• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Chhattisgarh: सीएम भूपेश बघेल की पहल 'Narva Vikas Yojana' के तहत हुए कई बड़े काम

|

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर वन क्षेत्रों में भू-जल संरक्षण और संवर्धन के लिए संचालित की जा रही 'नरवा विकास योजना' के तहत वन क्षेत्रों में भू-जल संरक्षण तथा जल-स्त्रोतों, नदी-नालों और तालाबों को पुनर्जीवित करने का कार्य किया जा रहा है। वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने बताया कि कैम्पा मद के अंतर्गत वर्ष 2019-20 में 137 नरवा का चयन कर 160.95 करोड़ रुपये की लागत से 31 वन मण्डल, एक राष्ट्रीय उद्यान, दो टाइगर रिजर्व, एक एलीफेंट रिजर्व, एक सामाजिक वानिकी क्षेत्र में कुल 12 लाख 56 हजार भू-जल संरचनाओं में से 10 लाख 77 हजार संरचनाएं निर्मित की जा चुकी हैं। इस प्रकार 86 प्रतिशत कार्य पूरे कर लिए गए हैं, इससे 3 लाख 12 हजार हेक्टेयर भूमि उपचारित हुई है।

chhattisgarh, chhattisgarh chief minister bhupesh baghel, chhattisgarh chief minister, bhupesh baghel, narva vikas yojana, water reservation work, छत्तीसगढ़, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, भूपेश बघेल, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, नरवा विकास योजना, भू-जल संरक्षण और संवर्धन

मुख्यमंत्री बघेल ने अपने निवास कार्यालय से नरवा विकास योजना के तहत कैम्पा मद के वर्ष 2020-21 के लिए स्वीकृत कार्य में 209 करोड़ रुपये की राशि से बनने वाले भू-जल संरक्षण और संवर्धन से संबंधित संरचनाओं के निर्माण का शुभारंभ किया है। इन कार्यों में कैम्पा मद से प्रदेश के 3 टाइगर रिजर्व, 2 नेशनल पार्क और 1 एलीफेंट रिजर्व के 151 नालों में नरवा विकास के कार्य किए जाएंगे। इनमें से इंद्रावती टाइगर रिजर्व के 58 नालों, गुरू घासीदास नेशनल पार्क के 42 नालों, अचानकमार टाइगर रिजर्व के 28 नालों, कांगेर वेली नेशनल पार्क के 11 नालों, उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व के 10 नालों और तमोरपिंगला एलीफेंट रिजर्व के 2 नालों में जल संवर्धन संरचनाएं निर्मित की जाएंगी।

इन्हें मिलकार 37 वन मण्डल के 1089 नालों में 12 लाख 64 हजार भू-जल संग्रहण संरचनाओं का निर्माण किया जाएगा। इससे 4 लाख 28 हजार 827 हेक्टेयर भूमि उपचारित होगी। कैम्पा मद के बनने वाली इन जल संग्रहण संरचनाओं से वनांचल में रहने वाले लोगों और वन्य प्राणियों के लिए पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित होगी। नाले में पानी का भराव रहने से आसपास की भूमि में नमी बनी रहेगी। इससे खेती-किसानी और आय के स्रोत में वृद्धि होगी। इसी प्रकार वर्ष 2020-21 में नरवा विकास योजना के तहत 209 करोड़ रुपये की लागत से 12 लाख 64 हजार भू-जल संवर्धन संरचनाओं का निर्माण किया जाएगा। कैम्पा मद के तहत वर्ष 2019-20 और 2020-21 में स्वीकृत कार्यों से लगभग 370 करोड़ रुपये की राशि से 25 लाख से अधिक भू-जल संवर्धन संबंधी संरचनाओं का निर्माण होगा।

