• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Salute to Doctors: मरीजों की जान बचाने के लिए लिए जान हथेली पर लेकर खड़े हैं डॉक्टर्स!

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी की भयावता का अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है, जिससे संक्रमित मरीज ही नहीं, मरीजों का इलाज करने वाल डाक्टरों की जिंदगी का खतरा बराबर बना रहता है, लेकिन दुनिया भर के डाक्टर और स्वास्थ्यकर्मी मरीजों के इलाज और सेवा में जान हथेली पर लेकर पेशेवर जिम्मेदारी में जुटे हुए हैं।

भारत में तैयार हो रही हैं कोरोना वायरस की दो वैक्सीन, जानिए इनसे जुड़ी हर बात

doctor

चीन के वुहान सिटी से पूरी दुनिया में फैली महामारी में डाक्टर्स को भी संक्रमित होकर अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। इसलिए सबसे पहला नाम चीनी डॉक्टर ली वेनलियान्ग का लिया जा सकता है, जिनकी मौत कोरोना वायरस संक्रमित मरीज के इलाज करते हुए वायरस की चपेट में आने से हुई थी। डाक्टर ली वेनलियान्ग ही वो शख्स थे, जिन्होंने कोरोना वायरस को लेकर सबसे पहले दुनिया को चेताया था।

doctor

दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

कोरोनो से डाक्टर भी सुरक्षित नहीं, फिलीपींस में अब तक 9 डॉक्टरों की ले चुकी है जान!

अब तक पूरी दुनिया में सैकड़ों डाक्टर कोरोना संक्रमण के चलते क्वारेंटीन किए जा चुके हैं और दर्जनों डाक्टरों की मौत हो चुकी है। इनमें चीन, इटली, फिलीपींस, ब्रिटेन और अमेरिका का नाम लिया जा सकता हैं, जहां स्वास्थ्यकर्मी बुरी तरह से संक्रमित होकर मौत के गाल समाए हैं।

doctor

कोरोना संक्रमित मरीजों की इलाज और सेवा में दिन-रात जुटे स्वास्थ्यकर्मी संक्रमण की भयावहता से भली-भांति परिचित हैं, लेकिन अपने पेशेवर जिम्मेदारी को बखूबी निभाते आ रहे हैं। पेशेगत जिम्मेदारी निभा रहे डाक्टरों, नर्स और वार्ड ब्वॉय सभी की अपनी फेमली है और ऐसा नहीं है कि उनके परिवार वालों की उनकी चिंता नहीं है, लेकिन स्वास्थ्यकर्मी अपनी चिंता को ताख पर रखकर अपनी फर्ज को ऊपर रखकर मरीजों की इलाज में रत हैं।

doctor

गुजरात में 14 माह का नवजात मिला कोरोना पॉजिटिव, लंबे समय से घर पर ही था परिवार!

एम्स दिल्ली में तैनात डा अमनदीप लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की इलाज में लगे हुए हैं। एएनआई से बातचीत में उन्होंने बताया कि उनकी मां लगातार मरीजों की इलाज और सेवा करने के लिए कहती रहती है। यही नहीं, उन्होंने बताया कि उनकी मां लगातार वॉयस मैसेज के जरिए उनका हालचाल लेती रहती है, जो बेहद इमोशनल होते हैं।

doctor

एम्स के Covid19 वार्ड में तैनात डा अमनदीप लोगों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना से बचाव के लिए लोगों को अपने घरों में रहना चाहिए, इसके जरिए ही कोरोना वायरस को हराया जा सकता है।

Good News: कोरोना वैक्सीन का 14 लोगों पर सफल रहा ट्रायल, जगी उम्मीद!

