• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना के कारण बढ़ रही मानसिक समस्‍याएं, दिल्‍ली हाईकोर्ट ने सरकार को परामर्श केन्‍द्र खोलने का दिया आदेश

|

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कारण लोगों को अवसाद और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी बीमारियां हो रही हैं। इसको ध्‍यान में रखते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए जिलों में जल्‍द परामर्श केंद्र खोला जाए। एचसी ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते लोगों को हो रही मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के मददेनजर इन केन्‍द्रों की आवश्यकता पर विचार किया जाए। मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए जल्‍द-जल्‍द से परामर्श केन्‍द्र खोला जाए।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

hc

मालूम हो कि दिल्ली सरकार के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 7725 मरीज़ों को डिस्चार्ज किया गया हैं और अब तक दिल्‍ली में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 31294 है। दिल्‍ली में कोरोना महामारी के तेजी से मरीज बढ़ने के कारण लोग चिंताग्रसित हो रहे हैं। इतना ही नहीं लोग डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं। इसी को ध्‍यान में रखते हुए दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय ने दिल्‍ली सरकार को मेंटल काउसलिंग सेन्‍टर खोलने का आदेश दिया हैं।

बता दें राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 50 हजार के पार पहुंच गई है।जिसको देखते हुए केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में हल्के और बिना लक्षण वाले मरीजों को घर में ही आइसोलेट करने के निर्देश जारी किए थे। जिसके बाद शुक्रवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने उनके इस आदेश को पलट दिया। साथ ही सभी कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए 5 दिन का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन अनिवार्य कर दिया था। राज्य सरकार के लगातार विरोध के चलते अब उपराज्यपाल ने अपना ये फैसला वापस ले लिया हैउपराज्यपाल ने ट्वीट करते हुए लिखा कि हल्के और बिना लक्षण वाले ऐसे मरीज, जिनके घर पर होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं है, सिर्फ उन्हें इंस्टीट्यूशनल आइसोलेशन में रखा जाएगा। इससे पहले मुख्यमंत्री केजरीवाल ने शनिवार दोपहर को हुई स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (SDMA) की बैठक में भी ये मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा कि जब ICMR ने हल्के और बिना लक्षण वाले मरीजों को घर पर आइसोलेट करने की इजाजत दे दी है, तो दिल्ली में अलग-अलग नियम क्यों लागू किए जा रहे हैं। उन्होंने पूछा कि क्वारंटाइन सेंटर्स में डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों की व्यवस्था कहां से की जाएगी। सरकार के विरोध के बाद उपराज्यपाल ने शनिवार शाम को अपना आदेश वापस ले लिया। वहीं मामले में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि होम आइसोलेशन की सुविधा को फिर से शुरू कर दिया गया है। जो समस्याएं थीं उसको SDMA की बैठक में सुलझा लिया गया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के अस्‍थायी सदस्‍य बनने पर जानिए चीन ने क्या दी प्रतिक्रिया

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Delhi High Court orders government to open counseling center due to coronary epidemic
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X