• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

RJD नेता तेजस्वी यादव समेत 18 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, किसानों के समर्थन में दिया था धरना

|

पटना। राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव के नेतृत्व में विपक्षी पार्टियों ने शनिवार को पटना के गांधी मैदान में नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया। तेजस्वी यादव ने गांधी मैदान में किसान आंदोलन के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया। कोरोना काल में विरोध प्रदर्शन करने आरोप में तेजस्वी यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। आरोप है कि कोविड-19 महामारी के दौरान ये लोग बिना इजाजत के गांधी मैदान के बाहर किसानों के मुद्दे को लेकर धरना प्रदर्शन कर रहे थे।

Case registered against Tejashwi Yadav & 18 others for holding a protest without permission against Farm Laws
    Farmers Protest: Nitish Government ने रोका किसानों के समर्थन में RJD के धरना | वनइंडिया हिंदी

    तेजस्वी के नेतृत्व में आरजेडी और कांग्रेस के नेता आज सुबह गांधी मैदान के गेट नंबर 4 पर किसानों के मुद्दे को लेकर धरने पर बैठ गए। इस दौरान सभी प्रदर्शनकारियों को बार-बार प्रशासन के लोगों ने समझाया और वहां से हटने की गुजारिश की मगर इसके बावजूद भी कोई भी वहां से हटने को तैयार नहीं हुआ। तेजस्वी यादव और कांग्रेस नेता मदन मोहन झा समेत 18 अन्य लोगों के साथ-साथ 500 लोगों के खिलाफ बिना अनुमति धरना-प्रदर्शन करने का मामला दर्ज किया गया।

    मजिस्ट्रेट सह श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी राजीव दत्त वर्मा ने एफआईआर दर्ज कराई है। इसमें तेजस्वी यादव, विधायक आलोक मेहता, रामानंद यादव, पूर्व मंत्री श्याम रजक, रमई राम, पूर्व विधायक शक्ति सिंह, मृत्युंजय तिवारी, अनिल कुमार, रामबली यादव, सुबोध कुमार यादव, उर्मिला ठाकुर, अनिता देवी, कांग्रेस नेता मदन मोहन झा, अनिल शर्मा, केडी यादव, चंदेश्वर सिंह, रामनरेश पांडेय सहित 500 कार्यकर्ताओं को आरोपी बनाया गया है।आईपीसी और महामारी रोग अधिनियम की कई धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई।

    कृषि कानून 2020 के विरोध में पटना के गांधी मैदान पहुंचे तेजस्वी यादव ने कहा कि आज हम लोग यहां बापू के सामने संकल्प लेंगे कि किसानों के संघर्षों के साथ हम लोग मजबूती के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि एमएसपी की जहां तक बात है तो किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलना चाहिए. सरकार की तरफ से एमएसपी का जिक्र ना होने का मतलब है कि कृषि क्षेत्रे निजी हाथों में बेचा जा रहा है और इसकी निजीकरण किया जा रहा है।

    FarmersProtest: बैठक के दौरान ही किसानों ने किया मौन अनशन, आधे घंटे तक खाली बैठे रहे वार्ताकार

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Case registered against Tejashwi Yadav & 18 others for holding a protest without permission against Farm Laws
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X