एम्स में Covid19 वार्ड में तैनात डा अंबिका अपने अनुभव शेयर करते हुए रो पड़ी। उन्होंने बताया कि वो अपने परिवार से काफी दिनों से नहीं मिली है। डा. अंबिका कहती है कि जरा से असावधानी से कोरोना महामारी किसी को भी हो सकता है और ऐसे समय अगर उन्हें कुछ हो जाए तो हम उनके पास नहीं हो सकते हैं।

हालांकि डा. अंबिका ने बताया कि उनके परिवार ने महामारी के दौरान पेशेगत खतरे को लेकर कभी भी उनकी फेमली ने दबाव नहीं बनाया। शायद यही कारण है कि मैं लगातार अपनी पेशेगत जिम्मेदारियों को लगातर जुड़ी हुई हूं, लेकिन दोनों तरफ यह डर बना रहता है कि अगर कोई संक्रमित हो गया तो शायद एकदूसरे से जल्दी मिल पाएंगे।

doctor

इस बीच जब कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले और उनके साथ दुर्व्यहार की खबरें आती हैं तो डाक्टर और उनके परिवार पर क्या बीतती होगी, इसे आसानी से समझा जा सकता है, जिन्होंने मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए अपने परिवार के सदस्यों को जान हथेली पर रखकर हॉस्पिटल में फर्ज और देशसेवा के लिए न्यौछावर किया हुआ है।

doctor

तब्लीगी जमातः अंडमान में मिले 10 कोरोना संक्रमितों का निजामुद्दीन से कनेक्शन

राजधानी दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज में जमा हुए 1500 से अधिक लोगों को जब निकालकर हॉस्पिल पहुंचाया गया और तो उनके पुलिस और डाक्टरों पर थूकने की खबरें सामने आईं। ऐसी ही खबरें उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले से भी आईं, जहां कथित रूप से तब्लीगी जमात के लोगों द्वारा महिला मेडिकल स्टॉफ के साथ बदसलूकी की खबरें आई।

एक छोटी गलती और कोरोना वायरस की सबसे बड़ी शिकार बन गई इटली, क्या थी वह गलती?

ऐसी ही खबर मध्य प्रदेश के इंदौर में भी देखने को मिला, जहां मरीजों का परीक्षण करने गए महिला स्वास्थ्यकर्मियों पर पत्थर फेंके गए। बिहार के मुंगेर में भी ऐसी खबरें मिली, जहां मरीजों द्वारा स्वास्थ्यकर्मियों से बदसलूकी की गईं। डाक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले और थूकने की खबरें अब तक रोजमर्रा सुर्खिया बन रही हैं।

doctor

सवाल उठता है कि कोरोना वायरस जैसी भयावह महामारी के बीच मरीजों के लिए जान पर दांव पर लगाने वाले डाक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों के प्रति आखिर मरीजों और पब्लिक की कुछ जवाबदेही बनती है या नहीं। सरकारी ड्यूटी में तैनात स्वास्थ्यकर्मियों पर संक्रमण का खतरा उतना ही है, जितना वहां भर्ती होने आए संक्रमित मरीजों को है।

सावधान! बुजुर्ग ही नहीं, 18 से 49 आयु वर्ग वाले भी हो रहे हैं कोरोना वायरस के शिकार!

लेकिन न ही डाक्टर और न ही परिवार अपनी जिम्मेदारियों और दायित्वों से पीछे हटने को तैयार हो रहा है। डाक्टरों की पेशेगत ईमानदारी ही कहेंगे कि दुनियाभर सैंकड़ों स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान गंवा चुके हैं, लेकिन वो अपने फर्ज के लिए और मरीजों के प्रति अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हटे हैं।

doctor

उल्लेखनीय है अब तक पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करते हुए करीब अब तक 100 से अधिक डाक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में से लगभग आधे स्वास्थ्यकर्मी इटली में हुई है। अमेरिका में मार्च महीने के पहले सप्ताह में अपने पहले डाक्टर को खोया, जो कि आपातकालीन वार्ड में तैनात था। दुनिया भर में प्रकोप के मद्देनजर कई अन्य देशों में स्वास्थ्य कर्मचारियों की मृत्यु हो गई है, इनमें चीन, यू.के., फ्रांस, स्पेन, फिलीपींस और ईरान शामिल हैं।

हेल्थकेयर में इटली नंबर 2, भारत टॉप 100 में भी नहीं? कोरोना से सुरक्षा है भारत का एकमात्र हथियार!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Doctors have also got infected and lost their lives in a worldwide epidemic from Wuhan City in China. Therefore, the first name can be taken from the Chinese doctor Li Wenliang, who died due to the virus while treating the corona virus infected patient. Doctor Li Wenliang was the person who first warned the world about the corona virus.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more