• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दिल्‍ली: कोरोना से महिला की हुई मौत, रिश्‍तेदारों ने किया इंकार तो डाक्‍टर ने खुद किया अंतिम संस्‍कार

|

नई दिल्‍ली, 8 मई: कोरोना की लहर में हर दिन संक्रमण से मरने वालों की संख्‍या बढ़ती ही जा रही है। अस्‍पतालों मे डाक्‍टर अपनी जान की परवाह किए बिना मरीजों का 24 घंटे इलाज कर रहे हैं। इसके साथ ही इस मुश्किल दौर में कई डाक्‍टर ऐसे भी हैं जो इंसानियत की नई मिसाल कायम कर रहे है। ऐसा ही एक वाकया देश की राजधानी दिल्‍ली में आया है जहां अस्‍पताल में भर्ती मरीज की कोरोना के चलते मौत हो गई और रिश्‍तेदारों और पड़ोसियों ने बॉडी अपने साथ ले जाने से इंकार कर दिया जिस कारण महिला का शव घंटों अस्‍पताल में पड़ा रहा। ऐसे में एक डाक्‍टर ने उस अनजान महिला का शव शमशान घाट पर लेजाकर विधि- विधान से अंतिम संस्‍कार करवाया।

pic

ये मामला दिल्‍ली के सरदार वल्लभभाई पटेल कोविड केयर केंद्र का है। जहां एक महिला की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार नहीं हो पा रहा था। कोरोना संक्रमित होने के कारण उसका बेटा भी अस्‍पताल में भर्ती था। परिजनों और आस-पास के लोगों को जब महिला की मौत की खबर दी गई तो उन्‍होंने अंतिम संस्‍कार करवाने से इंकार कर दिया। इस बात का पता जब हिंदुराव हॉस्टिपटल के असिस्‍टेंट प्रोफेसर डॉक्‍टर वरुण को पता चली तो उनका दिल पसीज गया और उन्‍होंने महिला का अंतिम संस्‍कार करने का जिम्‍मेदारी ली।

हिंदूराव अस्पताल के सहायक प्रोफेसर डॉ. वरुण ने किया वृद्ध महिला का अंतिम संस्‍कार

हिंदूराव अस्पताल के सहायक प्रोफेसर डॉ. वरुण ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर महिला का शव का निगम बोध घाट पर ले गए और उसका अंतिम संस्‍कार करवाया। डाक्‍टर वरुण ने बताया कि उनके एक डाक्‍टर मित्र ने फोन पर बताया था कि 77 वर्षीय निर्मला चन्दोला नाम की महिला का कोविड 19 संक्रमण के चलते अस्पताल में निधन हो गया है।

इंसानियत: जावेद खान ने पत्‍नी के गहने बेच कर ऑटो को बनाया एंबुलेंस, कोरोना मरीजों की कर रहे फ्री सेवाइंसानियत: जावेद खान ने पत्‍नी के गहने बेच कर ऑटो को बनाया एंबुलेंस, कोरोना मरीजों की कर रहे फ्री सेवा

लॉकर में रखवाई अस्थियां, ताकि बेटा गंगा में कर सके प्रवाहित

महिला का एक बेटा था वो भी अस्‍पताल में भर्ती था और महिला के रिश्‍तेदारों और आस-पास रहने वाले लोगों ने मना कर दिया कि वो लाश का अंतिम संस्‍कार नहीं करवाएंगे जिसके बाद मैंने अपने दोस्‍तों की सहायता से से निर्मला के शव को निगम बोध घाट पर स्वयं विधिवत तरीके से अंतिम संस्कार करा गया। अस्थियो के लिए लॉकर की व्यवस्था करवाई गई जिससे मृतक महिला निर्मला का बेटा ठीक होने के बाद उनकी अस्थियां गंगा नदी में विधि-विधान से प्रवाहित करवा सके।

https://www.filmibeat.com/photos/naina-ganguly-56963.html?src=hi-oi
Photos: नैना गांगुली की इन तस्वीरों ने इंटरनेट पर मचाई खलबली, देखकर उड़ जाएंगे होश!

English summary
Elderly woman dies from Corona, if family does not come, the doctor gave her 'Funerall'
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X