• search

बच्चों के ग़ुस्से से निपटना ऐसे है आसान

By Bbc Hindi
बच्चों का गुस्सा
Getty Images
बच्चों का गुस्सा

कुछ दिन पहले सुबह-सुबह अख़बार उठाया तो एक ख़बर ने अपनी ओर ध्यान खींच लिया. ख़बर में बताया गया था कि दिल्ली के कृष्णा नगर इलाके के एक सरकारी स्कूल में एक छात्र ने स्कूल के ही दूसरे छात्र पर चाकू से हमला किया था.

ख़बर के मुताबिक़ दोनों छात्रों के बीच सुबह की प्रार्थना के बाद झगड़ा हुआ, जिसके बढ़ने पर एक छात्र अधिक ग़ुस्से में आ गया और उसने इस हमले को अंजाम दिया.

ऐसा नहीं है कि स्कूली छात्रों के बीच हुई आपसी झड़प का यह कोई पहला मामला हो. इससे पहले भी स्कूलों में छात्रों के बीच ग़ुस्से में एक दूसरे के साथ मार पीट के आरोप लगते रहे हैं.

गौर करने वाली बात यह है कि हिंसा की ऐसी कई घटनाओं में किशोर उम्र के बच्चे शामिल पाए जा रहे हैं. बच्चों में ग़ुस्से की यह प्रवृत्ति चिंताजनक हालात पैदा कर रही है.

किशोरों में युवाओं से ज़्यादा ग़ुस्सा

संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनिसेफ़ की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में कुल 120 करोड़ किशोर हैं जिनकी उम्र 10 से 19 साल के बीच हैं. यूनिसेफ़ की यह रिपोर्ट बताती है कि साल 2011 की जनगणना के अनुसार भारत में किशोरों की संख्या 24 करोड़ से अधिक है.

यह आंकड़ा भारत की जनसंख्या का एक चौथाई हिस्सा है. इतना ही नहीं दुनिया भर के सबसे अधिक किशोर विकासशील देशों में ही रहते हैं.

बच्चों में ग़ुस्से की प्रवृत्ति उनकी उम्र के अनुसार बदलती जाती. साल 2014 में इंडियन जर्नल साइकोलॉजिकल मेडिसिन में प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार लड़कों में लड़कियों के मुक़ाबले अधिक ग़ुस्सा देखने को मिलता है.

इस रिसर्च में शामिल लोगों में जिस समूह की उम्र 16 से 19 वर्ष के बीच थी उनमें ज़्यादा ग़ुस्सा देखने को मिला जबकि जिस समूह की उम्र 20 से 26 वर्ष के बीच थी उनके थोड़ा कम ग़ुस्सा. ये आंकड़े दर्शाते हैं कि किशोर उम्र में युवा अवस्था के मुक़ाबले अधिक ग़ुस्सा देखने को मिलता है.

इसी तरह लड़कों में लड़कियों के मुक़ाबले अधिक ग़ुस्सा देखने को मिला. हालांकि, इसी रिसर्च के अनुसार 12 से 17 आयु वर्ग की लड़कियों में क़रीब 19 प्रतिशत लड़कियां अपने स्कूल में किसी न किसी तरह के झगड़े में शामिल मिलीं.

यह रिसर्च भारत के 6 प्रमुख स्थानों के कुल 5467 किशोर और युवाओं पर की गई थी. इस रिसर्च में दिल्ली, बेंगलुरु, जम्मू, इंदौर, केरल, राजस्थान और सिक्किम के किशोर और युवा शामिल थे.

ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर बच्चों की इस हिंसक प्रवृत्ति के पीछे क्या वजह है?

बच्चों में गुस्सा
BBC
बच्चों में गुस्सा

मोबाइल गेम का असर

मनोवैज्ञानिक और मैक्स अस्पताल में बच्चों की कंसल्टेंट डॉक्टर दीपाली बत्रा बच्चों के हिंसक होने के पीछे कई कारण बताती हैं. वो कहती हैं कि सबसे बड़ी वजह है यह पता लगाना कि बच्चों पर उनके परिजन कितनी नज़र रख रहे हैं.

डॉक्टर बत्रा कहती हैं, ''बड़े शहरों में माता-पिता बच्चों पर पूरी तरह से निगरानी नहीं रख पाते. बच्चों को व्यस्त रखने के लिए उन्हें मोबाइल फ़ोन दे दिया जाता, मोबाइल पर बच्चे हिंसक प्रवृत्ति के गेम खेलते हैं.''

