• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में कोरोना मरीज ने की आत्महत्या की कोशिश, बचाया गया

|

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उस समय हड़कंप मच गया जब एक कोरोना वायरस का इलाज करा रहे मरीज ने अस्पताल इमारत से कूदकर खुदकुशी करने की कोशिश की। प्राप्त जानकारी के मुताबिक एक आदमी ने सफदरजंग अस्पताल के तीसरे मंजिल से कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की लेकिन उसे समय रहते बचा लिया गया। मौके पर पहुंचा दमकलकर्मियों ने छत से नीचे उतारा और उसकी जान बचाई। इस घटना से जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

Corona patient attempts suicide at Delhi Safdarjung Hospital rescued

दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले केंद्र और केजरीवाल सरकार की चिंता बढ़ा रहे हैं। इसी बीच सफदरजंग अस्पताल से आई इस खबर से प्रशासन में हड़कंप मच गया। शख्स की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है लेकिन बचाए जाने के दौरान वह बोल रहा था कि वह कोरोना पॉजिटिव है और अगर कोई उसके करीब आया तो वह अपना हाथ काट लेगा। उसे अधिकारियों पर थूकते हुए देखा गया। हालांकि कुछ देर बाद उसे छत से सुरक्षित नीचे उतार लिया गया।

12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

एलएनजेपी अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ ने लगाया ये आरोप

देश में कोरोना वायरस के मामले 16000 के पार पहुंच गए हैं, अस्पतालों में मरीज बढ़ने के साथ मेडिकल टीम पर जिम्मेदारी बढ़ती जा रही है। इसी बीच दिल्ली सरकार के सभी दावों को खारिज करते हुए रविवार को एलएनजेपी अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ ने कई आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि हम अपना कर्तव्य पूरा करने के लिए घर नहीं जा रहे हैं, लेकिन यहां हमें भोजन भी नहीं मिल रहा है। हमारा एक सहयोगी ने ड्यूटी पर रहते हुए बेहोश हो गया क्योंकि हमें उचित भोजन नहीं मिलता है। आवास केंद्र से अस्पताल तक आने के लिए, सभी नर्सों के लिए केवल 1 बस है।

नर्सिंग अधिकारी ने आगे कहा कि हम अभी गुजरात सदन में ठहरे हुए हैं, लेकिन पहले तो हालत और खराब थी। 1 छात्रावास में 17 लड़कियां रहती थीं और केवल दो शौचालय थे, स्नान के लिए हमने जेट पाइप का इस्तेमाल किया क्योंकि बाथरूम नहीं था। उन्होंने आगे कहा, COVID19 नर्सिंग स्टाफ के रूप में तैनात होने के बाद भी हमें 3-4 दिनों के बाद आवास प्रदान किया गया। आवास केंद्र (गुजरात सदन) में कोई स्वच्छता उपायों का पालन नहीं किया जाता है। सदन से निकलने वाला कचरा पड़ा रहता है लेकिन कोई उसे उठाने नहीं आता। कोई अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली भी नहीं है।

पीएम मोदी ने लिंक्डइन पर लोगों की से की चर्चा, बोले- कोरोना ने जिंदगी को बदल कर रख दिया

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Corona patient attempts suicide at Delhi Safdarjung Hospital rescued
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X