• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत से गए बंदर पर चीन ने किया Coronavirus के वैक्सीन का प्रयोग, सफलता का दावा

|

नई दिल्ली- दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप चरम पर है। अब तो भारत में भी मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। लेकिन, चीन में जहां से वायरस की शुरुआत हुई थी वहां मामले थम से गए हैं। वहां सिर्फ 17 केसों के साथ मामले कुल 82,886 तक पहुंचे हैं। इस दौरान चीन ने कोविड-19 से बचाव के लिए एक वैक्सीन बनाने को लेकर बड़ा दावा किया है। चीन की एक दवा बनाने वाली कंपनी ने कहा है कि उसने अपनी वैक्सीन का बंदरों पर बहुत ही सटीक प्रयोग किया है। बड़ी बात ये है कि चीन ने जिस प्रजाति के बंदर पर इसके सफल प्रयोग का दावा किया है वह भारत से ही चीन तक पहुंचा है।

कोरोना वैक्सीन की रेस में ये चार देश आगे, जानिए इनसे जुड़ी अहम बातें

चीन ने भारत से गए बंदरों पर किया कोरोना का टेस्ट

चीन ने भारत से गए बंदरों पर किया कोरोना का टेस्ट

बीजिंग स्थित साइनोवैक बायोटैक ने कोरोना वायरस की वैक्सीन पिकोवैक (PiCoVacc) तैयार की है और पहली बार ऐसा हुआ है कि जानवर पर इसका प्रयोग सफल रहा है। चीन ने इस वैक्सीन का प्रयोग रीसस मकाक नाम की बंदर की एक प्रजाति पर किया है, जो भारत से ही दुनिया भर में गई है। ये जानकारी 6 मई को एक साइंस मैगजीन में प्रकाशित हुई है। चीन का दावा है कि जानवरों पर किया गया नोवल कोरोना वायरस का पहला प्रयोग पूरी तरह से कामयाब रहा है। बता दें कि बंदर पर किए गए इस प्रयोग को दुनिया में क्लीनिकल ट्रायल के बाद पहला सफल प्रयोग माना जा रहा है। जानकारी के मुताबिक साइनोवैक बायोटैक के शोधकर्ताओं ने 11 मरीजों से 11 वायरस निकाल लिए। इन मरीजों में 5 चीन के, तीन इटली के और एक-एक स्वीटजरलैंड, यूके और स्पेन के मरीज शामिल हैं। इस परीक्षण के लिए वैज्ञानिकों ने वायरस को प्रयोग में इस्तेमाल होने वाले बंदरों के शरीर में डाला, ताकि उसका इम्यून सिस्टम खुद से एंटीबॉडी पैदा करे। ये एंटीबॉडी शरीर में मौजूद सामान्य वायरस को भी मार सकता है।

काम कर रही है वैक्सीन- साइनोवैक बायोटैक

काम कर रही है वैक्सीन- साइनोवैक बायोटैक

शोधकर्ताओं ने 8 रीसस मकाक बंदरों को वैक्सीन के दो अलग-अलग डोज दिए। तीन हफ्ते बाद उन्होंने बंदरों के फेफड़ों में नोवल कोरोना वायरस डाल दिया। लेकिन, जिन बंदरों के समूह को वैक्सीन दिया गया था उनमें बहुत ज्यादा इंफेक्शन नहीं दिखाई दिया, जिससे पता चल गया कि वैक्सीन काम कर गया है। जबकि, जिन बंदरों को पहले पिकोवैक वैक्सीन नहीं दी गई थी, उनपर वायरस असर कर गया और गंभीर रूप से न्यूमोनिया से पीड़ित हो गए। आगे की शोध में यह बात सामने आई कि इस वैक्सीन से जो एंटीबॉडी तैयार होता है वह 10 तरह के नोवल कोरोना वायरसों को रोक सकता है। इससे वैज्ञानिकों को उम्मीद जगी है कि यह उन सारे तरह के नोवल कोरोनावायरों को रोकने में सक्षम है जिन्होंने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है।

दुनिया भर में चल रहे हैं क्लीनिकल ट्रायल

दुनिया भर में चल रहे हैं क्लीनिकल ट्रायल

यह रिपोर्ट इंस्टीट्यूट ऑफ लैबोरेटरी एनिमल साइंसेज, चाइनीज एकैडमी ऑफ मेडिकल साइंसेज और पेकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज और साइनोवैक बायोटैक की ओर से साझा तौर पर तैयार की गई है। मौजूदा वक्त में सात देशों में कोविड-19 की वैक्सीन पर क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। इमें चार चीन में, एक अमेरिका में, एक यूनाइटेड किंगडम मे और एक साझा रूप से अमेरिका और जर्मनी में। इसके अलावा इटली और इजरायल में भी वैक्सीन विकसित करने के दावे किए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें- शरीर में मर चुका कोरोना वायरस भी दे रहा है झांसा, नए शोध से हुआ बड़ा खुलासा

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China uses Coronavirus vaccine on monkey originating in India, claims success
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X