• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Nirbhaya case: फांसी टालने के लिए दोषी विनय का ये हथकंडा हुआ फेल, कोर्ट ने खारिज की याचिका

|
    Nirbhaya Case: Convicts के Lawyer का सनसनीखेज आरोप, 'Vinay' को दिया Slow Poison'। Oneindia Hindi

    नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी की तारीख नजदीक आ रही है ऐसे में पूरा देश यही आस लगाए बैठा है कि अब जल्द ही निर्भया को न्याय मिलेगा। दूसरी तरफ तिहाड़ जेल में बंद चारों दोषी किसी तरह अपनी फांसी फिर से टालने का प्रयास कर रहे हैं जिसको लेकर उन्होंने दिल्ली की पटियाला कोर्ट में एक याचिका दायर की। फांसी टालने का दोषियों का यह हथकंडा इस बार काम नहीं आया और कोर्ट ने उनकी याचिका को रद्द कर दिया। बता दें, डेथ वारंट के अनुसार दोषियों को 1 फरवरी को फांसी दी जाएगी।

    दोषी के वकील ने कोर्ट में दायर की थी याचिका

    दोषी के वकील ने कोर्ट में दायर की थी याचिका

    प्राप्त जानकारी के मुताबिक अपनी फांसी टालने के लिए दोषी पवन, अक्षय और विनय ने अपने वकील के जरिए पटियाला कोर्ट में याचिका दायर की थी। दोषियों के वकील एपी सिंह ने पटियाला हाउस कोर्ट में कहा कि तिहाड़ जेल प्रशासन ने उन्हें जरूरी दस्तावेज मुहैया नहीं कराए हैं। एपी सिंह ने कहा कि उन्होंने तिहाड़ जेल प्रशासन से दोषी पवन अक्षय और विनय के दस्तावेज मांगे थे दो अभी तक उन्हें नहीं दिए गए हैं। इस देरी की वजह से क्यूरेटिव पिटीशन और राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजने में देरी हो रही है।

    तिहाड़ जेल ने आरोपों को किया खारिज

    तिहाड़ जेल ने आरोपों को किया खारिज

    दोषियों की इस याचिका को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि इस मामले में अब और कुछ नहीं बचा है जिसपर सुनवाई की जाए। इस पर आगे किसी भी दिशा-निर्देश की जरूरत नहीं और कोर्ट यह याचिका खारिज करता है। निर्भया मामले में तीन दोषियों की ओर से पेश वकील एपी सिंह ने शुक्रवार को कोर्ट में आरोप लगाया था कि तिहाड़ जेल के अधिकारी कुछ दस्तावेज नहीं दे रहे हैं। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने वकील के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उनके द्वारा मांगे गए सभी कागजात पहले ही दे दिए गए हैं।

    1 फरवरी को होनी है फांसी

    1 फरवरी को होनी है फांसी

    गौरतलब है कि दिल्ली में साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप मामले में पीड़िता के परिजनों और देश को अभी तक न्यान नहीं मिला था। जनवरी के पहले सप्ताह में निर्भया की मां की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली की पटियाला कोर्ट ने दोषियों को 22 जनवरी को फांसी देने का डेथ वारंट जारी किया था। लेकिन उनमें से एक दोषी की दया याचिका के चलते फांसी फिर टल गई और कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी करते हुए 1 फरवरी, 2020 को सुबह 6 बजे दोषियों को फांसी पर लटकाने का आदेश दिया है।

    काफी चिंता में हैं चारों दोषी

    काफी चिंता में हैं चारों दोषी

    इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, निर्भया के चारों दोषी डेथ वारंट जारी होने के बाद से काफी चिंता में हैं और खाना भी कम ही खा रहे हैं। तिहाड़ जेल के अधिकारियों का कहना है कि चारों दोषियों का हर रोज मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है। अभी तक चारों दोषियों की मेडिकल रिपोर्ट नॉर्मल है। इसके अलावा चारों की मानसिक हालत भी फिलहाल सामान्य है। जेल अधिकारियों के मुताबिक, दोषियों ने अभी तक अपनी अंतिम इच्छा नहीं बताई है, इसलिए जेल प्रशासन ने चारों दोषियों के परिवारों को हफ्ते में दो बार मिलने की अनुमति दी है।

    हम 1947 में ही आजाद हो गए थे, जो आजादी मांग रहे हैं उन्हें देश छोड़कर जाने दें: डिप्टी CM नितिन पटेल

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Delhi Patiala house Court dismisses plea of ​​Nirbhaya gang rape convict
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X