिखी है। इस किताब के अध्याय ‘राजीव गांधी एंड रॉ' में लिखा है, 1991 में जब नरसिंह राव भारत के प्रधानमंत्री थे उस समय पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे नवाज शरीफ। 1991 में पाकिस्तानी मीडिया में इस बात की जोरदार अफवाह उड़ने लगी कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का एक भारतीय फिल्म अभिनेता की बहन से रोमांटिक रिश्ता है। जब ये बात पाकिस्तानी मीडिया में फैलने लगी तो पाकिस्तान की जासूसी संस्था आइएसआइ के कान खड़े हो गये। तब आइएसआइ ने सभी सरकारी मुलाजिमों और नेताओं को एक गोपनीय पत्र जारी किया। इस पत्र में कहा गया था, भारतीय जासूसी संस्था रॉ ने पाकिस्तान के प्रमुख लोगों के हनीट्रैप के लिए खूबसूरत महिलाओं की भर्ती की है। अगर आप साहबान में से किसी को भी किसी भारतीय महिला ने अगर सम्पर्क करने की कोशिश की है तो आप हमें इस बात की इत्तला करें। इस पत्र में कहा गया था कि रॉ ने केवल पंजाब में 50 खूबसूरत महिलाओं को हनी ट्रैप के लिए प्लांट किया है। वैसे आइएसआइ ने इस पत्र को अतिगोपनीय श्रेणी में रखा था लेकिन यह मीडिया में लीक हो गया। तब पेशावर के अंग्रेजी अखबार फ्रॉन्टियर पोस्ट ने इस विषय पर एक मजाकिया संपादकीय प्रकाशित किया था।

जब ‘स्कूप’ के चक्कर में फंस गयीं महिला पत्रकार

जब ‘स्कूप’ के चक्कर में फंस गयीं महिला पत्रकार

काव ब्वॉज ऑफ रॉ : डाउन मेमोरी लेन किताब के मुताबिक, 1991 में नरसिंह राव प्रधानमंत्री थे और शरद पवार रक्षा मंत्री थे। एक दिन शरद पवार ने एक महिला पत्रकार को बताया, रॉ ने एक ऐसी टेलीफोन वार्ता रिकॉर्ड की है जिसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और एक भारतीय फिल्म अभिनेता की बहन के बीच खास बातचीत दर्ज है। यह एक गोपनीय फोन टैपिंग है। इस फोनटैप में नवाज शरीफ उस महिला के लिए एक प्यार भरा गीत गा रहे हैं। (तब इस महिला के तीन भाइयों में दो हिंदी सिनेमा के चर्चित अभिनेता थे। एक भाई को फिल्मों में थोड़ी कम काम कामयाबी मिली थी लेकिन टेलीविजन की दुनिया में सफल रहे।) ऐसी जबर्दस्त जानकारी मिलने से महिला पत्रकार बेहद खुश हो गयीं। वे समझीं कि उन्हें एक ‘स्कूप' हाथ लगा है। उन्होंने अपने अखबार में अभिनेता की बहन के नाम को उजागर करते हुए नवाज शरीफ वाली खबर लिखी दी। खबर छपने के बाद हंगामा हो गया। यह फिल्मी परिवार बहुत रसूख वाला था। अभिनेता की बहन इस खबर के छपने से बहुत नाराज हो गयीं। उसने महिला रिपोर्टर और उस अखबार के खिलाफ लीगल नोटिस भेज दी। लीगल नोटिस मिलने के बाद महिला पत्रकार दौड़ी-दौड़ी शरद पवार के पास आयीं। वह चाहती थीं कि इस खबर को प्रमाणित करने के लिए उन्हें कोई दस्तावेज दिया जाए ताकि वे लीगल नोटिस से बचाव कर सकें। लेकिन शरद पवार ने इस बात से ही इंकार कर दिया कि उन्होंने महिला पत्रकार को ऐसी कोई बात बतायी है। उन्होंने उस महिला पत्रकार को पहचानने से भी इंकार कर दिया। (जाहिर है यह अतिगोपनीय जानकारी थी और इसे सार्वजनिक करने का जोखिम कोई नहीं उठा सकता था। जासूसी संस्था की ऐसी फोन टैपिंग को स्वीकार करने से सरकार की फजीहत हो जाती)

पाकिस्तानी चैनल ने भी कुछ ऐसा ही दावा किया

पाकिस्तानी चैनल ने भी कुछ ऐसा ही दावा किया

पाकिस्तानी चैनल फैक्ट फोकस की रिपोर्ट में बताया गया था, भारत की उस महिला ने कहा था कि 1991 में उनके कहने पर नवाज शरीफ ने कश्मीर में फौजी कार्रवाइयां बंद कर दी थीं और जमाते इस्लामी से टक्कर ले ली थी। पाकिस्तान के उर्दू अखबार मसावात ने इस मामले में रिपोर्ट छापी थी। चैनल का दावा था कि जब वह भारतीय महिला पाकिस्तान आयीं तो प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उन्हें राजकीय मेहमान का दर्जा दे कर विशेष स्वागत किया था। यह मामला नेशनल असेम्बली में भी उठा था। चैनल ने एक और वाकये का जिक्र किया है। एक दिन वह उस महिला ने नवाज शरीफ को फोन किया कि मौसम खुशगवार है, आप फौरन यहां आ जाइए। लेकिन नवाज शरीफ उस समय लाहौर में थे और सरकारी काम में व्यस्त थे। तब उस महिला ने उन्हें फोन पर एक गाना सुनाने की गुजारिश की। तब नवाज शरीफ ने टेलीफोन पर तलत महमूद का गया गीत गुनगुनाया- शामे गम की कसम, आज गमगीन हैं हम...। ये गाना फिल्म फुटपाथ है जो दिलीप कुमार फिल्माया गया है। जब नवाज शरीफ फोन पर गाना गा रहे थे तब भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ ने इस पूरी बातचीत को रिकॉर्ड कर लिया था। 1997 में जब पाकिस्तान में चुनाव हो रहा था तब ये मामला खूब उछला था। चैनल फैक्ट फोकस के मुताबिक, इस खबर को प्रकाशित करने वाले अखबार के सम्पादक पर हमला भी हुआ था। जासूसी और खोजी पत्रकारिता में बड़ा करीबी रिश्ता है। लेकिन कई बार ये रिश्ते खतरनाक मोड़ पर पहुंच जाते हैं।

English summary
did raw record a phone call of nawaz sharif when they sing a song?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X