इससे 313 जल ग्रहण क्षेत्र के एक हजार 995 नालों में स्टॉपडेम, चेकडेम, ग्लीप्लग, डाईक, लूज बोल्डर चेकडेम आदि संरचनाओं से 7 लाख 4 हजार हेक्टेयर क्षेत्र उपचारित होगा। नरवा विकास योजना के तहत वर्ष 2020-21 कैम्पा मद से स्वीकृत कार्यों के संबंध में वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कोरिया वन मण्डल के 70 नालों को 15 करोड़ 83 लाख रुपये की लागत से उपचारित किया जाएगा। इसी प्रकार कवर्धा वनण्डल के 69 नालों को 14 करोड़ 34 लाख रुपये, सूरजपुर वन मण्डल के 61 नालों को 6 करोड़ 10 लाख रुपये, बलरामपुर वन मण्डल के 60 नालों को 10 करोड़ 31 लाख रुपये, मनेन्द्रगढ़ वन मण्डल के 58 नालों को 7 करोड़ रुपये की लागत से, जीजीएसएनपी (सरगुजा) के 42 नालों को 4 करोड़ 10 लाख रुपये की लागत से, जशपुर वन मण्डल के 42 नालों को 7 करोड़ 37 लाख रुपये, इसी प्रकार महासमुन्द वन मण्डल में 42 नालों को 7 करोड़ 77 लाख रुपये की लागत से, बलौदाबाजार वन मण्डल के 47 नालों को 9 करोड़ 82 लाख रुपये, गरियाबंद वन मण्डल के 37 नालों का 5 करोड़ 40 लाख रुपये, उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व के 10 नालों को 1 करोड़ 76 लाख रुपये की राशि से उपचारित किया जाएगा।

नरवा विकास योजना के तहत धमतरी वन मण्डल के 13 नालों को 1 करोड़ 38 लाख रुपये, खैरागढ़ वन मण्डल के 16 नालों को 2 करोड़ 5 लाख रुपये, बालोद वन मण्डल के 17 नालों को 3 करोड़ 70 लाख रुपये, राजनांदगांव वन मण्डल के 29 नालों को 6 करोड़ 97 लाख रुपये, सरगुजा वन मण्डल के 29 नालों को 3 करोड़ 67 लाख रुपये, तमोरपिंगला रिजर्व के 2 नालों को 26 लाख रुपये, रायगढ़ वन मण्डल के 21 नालों को 3 करोड़ 23 लाख रुपये, धरमजयगढ़ वन मण्डल के 14 नालों को 4 करोड़ 50 लाख रुपये की राशि से उपचारित किया जाएगा। इसी तरह जांजगीर-चांपा के 2 नालों को 2 करोड़ 11 लाख रुपये, बिलासपुर वन मण्डल के 8 नालों को 1 करोड़ 90 लाख रुपये, अचानकमार टाइगर रिजर्व के 28 नालों को 8 करोड़ 77 लाख रुपये और मुंगेली वन मण्डल के 14 नालों को 7 करोड़ 96 लाख रुपये की लागत से उपचारित किया जाएगा।

इस योजना में कोरबा वन मण्डल के 22 नालों को 6 करोड़ 50 लाख रुपये, कटघोरा वन मण्डल के 22 नालों को 3 करोड़ 39 लाख रुपये, बस्तर वन मण्डल के 6 नालों को 1 करोड़ 74 लाख रुपये, दंतेवाड़ा वन मण्डल के 14 नालों को 2 करोड़ 74 लाख रुपये, सुकमा वन मण्डल के 10 नालों को 2 करोड़ 50 लाख रुपये, बीजापुर वन मण्डल के 16 नालों को 5 करोड़ 32 लाख रुपये, इंद्रावती टाइगर रिजर्व के 58 नालों को 8 करोड़ 35 लाख रुपये, कांगेर वेली नेशनल पार्क 11 नालों को 1 करोड़ 50 लाख रुपये, दक्षिण कोण्ड़ागांव के 28 नालों को 3 करोड़ 16 लाख रुपये, नारायणपुर वन मण्डल के 24 नालों को 10 करोड़ 72 लाख रुपये, भानुप्रतापपुर पूर्व वन मण्डल के 48 नालों को 9 करोड़ 38 लाख रुपये, पश्चित भानुप्रतापपुर वन मण्डल के 28 नालों को 5 करोड़ 49 लाख रुपये, केशकाल वन मण्डल के 22 नालों को 4 करोड़ 10 लाख रुपये, कांकेर वन मण्डल के 38 नालों को 7 करोड़ 50 लाख रुपये की लागत से उपचारित किया जाएगा।

वन अधिकारों को मान्यता देने में छत्तीसगढ़ बन रहा मिसाल, हुए ये बड़े काम

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
chhattisgarh chief minister bhupesh baghel initiative narva vikas yojana inspirational work
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X