कोई वीडियो गेम बच्चों के मस्तिष्क पर कैसे असर कर सकता है, इसके जवाब में डॉ. बत्रा कहती हैं, ''मेरे पास जितने भी बच्चे हिंसक स्वभाव वाले आते हैं उनमें देखने को मिलता है कि वे दिन में तीन से चार घंटे वीडियो गेम खेलने में बिताते हैं. इस खेल में एक दूसरे को मारना होता है, जब आप सामने वाले को मारेंगे तभी जीतेंगे और हर कोई जीतना चाहता है. यही वजह है कि वीडियो गेम बच्चों के स्वभाव को बदलने लगते हैं.''

साल 2010 में अमरीका के सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला लिया था कि बच्चों को वो वीडियो गेम ना खेलने दिए जाएं जिसमें हिंसक प्रवृत्ति जैसे हत्या या यौन हिंसा को बढ़ावा दिया जा रहा हो.

इस फ़ैसले के पांच साल पहले कैलिफ़ोर्निया के गवर्नर ने अपने राज्य में वायलेंट वीडियो गेम क़ानून बनाया था, जिसके तहत 18 साल से कम उम्र के बच्चों को हिंसक वीडियो गेम से दूर रखने की बात थी.

इसके अलावा अमरीकन साइकोलॉजी की तरफ़ की गई रिसर्च में भी इस बारे में बताया गया था कि वीडियो गेम इंसानों के स्वभाव को बदलने में अहम कारक साबित होते हैं.

पॉर्न तक पहुंच

मोबाइल तक बच्चों की पहुंच के साथ-साथ इंटरनेट भी बच्चों को आसानी से उपलब्ध हो जाता है और इसके साथ ही शुरू होती है यूट्यूब से लेकर पोर्न वीडियो की दुनिया.

देहरादून की रहने वाली पूनम असवाल का बेटा आयुष अभी महज़ 5 साल का है, लेकिन इंटरनेट पर अपने पसंदीदा वीडियो आसानी से तलाश लेता है. पूनम बताती हैं कि उनके बच्चे ने उन्हीं से मोबाइल पर वीडियो देखने सीखे.

पूनम अपने बच्चे की इस आदत से बेहद परेशान हैं, अपनी परेशानी बताते हुए वह कहती हैं, ''शुरू में तो मुझे ठीक लगा कि आयुष मोबाइल पर व्यस्त है, लेकिन अब यह परेशानी का सबब बनता जा रहा है, वह हिंसक कार्टून के वीडियो देखता है. इंटरनेट पर गाली-गलौच और अश्लील सामग्री के लिंक भी रहते हैं, डर लगा रहता है कि कहीं वह उन लिंक पर क्लिक कर ग़लत चीज़ें ना देख ले.''

डॉक्टर बत्रा भी इस बारे में विस्तार से बताती हैं, ''इंटरनेट की आसान पहुंच से पोर्न भी बच्चों को आसानी उपलब्ध हो रहा है और यह किसी एडिक्शन की तरह काम करता है. इसमें दिखने वाली हिंसा का बच्चों के मस्तिष्क पर बहुत बुरा असर पड़ता है.''

पोर्न के असर को जांचने के लिए साल 1961 में मनोवैज्ञानिक एलबर्ट बंडुरा ने एक प्रयोग किया था. उन्होंने बच्चों को एक वीडियो दिखाया जिसमें एक आदमी गुड़िया को मार रहा था, इसके बाद उन्होंने बच्चों को भी एक-एक गुड़िया पकड़ाई. गुड़िया मिलने के बाद उन बच्चों ने भी अपनी-अपनी गुड़िया के साथ वही किया की जो वीडियो वाला आदमी कर रहा था.

बच्चा
Getty Images
बच्चा

मां-बाप का आपसी रिश्ता

शहरी जीवन में माता-पिता दोनों ही नौकरीपेशा हो गए हैं, ऐसे में आमतौर पर बच्चों के लिए वक़्त निकालना मुश्किल होता जा रहा है. इसके साथ-साथ विवाहेत्तर संबंध के मामले भी बहुत हो रहे हैं.

माता पिता का आपस में कैसा रिश्ता है, इसका असर सीधे तौर पर बच्चों पर पड़ता है.

डॉक्टर बत्रा इस विषय में कहती हैं, ''जब बच्चे देखते हैं कि उनके माता-पिता जो कि उसे हमेशा शांत रहने और सभ्य व्यवहार करने की सलाह देते हैं, वे ख़ुद ही आपस में झगड़ रहे हैं तो बच्चा भी ग़ुस्सा आने पर हिंसक रुख अपनाने लगता है. बच्चों का दिमाग़ इस बात पर स्थिर रहता है कि चीज़ें उनके अनुसार ही होनी चाहिए, जब कोई चीज़ उनकी समझ के विपरीत जाती हैं तो वे अलग ढंग से रिएक्ट करते हैं और इसका नतीजा कई मौक़ों पर हिंसक रूप ले लेता है.''

