• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

छत्तीसगढ़ HC ने दी रेप पीड़िता को अबॉर्शन की अनुमति, जज ने कहा- बच्‍चे को जन्‍म दिया तो जीवन भर दर्द सहना पड़ेगा

|
Google Oneindia News

रायपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने एक ऐसा फैसला सुनाया है जिसकी चर्चा पूरे देश में एक बहस को जन्‍म दे दिया है। शुक्रवार को हाईकोर्ट ने रेप पीडि़ता कर गर्भावस्‍था को चिकित्सकीय रूप से समाप्त करने की अनुमति दे दी है। कोर्ट ने कहा है कि अगर उसे बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर किया जाता है तो पीड़िता को मौजूदा सामाजिक परिदृश्य में आजीवन पीड़ा का सामना करना पड़ेगा। जस्टिस गौतम भादुड़ी की एकल न्यायाधीश पीठ ने कहा कि, ''यह स्पष्ट है कि यदि पीड़िता के साथ बलात्कार किया गया है और उसे मौजूदा सामाजिक परिदृश्य में बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर किया जाता है, तो उसे जीवन भर पीड़ा का सामना करना पड़ेगा।

छत्तीसगढ़ HC ने दी रेप पीड़िता को अबॉर्शन की अनुमति, जज ने कहा- बच्‍चे को जन्‍म दिया तो जीवन भर दर्द सहना पड़ेगा

इस तथ्य के अलावा जो बच्चा पैदा होगा, उसे भी समाज में तिरस्कार का सामना करना पड़ेगा। इन परिस्थितियों के तहत, यह निर्देश दिया जाता है कि याचिकाकर्ता गर्भावस्था की चिकित्सा समाप्ति की हकदार है।'' कोर्ट ने यह फैसला महिला की तरफ से दायर याचिका पर दिया गया है। अपनी याचिका में महिला ने कहा था कि वह बलात्कार के बाद गर्भवती हो गई थी। उसने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट, 1971 के प्रावधानों के तहत गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति मांगी थी। याचिकाकर्ता का कहना था कि अगर उसे बलात्कार के कारण ठहरे गर्भ को जारी रखने के लिए मजबूर किया जाता है, तो उसे पीड़ा होगी और अंततः उसके मानसिक स्वास्थ्य पर गंभीर असर होगा।

आपको बता दें कि बता दें, कि दुर्ग के रहने वाले युवक ने शादी का झांसा देकर एक 25 वर्षीय युवती के साथ दुष्कर्म किया, फिर शादी से मुकर गया। दुष्कर्म के बाद 11 सप्ताह के गर्भ की गर्भपात की अनुमति के लिए पीड़िता ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। हाईकोर्ट ने प्रारंभिक सुनवाई के बाद पीड़िता को मेडिकल टेस्ट के लिए भेजा, और उसे मेडिकल रिपोर्ट पेश करने कहा। आज मेडिकल रिपोर्ट पेश होने के बाद रिपोर्ट के आधार पर हाईकोर्ट ने पीड़िता को एक्सपर्ट डॉक्टरों की निगरानी में गर्भपात कराने की अनुमति दे दी है।

ईमानदारी का इनाम: होमगार्ड बना कांस्टेबल, मोटी रिश्वत ठुकराकर पकड़वाई थी 12 करोड़ की ड्रग्सईमानदारी का इनाम: होमगार्ड बना कांस्टेबल, मोटी रिश्वत ठुकराकर पकड़वाई थी 12 करोड़ की ड्रग्स

English summary
Chhattisgarh HC Allows Termination Of Pregnancy Of Rape Victim, says- She Has To Face Lifetime Anguish If Forced To Give Birth
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X