• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फोन पर आए इस SMS को खोलते ही आपके खाते से उड़ जाएंगे पैसे, CBI ने जारी किया अलर्ट

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वजह से लोग इन दिनों घरों में कैद हैं। सरकार लोगों को लगातार SMS के जरिए कोरोना की जानकारी उपलब्ध करवा रही है। इस दौरान हैकर्स भी काफी सक्रिय हैं। जो कोरोना की आड़ में लोगों को हैकिंग सॉफ्टवेयर का लिंक भेजकर उनका डाटा चुरा रहे हैं। अब सीबीआई ने इंटरपोल की सूचना पर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इस हैकिंग सॉफ्टवेयर को लेकर अलर्ट जारी किया है। साथ ही किसी भी अनजान मैसेज में भेजे गए लिंक को नहीं खोलने की सलाह दी है।

    CBI ने राज्यों को जारी किया अलर्ट, फोन पर आए इस SMS लग सकती है चपत | वनइंडिया हिंदी
    क्या है ये सॉफ्टवेयर?

    क्या है ये सॉफ्टवेयर?

    सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन ने जिस सॉफ्टवेयर को लेकर अलर्ट जारी किया है, उसका नाम है सरबेरस। इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल हैकर लोगों की निजी जानकारी जैसे बैंक डिटेल और डाटा चुराने में करते हैं। इस सॉफ्टवेयर की खास बात ये है कि यूजर का डाटा चोरी हो जाता है और उसे पता तक नहीं चलता है। मौजूदा वक्त में कोरोना महामारी की जानकारी देने के बहाने हैकर इसके लिंक लोगों को भेज रहे हैं। जैसे ही लोग कोरोना के बारे में जानकारी लेने के लिए मैसेज में दिए लिंक को खोलते हैं, वैसे ही वो हैकर के जाल में फंस जाते हैं।

    ये है हैकिंग का तरीका

    ये है हैकिंग का तरीका

    सीबीआई के मुताबिक हैकर सबसे पहले कोरोना से जुड़ा एक मैसेज भेजेंगे। इस मैसेज में एक सॉफ्टवेयर का लिंक रहेगा। मोडस ओपेरंडी के तहत भेजे गए इस SMS पर क्लिक करते ही आपके फोन में ये सॉफ्टवेयर अपने आप इंस्टाल हो जाएगा। जिसके बाद ये सॉफ्टवेयर आपकी सारी निजी जानकारी को कॉपी कर उसे हैकर को ट्रांसफर कर देगा, जिसके बाद हैकर आपके अकाउंट डिटेल या पर्सनल जानकारी का गलत इस्तेमाल कर सकता है। सीबीआई ने अपने अलर्ट में किसी भी अंजान व्यक्ति और कंपनी द्वारा भेजे गए मैसेज पर कोई रिस्पांस नहीं करने की अपील की है।

    यह भी पढ़ें: देश में अब इन लोगों की तुरंत होगी कोरोना जांच, ICMR ने जारी की नई गाइडलाइनयह भी पढ़ें: देश में अब इन लोगों की तुरंत होगी कोरोना जांच, ICMR ने जारी की नई गाइडलाइन

    हैकिंग से कैसे बचें?

    हैकिंग से कैसे बचें?

    • सिर्फ सुरक्षित प्लेटफार्म से ही किसी भी ऐप को डाउनलोड करें।
    • इंस्टाल करते वक्त टर्म एंड कंडीशन को अच्छी तरह से पढ़ लें।
    • किसी भी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन को करते वक्त वेबसाइट अच्छी तरह से चेक करें। अगर वेबसाइट https से शुरू है, तो इसका मतलब वो सुरक्षित है।
    • सिर्फ अपनी पहचान के व्यक्ति या कंपनी द्वारा भेजे गए मैसेज को ही खोलें। इस दौरान अगर उसमें कोई लिंक दिया है तो बिना उसके बारे में जाने उस पर क्लिक ना करें।
    • कभी भी अपनी बैंकिंग डिटेल फोन या मैसेज के जरिए किसी से शेयर ना करें। कोई भी बैंक ग्राहकों से फोन पर अकाउंट, एटीएम, क्रेडिट कार्ड की डिटेल नहीं मांगता है।
    कुछ दिन पहले SBI ने किया था अलर्ट

    कुछ दिन पहले SBI ने किया था अलर्ट

    कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच फ्रॉड के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं। कुछ दिन पहले SBI ने अपने खाताधारकों को अलर्ट किया था। बैंक ने खाताधारकों को सचेत करते हुए कहा है कि अगर ग्राहकों को आयकर विभाग से कोई भी संदेश प्राप्त हुआ है, जिसमें इनकम टैक्स रिफंड को लेकर किसी प्रोसेस की बात कही है। तो उस मैसेज को आप ना खोलें। इस मैसेज के जरिए हैकर्स आपके अकाउंट की डिटेल चुराकर आपके खाते से पैसा उड़ा सकते हैं।

    English summary
    cbi alert on hacking software Cerberus during lockdown
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X