डॉक्टर बत्रा एक और बात कि ओर हमारा ध्यान ले जाती हैं, वे कहती हैं कि माता-पिता के आपसी रिश्ते के साथ-साथ उनका बच्चे के प्रति कैसा व्यवहार है यह भी बहुत अधिक मायने रखता है.

अपने एक क्लाइंट के बारे में डॉक्टर बत्रा ने बताया, ''मेरे एक क्लाइंट थे जो अपने बच्चे को छोटी-छोटी ग़लतियों पर बुरी तरह मारते-पीटते थे, इसका नतीजा यह हुआ कि उनका बच्चा अपना गुस्सा साथी बच्चों पर निकालता था. वह स्कूल में बहुत झगड़ता था.''

बीबीसी में प्रकाशित एक रिपोर्ट बताती है कि लंबे वक़्त तक जब माता-पिता के संबंध ख़राब चलते हैं तो इससे बच्चों पर उनकी उम्र के अनुसार असर पड़ता है, जैसे नवजात बच्चे की दिल की धड़कने बढ़ जाती हैं, 6 माह तक के बच्चे हार्मोंस में तनाव महसूस किया जाता है वहीं थोड़े बड़े बच्चों को अनिंद्रा जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

मां बाप
Getty Images
मां बाप

हॉर्मोन में आता है बदलाव

मोबाइल फ़ोन, इंटरनेट की उपलब्धता और माता-पिता का नौकरी पेशा होना यह सब आधुनिक जीवन के उदाहरण हैं, लेकिन बच्चों में हिंसक प्रवृत्ति पहले के वक़्त में भी देखने को मिलती रही है.

जब मोबाइल या इंटरनेट का बहुत अधिक चलन नहीं था तब भी बच्चे हिंसक रुख़ दिखाया करते थे, इसकी क्या वजह है.

डॉक्टर बत्रा बताती हैं कि किशोर अवस्था में आने पर बच्चों में हॉर्मोनल बदलाव होने लगते हैं, उनका मस्तिष्क और शरीर के अन्य अंग तेजी से विकसित हो रहे होते हैं.

वे बताती हैं, ''किशोरावस्था 11 से 16 साल तक समझी जाती है, इस दौरान बहुत तेज़ी से दिमाग़ का विकास हो रहा होता है, इस उम्र में दिमाग़ के भीतर लॉजिकल सेंस का हिस्सा विकसित हो रहा होता है, लेकिन इमोशनल सेंस वाला हिस्सा विकसित हो चुका होता है. ऐसे में बच्चा अधिकतर फ़ैसले इमोशनल होकर लेता है.''

यही वजह है कि इस उम्र के दरम्यान बच्चों के व्यवहार में आसपास के हालात का सबसे अधिक असर पड़ता है, वे चिड़चिड़े-ग़ुस्सैल और कई मौकों पर हिंसक हो जाते हैं.

बच्चे
Getty Images
बच्चे

कैसे पहचाने बच्चे का बदलता व्यवहार

बच्चों के व्यवहार में बदलाव आ रहा है, इसकी पहचान कैसे की जाए. इस बारे में डॉक्टर बत्रा बताती हैं, ''अगर छोटी उम्र में ही बच्चा स्कूल जाने से आना-कानी करने लगे, स्कूल से रोज़ाना अलग-अलग तरह की शिकायतें आने लगे, साथी बच्चों को गाली देना, किसी एक काम पर ध्यान ना लगा पाना. ये सभी लक्षण दिखने पर समझ जाना चाहिए कि बच्चे के व्यवहार में बदलाव आने लगा है और अब उस पर ध्यान देने का वक़्त है.

ऐसे हालात में बच्चों को वक़्त देना बहुत ज़रूरी हो जाता है, उसे बाहर घुमाने ले जाना चाहिए, उसके साथ अलग-अलग खेल खेलने चाहिए, बातें करनी चाहिए, बच्चे को बहुत ज़्यादा समझाना नहीं चाहिए, हर बात में उसकी ग़लतियां नहीं निकालनी चाहिए.

बच्चों के व्यवहार के लिए 11 से 16 साल की उम्र बेहद अहम होती है, यही उनके पूरे व्यक्तित्व को बनाती है. ऐसे में उनका विशेष ध्यान देना बेहद ज़रूरी हो जाता है.

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Dealing with children's anger is such a simple

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X