• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सावधान! खतरे में आया 70 लाख BHIM ऐप यूजर्स का पर्सनल डेटा, जानिए क्या है मामला?

|

नई दिल्ली। भारत सरकार द्वारा लांच किए गए मोबाइल पेमेंट ऐप भीम का डेटा लीक होने की सूचना है। इजरायल की साइबर सिक्‍योरिटी वेबसाइट वीपीएनमेंटर ने रिपोर्ट दी है कि इससे भीम ऐप डेटा लीक होने से 70 लाख से ज्‍यादा लोगों की पर्सनल डेटा के दुरुपयोग का खतरा है। कंपनी के मुताबिक करीब 409 जीबी डेटा लीक हुआ है, जिसमें आधार कार्ड, जाति प्रमाणपत्र, निवास का प्रमाण, बैंक रिकॉर्ड के साथ लोगों के पूरे प्रोफाइल की जानकारी शामिल है।

    Bhim App Data Leak : 70 Lakh users का Data leak होने का दावा , जरुर देखें ये Video | वनइंडिया हिंदी

    bhim

    वीपीएनमेंटर के अनुसार डेटा लीक की शिकार हुए भीम वेबसाइट का इस्‍तेमाल एक कैंपेन के लिए किया जा रहा था। इसमें बिजनेस मर्चेंट और यूजरों को ऐप से जोड़ा जा रहा था, जिसमें से कुछ संबंधित डेटा गलत तरह से बनकर अमेजन वेब सर्विस एस3 बकेट में स्‍टोर हो रहा था और यह डेटा सभी की पहुंच में था। बताया जाता है कि एस3 बकेट में फरवरी 2019 से रिकॉर्ड जमा हो रहे थे।

    bhim

    BHIM 2.0 नई सुविधाओं के साथ हुआ लॉन्च, अब आसानी से कर सकेंगे ये 6 काम

    आसान शब्‍दों में कहें तो एस3 बकेट स्‍लाउड स्‍टोरेज का एक प्रकार हैं, लेकिन इन्‍हें अपने अकाउंट में सिक्‍योरिटी प्रोटोकॉल को सेट-अप करने के लिए डेवलपर की जरूरत होती है। साइबर सिक्‍योरिटी फर्म ने कहा कि डेटा लीक होने का पैमाना काफी बड़ा है, जिसका भारत में रहने वाले लाखों लोगों पर असर पड़ सकता है। कंपनी के मुताबिक इसने हैकर और साइबर अपराधियों के लिए फ्रॉड, चोरी और हमले का खतरा पैदा कर दिया है।

    bhim

    नए साल पर SBI ने दिया तोहफा, बिना कार्ड के Aadhaar के जरिए करें पेमेंट, जानिए BHIM-Aadhaar-SBI App के बारे में

    वीपीएनमेंटर में साइबर सिक्‍योरिटी के रिसर्चर नोआम रोटेम और राम लोकार ने बताया कि यह डेटा लीक काफी चिंताजनक है। यूपीआई आईडी, डॉक्‍यूमेंट के साथ इसका वॉल्‍यूम काफी बड़ा है। हैकरों के लिए भीम यूजर डेटा का एक्‍सपोजर बैंक के डेटा इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर जितना बड़ा है, जिसने इसके लाखों यूजरों के खाते की जानकारी को एक्‍सपोज कर दिया है।

    bhim

    Remove China Apps: क्या आपके फोन में है चाइनीज माल, खोजकर डिलीट कर देगा ये ऐप

    गौरतलब है भीम वेबसाइट को भारत सरकार के साथ सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज ने विकसित किया है। भीम ऐप को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने 2016 में लॉन्‍च किया था और फरवरी 2020 तक इस एप से 1.84 करोड़ ट्रांजेक्‍शन हुए थे। बताया जाता है कि यह खामी अप्रैल में रिपोर्ट की गई थी, जिसे बीते महीने ठीक किया गया है।

    डेटिंग ऐप पर लड़कियों की निजी तस्वीरें लेकर करते थे ब्लैकमेल, कॉल रिकॉर्ड ने खोल दी पोल

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The mobile payment app Bhima, launched by the Government of India, is reported to have leaked data. Israel's cyber security website VPNMenter reports that more than seven million people are at risk of misuse of personal data due to the leak of BHIM app data. According to the company, about 409 GB of data has been leaked, which includes information of Aadhar card, caste certificate, proof of residence, bank records and complete profile of people.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more