• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या ठंडे पानी से भी जल सकता है बदन, इस लड़की के लिए तेजाब जितना घातक है पानी?

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। इंसान को होने वाली कई अजीबोगरीब बीमारियों और साइड इफैक्ट्स के बारे में आपने खूब सुना होगा, जो हैरान कर देती है, लेकिन अमेरिकी में एक की 12 वर्षीय लड़की को सामान्य पानी से एलर्जी है, जो उसके बदन पर तेजाब की तरह प्रतिक्रिया करता है। इस दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त डेनियल मैक क्रेवेन नामक 12 वर्षीय किशोरी अमेरिका के लुसिआना प्रांत की है, जिससे उसका जीना दुश्वार हो गया है। यह बीमारी कितना घातक इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि किशोरी को आंखों से निकलने वाले आंसुओं से भी एलर्जी होती है।

water

इधर कृषि कानून पर किसान कर रहे हैं आंदोलन और उधर गेहूं के खिलाफ चल रहा है अभियानइधर कृषि कानून पर किसान कर रहे हैं आंदोलन और उधर गेहूं के खिलाफ चल रहा है अभियान

डेनियल को पानी से एलर्ज है और एक बूंद पानी भी उसे झिझोंड़ देता है

डेनियल को पानी से एलर्ज है और एक बूंद पानी भी उसे झिझोंड़ देता है

रिपोर्ट के मुताबिक डेनियल को पानी से एलर्ज है और उसके बदन पर पड़ने वाला एक बूंद पानी भी उसको झिझोंड़ कर रख देता है, क्योंकि पानी उसके शरीर को छूता होता है, डेनियल को तेजाब गिरने से जैसी प्रतिक्रिया होती है, वैसा ही अनुभव डेनियल को करना पड़ता है। कहा जाता है कि डेनियल का एक बंदू पानी भी उसके लिए जानलेवा हो सकता है, जिससे उसके शरीर में फफोले पड़ जाते है। यानी डेनियल की त्वचा पर गिरने वाला पानी का बूंद तेजाब के जैसा प्रतिक्रिया करता है, जिससे किशोरी को भंयकर दर्द से गुजरना पड़ता है।

डेनियल की इस अजीबोगरीब बीमारी से उसका परिवार हैरान-परेशान है

डेनियल की इस अजीबोगरीब बीमारी से उसका परिवार हैरान-परेशान है

डेनियल की इस अजीबोगरीब बीमारी से उसका परिवार हैरान-परेशान है। कहा जाता है कि पानी की एलर्जी इतनी खतरनाक है कि इससे डेनियल की जान को भी खतरा है। यही कारण है कि डेनियल को नहाना-धोना भी दूभर हो चला है। शुक्र है कि डेनियल अमेरिका में रहती है, लेकिन अगर अफ्रीकी महाद्वीप में डेनियल होती तो कल्पना किया जा सकता है कि उसका क्या हाल होता। उसकी हालत गर्म देशों में और गंभीर इसलिए हो सकती थी, क्योंकि डेनियल को खुद के पसीने से भी समान तकलीफ होती है।

डेनियल को उसके आंसुओं और अपने पसीने से भी एलर्जी होती है

डेनियल को उसके आंसुओं और अपने पसीने से भी एलर्जी होती है

बताया जाता है कि डेनियल को खुद के आंसुओं और पसीने से होने वाली एलर्जी से बचाने के लिए गर्मियों के दिनों में उसे पूरा दिन घर के अंदर बिताना पड़ता है, क्योंकि अगर उसके शरीर से पसीने निकले तो बिना पानी छूए ही उसकी हालत बदतर हो सकती है। कल्पना कीजिए कि 12 वर्षीय एक किशोरी, जो दूसरे किशोरों की तरह उछल-कूद और मौज-मस्ती नहीं कर पाती है, उसकी रोज की जिंदगी कितनी मुश्किल से बीतती होगी।

अजीबोगरीब बीमारी से ग्रस्त डेनियल को स्वीमिंग करना पसंद है

अजीबोगरीब बीमारी से ग्रस्त डेनियल को स्वीमिंग करना पसंद है

रिपोर्ट कहती है कि अजीबोगरीब बीमारी से ग्रस्त डेनियल को स्वीमिंग करना पसंद है, लेकिन वो पानी में नहीं जा सकती है, क्योंकि डर है कि ऐसा करने से उसका पूरा बदन जलकर खाक हो सकता है, उसके पूरे शऱीर में फफोले निकल आएंगे। इसलिए डेनियल पानी को देखकर ही घबराती है, पानी में घुसकर स्वीमिंग की बात ही दूर है। डेनियल को जिमनास्टिक का शौक है, लेकिन पसीना निकलने की डर से डेनियल इस शौक से भी दूर रहती है। बेटी की इस हालत से डेनियल की मां कितनी दुखी रहती होगी, इसकी महज कल्पना ही की जा सकती है।

