• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अहम फैसले में गैंगरेप पीड़िता को कोर्ट ने गर्भपात कराने की दी इजाजत

|

नई दिल्ली। गैंगरेप पीड़िता के मामले में हाई कोर्ट ने अहम फैसला देते हुए उसे गर्भपात की इजाजत दे दी है। 19 वर्षीय युवती का बदमाशों ने अपहरण के बाद गैंगरेप किया था, जिसके बाद वह गर्भवती हो गई थी। पीड़िता ने कोर्ट से अपील की थी कि उसे गर्भपात कराने की इजाजत दी जाए, जिसे कोर्ट ने स्वीकार लिया है और पीड़िता को गर्भपात की इजाजत दे दी है। पीड़िता को करीब 9 हफ्ते का गर्भ है। उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ के जज जस्टिस वीरेंद्र सिंह ने युवकी की याचिका को स्वीकार करते हुए उसपर सोमवार को सुनवाई की। पीड़िता ने कोर्ट में याचिका दायर करके कानूनी रूप से गर्भपात की इजाजत मांगी थी।

court

इस मामले में कोर्ट ने मेडिकल बोर्ड के गठन का आदेश दिया था। इस मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया है कि महिला का सुरक्षित गर्भपात कराया जा सकता है। बता दें कि देवास जिले में कुछ समय पहले युवती को कुछ बदमाशों ने अपहरण करके उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया था। जिसके बाद इस मामले की सुनवाई देवास की एक कोर्ट में चल रही है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि पीड़िता का गर्भपात के साथ भ्रूण का डीएनए सैंपल लिया जाए और उसे सुरक्षित रखा जाए। पीड़िता के वकील धर्मेंद्र चेलावत ने कहा कि कोर्ट ने कहा कि सामूहिक बलात्कार की वजह से पीड़िता मानसिक सदमे में है और अपने भविष्य के लिए वह गर्भ से मुक्ति चाहती है।

इसे भी पढ़ें- धर्म छिपाकर युवक ने बर्बाद की दो लड़कियों की जिंदगी, जाकिर नाईक के ​वीडियो दिखाकर करता था माइंडवॉश इसे भी पढ़ें- धर्म छिपाकर युवक ने बर्बाद की दो लड़कियों की जिंदगी, जाकिर नाईक के ​वीडियो दिखाकर करता था माइंडवॉश

English summary
Court permits gang rape victim for abortion in Madhya Pradesh.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X