• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, 2011 की जनगणना में जाति से जुड़े आंकड़े किसी काम के नहीं

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 24 सितंबर। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वर्ष 2011 की जनगणना में जो जाति से जुड़े आंकड़े इकट्ठा किए गए थे वो किसी काम के नहीं हैं, इसका किसी भी तरह का आधिकारिक इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसमे काफी खामियां हैं। साथ ही केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वह जाति या पिछड़ी जाति से जुड़े आंकड़े 2022 की जनगणना के दौरान इकट्ठा करने के पक्ष में नहीं है। सरकार की ओर से कहा गया है कि वह सिर्फ एससी और एसटी से जुड़े ही आंकड़े इकट्ठा करने के पक्ष में है।

    Caste Census: Modi Govt. का SC में हलफनामा, नहीं होगी OBC जातियों की गिनती | वनइंडिया हिंदी
    sc

    सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए एफिडेविट में केंद्र ने महाराष्ट्र सरकार की याचिका पर आपत्ति जताते हुए कहा कि 2011 की जनगणना में जाति से आधारित आंकड़े सार्वजनिक नहीं किए जा सकते हैं क्योंकि इसमे काफी गलतिया हैं। बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने 2011 की जनगणना में जाति आधारित आंकड़ों को सार्वजनिक किए जाने की मांग की थी। सरकार की ओर से कहा गया है कि जनगणना के दौरान इकट्ठा किए गए आंकड़ों में खामियां हैं, जाति से जुड़े भरोसेमंद और विश्वसनीय आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं जोकि संवैधानिक या वैधानिक तौर पर आरक्षण, पदोन्नति आदि के लिए इस्तेमाल किए जा सके।

    बता दें कि 2011 में जनगणना यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुआ था। देश में पहली बार जाति आधारित जनगणना कराई गई थी। इससे पहले 1931 इस तरह की जनगणना कराई गई थई। देश में पहली जनगणना की बात करें तो यह 1881 में हुई थी। उसके बाद से हर 10 साल के बाद जनगणना कराई जाती है। इस साल जनगणना को इसलिए टाल दिया गया क्योंकि कोरोना महामारी से पूरा देश लड़ रहा है। माना जा रहा है कि अगले साल फरवरी माह में जनगणना कराई जाएगी।

    इसे भी पढ़ें- जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा से मिले पीएम मोदी, 5जी के विस्तार पर हुई चर्चाइसे भी पढ़ें- जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा से मिले पीएम मोदी, 5जी के विस्तार पर हुई चर्चा

    गौरतलब है कि जाति आधारित जनगणना की मांग को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में 11 सदस्यी नेताओं के दल ने पीएम मोदी से मुलाकात की थी। इनमे सभी नेताओं ने मांग की कि जाति आधारित जनगणना में ओबीसी से जुड़े आंकड़ों को इकट्ठा किया जाए। वहीं केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने जुलाई माह में लोकसभा में एक लिखित सवाल के जवाब में कहा था कि हम एससी और एसटी से जुड़े आंकड़ों के अलावा अन्य जातियों से जुड़े आंकड़ों को इकट्ठा करने के पक्ष में नहीं हैं और यह हमारी पॉलिसी का हिस्सा नहीं है।

    English summary
    Centre tell SC that caste census data of 2011 are unusable.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X