• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या Coronavirus नाक के माध्‍यम से मस्तिष्‍क में पहुंच सकता हैं, जानें क्या कहता है शोध

|

नई दिल्‍ली। कोरोनावायरस का प्रकोप सर्दियां शुरू होते ही एक बार फिर बढ़ गया है। कोविड 19 मनुष्‍य के शरीर के अंगों को प्रभावित कर रहा है इसका खुलासा अब तक हुई कई स्‍टडी में हो चुका है। वहीं हाल में हुई एक स्‍टडी में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। ये नई स्‍टडी कहती है कि कोरोना वायरस मानव मस्तिष्‍क के लिए भी खतरनाक है। सोमवार को प्रकाशित इस स्‍टडी में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि कोरोनावायरस नाक के माध्‍यम से मस्तिष्‍क में प्रवेश कर सकता है।

corona

जर्मनी की चराई-यूनिवर्सिट्समेडिज़िन बर्लिन (Charite-Universitatsmedizin Berlin) द्वारा ये शोध किया गया है। ये शोध कोरोना रोगियों में देखे गए कुछ न्यूरोलॉजिकल लक्षणों की व्याख्या करने में मदद कर सकता है, और संक्रमण को रोकने के लिए निदान और उपायों के बारे में सूचित कर सकता है। बर्लिन के शोधकर्ताओं द्वारा किए गया ये अध्ययन, नेचर न्यूरोसाइंस पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

    Coronavirus India Update: Health Ministry ने Corona Vaccine पर क्या कहा ? | वनइंडिया हिंदी

    Central Nervous System को भी प्रभावित करता है

    अध्ययन के अनुसार कोविड -19 वायरस न केवल श्वसन रास्‍ते (respiratory tract) को प्रभावित करता है, central nervous system (CNS) को भी प्रभावित करता है। इस शोध में पाया गया कि इसमें मरीज को अंततः न्यूरोलॉजिकल लक्षण जैसे कि गंध, स्वाद, सिरदर्द, थकान और मतली आने के लक्षण इससे पहुंचने वाले नुकसान के परिणामस्वरूप होते है।

    COVID-19 पेसेन्‍ट पर किए गए इस शोध में इस बात के प्रमाण बढ़ते जा रहे हैं कि कोरोना वायरस न केवल श्‍वसन प्रक्रिया को प्रभावित करता है, बल्कि CNS को भी प्रभावित करता है, जिसके परिणामस्वरूप एक-तिहाई से अधिक व्यक्तियों में गंध और स्वाद, सिरदर्द, थकान, मतली और उल्टी जैसे तंत्रिका संबंधी लक्षण दिखाई देते हैं।

    ये स्‍पष्‍ठ नहीं कि ये मस्तिष्‍क में कैसे फैलता है

    पीटीआई एजेंसी के अनुसार शोध में मस्तिष्क और मस्तिष्कमेरु द्रव (cerebrospinal fluid) में वायरल आरएनए की उपस्थिति और मस्तिष्कमेरु द्रव की मौजूदगी का वर्णन किया गया है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह वायरस कहां जाता है और मस्तिष्क में कैसे फैलता है।

    वायरल संक्रमण से प्रभावित 33 रोगियों के दिमाग को प्रभावित किया

    शोधकर्ताओं ने nasopharnyx यानी गले के ऊपरी भाग की जांच की, जो नाक गुहा (nasal cavity) से जुड़ता है। वायरल संक्रमण से प्रभावित 33 रोगियों के दिमाग को प्रभावित किया उसमे 22 पुरुष और 11 महिलाएं शामिल थी जिनकी कोरोना वायरस से मृत्यु हो गई थी। मृत्यु के समय की औसत आयु 71.6 वर्ष थी, और कोविड-19 लक्षणों की शुरुआत से मृत्यु तक का समय 31 दिनों के बीच का था।

    ये भी पढ़ें - जानिए कौन सा ऐसा ब्लड ग्रुप है जिसके लोग कम पड़ते हैं बीमार, कोरोना से भी उन्‍हें है कम खतरा

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Can corona virus reach our brain through nose, know what research says
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X