• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पिछले 5 सालों में सिर्फ 61 दिन ऐसे थे जब दिल्ली की हवा सांस लेने लायक!

|

बेंगलुरु। दिल्ली में प्रदूषण का स्तर एक बार फिर तेजी से बढ़ गया है। दिल्ली की खराब क्वालिटी एयर इमरजेंसी की कैटगरी में पहुंच चुकी है। जिस कारण दिल्‍ली की हवा में सांस लेना मुश्किल हो गया है। इतना नहीं दिल्ली और आसपास के शहरों में बीते दो दिनों से हवा एक बार फिर से जहरीली हो गई है।

Pollution

इसी बीच दिल्ली के प्रदषण को लेकर एक और चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आयी है। यह रिपोर्ट सेन्ट्रल पॉल्यूशन कन्ट्रोल बोर्ड द्वारा की गयी एक स्‍टडी पर आधारित है। जिसमें खुलासा किया गया है कि पिछले पांच वर्षों में केवल 61 दिन ही ऐसे थे जब दिल्ली की हवा सांस लेने लायक थी। यानी कि जाड़ा हो या गर्मी दिल्लीवासी साल भर में चंद दिनों को छोड़कर जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं।

Pollution

बता दें दिल्‍ली की हवा पर सीएसई ने वायु प्रदूषण के पिछले आंकड़ो पर जांच पड़ताल कर यह रिपोर्ट तैयार की । इस स्‍टडी के अनुसार पिछले पांच सालों में 1825 दिन में सिर्फ 61 दिन ऐसे थे जब दिल्ली एनसीआर के लोगों को साफ हवा मिली।

Pollution

आपको जानकर हैरानी होगी कि 2015 में सिर्फ पांच दिन ऐसे थे जब दिल्ली की हवा सांस लेने लायक थी। 2016 में तो एक भी दिन ऐसा नहीं था जब दिल्ली की हवा सांस लेने लायक हो। वहीं 2018 में सिर्फ 18 दिन ऐसे थे जब दिल्ली की हवा जहरीली नहीं थी। इस साल अगस्त तक सिर्फ 18 दिन ऐसे थे जब दिल्ली की हवा जहरीली नहीं थी।

Pollution

सीएसई के रिसर्चर अविकल सोमवंशी ने मीडिया को दिए गए साक्षात्कार में बताया कि यह स्‍टडी 2015 से अब तक प्रदूषण के आंकड़ों पर आधारित है। जाड़ा ही नहीं साल भर में महज चंद दिनों को छोड़कर बाकी सभी दिन दिल्ली की हवा सांस लेने लायक नही थी।

Pollution

मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान समय में बढ़ते प्रदूषण की दो बड़ी वजह है। पहला तापमान का गिरना, जिसकी वजह से धूप नहीं निकल रही है और दूसरा हवा की रफ्तार कम होना, जिसकी वजह से पॉल्यूटेंट्स डिस्पर्स नहीं हो पा रहे हैं। मौसम विभाग की माने तो अगले तीन-चार इसमें अत्यधिक सुधार होने की संभावना नही है। जैसे जैसे तापमान में गिरावट आएगी वैसे वैसे समस्‍या बढ़ती जाएगी।

Pollution

दिल्ली के कई इलाकों में एअर क्वालिटी इंडेक्स खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। इन इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स 700 के पार हो चुका है। इतना ही नहीं दिल्ली से सटे शहर फरीदाबाद, गुरुग्राम, गाजियाबाद और नोएडा में भी वायु प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है। बता दें दिल्ली और आसपास के इलाकों के एयर क्वालिटी इंडेक्स लोधी रोड में 500, आनंद विहार में 545, आरके पुरम में 360, गाजियाबाद में 543 और नोएडा में 650 है।

Pollution

हेल्‍थ इमरजेंसी में ऐसे करें खुद का बचाव

आपको बता दें कि एयर क्वालिटी इंडेक्स में 401 से 500 के बीच को 'गंभीर' जबकि 1000 होने पर 'इमरजेंसी' की स्थिति मानी जाती है। इमरजेंसी कैटगरी के प्रदूषण में सेहत का ख्याल रखना भी एक चुनौती भरा काम है। ऐसी स्थिति में ये उपाय करके जानलेवा हवा से खुद को कुछ हद तक बचा सकते हैं।

एक्यूआई इंडेक्स 400 के पार हो तो घर के अंदर रहें, सामान्य वॉक भी ना करें। जब तक प्रदूषण है तब तक बच्चों को बाहर खेलने ना निकलने दें। साइकिलिंग करने से बचें, ज्यादा देर पैदल ना चलें। अगर घर से बाहर निकलना भी पड़े तो बिना मास्क के बिल्कुल न निकलें। इस इमजेन्‍सी की स्थिति में बाइकिंग मास्क सबसे सही रहेंगे।

सांसों से शरीर में पहुंचे जहर को बाहर निकालने के लिए पानी बहुत जरूरी है। इसलिए पानी पीना नहीं भूलें। दिन में तकरीबन 4 लीटर तक पानी पिएं। घर से बाहर निकलते वक्त भी पानी पिएं। खाने में जितना हो सके विटामिन-सी, ओमेगा-3 को प्रयोग में लाएं।

Pollution

शहद, लहसुन, अदरक का खाने में ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। खांसी, जुकाम की स्थिति में शहद और अदरक के रस का सेवन करें। कफ की दिक्कत है तो शहद में काली मिर्च मिलाकर लें. वहीं, लहसुन में एंटीबॉयटिक तत्व होते हैं जो प्रदूषण से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं।

delhi

अस्थमा के मरीज हैं तो दवाइयां हमेशा साथ रखें. गर्भवती महिलाएं घर में रहने के दौरान भी मास्क पहनें। सुबह के वक्त प्रदूषण का स्तर ज्यादा होता है इसलिए मॉर्निंग वॉक पर नहीं जाएं. धूप निकलने के बाद ही बाहर ही निकलें. मोटरसाइकल या साइकिल से बाहर नहीं निकलें। घर के लिए ना सही, लेकिन कार के लिए एयर प्यूरिफायर जरूर लिया जा सकता है।

ज्यादा ट्रैफिक वाले समय में घर से बाहर निकल रहे हैं तो ये बचाव का एक बहुत अच्छा उपाय साबित हो सकता है। झाडू की जगह वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें इससे धूल के कण उसमें जमा हो जाएंगे। क्योंकि झाडूं लगाते समय उड़ने वाली धूल के कण प्रदूषण फैलाने का काम करते हैं। ऐसे में अगर प्रदूषित इलाकों में आप घर में झाडू की जगह वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करेंगे तो सांस लेने में दिक्कत नहीं होगी।

Pollution पर हिलाने वाला सर्वे: Delhi-NCR के 40 फीसदी लोग शहर छोड़ना चाहते हैं

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
According to the study of the Central Pollution Control Board, the air of Delhi was breathable for only 61 days in the last 5 years.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more