डेनियल एक्वाजेनिक यूर्टिसेरिया नामक बेहद खतरनाक बीमारी से ग्रसित है

डेनियल एक्वाजेनिक यूर्टिसेरिया नामक बेहद खतरनाक बीमारी से ग्रसित है

विशेषज्ञों के मुताबिक किशोरी डेनियल एक्वाजेनिक यूर्टिसेरिया नामक बेहद खतरनाक बीमारी से ग्रसित है, जो कि बेहद दुर्लभ बीमारी है और कहा जाता है कि यह बीमारी दुनियाभर में करीब 100 लोगों में ही पाई गई है। विशेषज्ञों के मुताबिक इस बीमारी से परेशान लोगों को पानी से एलर्जी की वजह से एनॉपायलेक्टिक शॉक भी लग सकता है। यह शॉक तब लगता है जब एलर्जी के सोर्स की मात्रा काफी अधिक होती है। कहा जाता है कि इस बीमारी से ग्रसित मरीज अगर एक बाल्टी पानी से नहा ले, तो उसकी जान भी जा सकती है।

ईवी भी एक दुर्लभ त्वचा रोग है, यह इंसान के शरीर में कहीं भी हो सकता है

ईवी भी एक दुर्लभ त्वचा रोग है, यह इंसान के शरीर में कहीं भी हो सकता है

गौरतलब है दुनिया में एक्वाजेनिक यूर्टिसेरिया जैसी कई दुर्लब और अजीबोगरीब बीमारियां है। इनमें ईवी (Epidermodysplasia verruciformis) प्रमुख है, जो एक दुर्लभ त्वचा रोग है। इससे ग्रसित इंसान के शरीर में कहीं भी हो सकता है। यह एक लाइलाज बीमाारी है, जो एचपीवी नामक वायरस के इंफेक्शन से शरीर में पनपता है और तस्वीर में दिख रहे पीड़ित इंसान की हालत देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है, यह कितना दुखदायी बीमारी है।

वेयरवोल्ड सिंड्रोम भी ऐसी ही एक दुर्लभ बीमारी है, त्वचा अकड़ जाती है

वेयरवोल्ड सिंड्रोम भी ऐसी ही एक दुर्लभ बीमारी है, त्वचा अकड़ जाती है

वेयरवोल्ड सिंड्रोम भी ऐसी ही एक दुर्लभ बीमारी है, जिससे ग्रसित इंसान के बाल, चेहरा और त्वचा अकड़ जाती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक इंसानों में पाई जाने वाली इस अजीबोगरीब बीमारी एक तरह का डिस्आर्डर है। इस सिंड्रोम चलते इंसान की शक्ल डरावनी हो जाती है, जो भेड़िए जैसे बदसूरत जानवर की तरह हो जाती है। यह बीमारी भी लाइलाज बीमारी होती है और ग्रसित इंसान को पूरी जिंदगी ऐसी ही बितानी पड़ती है।

दुर्लभ बीमारी एलीन हैंड सिंड्रोम में इंसान के अंगों में ऐंठन आ जाती है

दुर्लभ बीमारी एलीन हैंड सिंड्रोम में इंसान के अंगों में ऐंठन आ जाती है

एलीन हैंड सिंड्रोम भी एक दुर्लभ बीमारी है। इस अजीबोगरीब बीमारी से ग्रसित इंसान के शरीर के विभिन्न अंगों में ऐंठन आ जाती है और उनकी हरकतों में नियंत्रण नहीं रह जाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक इस बीमारी से ग्रसित इंसानों का हाथ का मूवमेंट मस्तिष्क के नियंत्रण से बाहर हो जाता है। यानी यह सिंड्रोम इंसान की स्नायु तंत्र पर हमला करता है, जिससे मस्तिष्क के संकेतक पीड़ित हाथ तक नहीं पहुंच पाते हैं, जिससे पीड़ित का हाथ का मूवमेंट बेतरतीब हो जात है।

प्रोटियास सिंड्रोम नामक दुर्लभी रोग से हड्डियां का विकास रुक जाता है

प्रोटियास सिंड्रोम नामक दुर्लभी रोग से हड्डियां का विकास रुक जाता है

ऐसी ही एक और दुर्लभ बीमारी है, जिसका नाम प्रोटियास सिंड्रोम। यह अजीबोगरीब बीमारी से ग्रसित इंसान के हड्डियों को का असमान्य विकास होता है, जिससे पीड़ित इंसान के शरीर का दाहिना और बांया हिस्सा प्रभावित होता है। यही नहीं, इससे पीड़ित इंसान के ऊतक और अन्य विशेष अंग बुरी तरह से प्रभावित हो जाते हैं।

दुर्लभ बीमारी लिंफेटिक फिलायरिसस से ग्रसित के पैर सूज जाते हैं

दुर्लभ बीमारी लिंफेटिक फिलायरिसस से ग्रसित के पैर सूज जाते हैं

वहीं, इंसानों में पाई जाने वाली एक और दुर्लभ बीमारी में लिंफेटिक फिलायरिसस भी शुमार है, जिसकी चपेट में आने वाले इंसान को पहले एहसास नहीं हो पाता है कि वह इस बीमारी की चपेट में हैं, क्योंकि इसके लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, लेकिन धीरे-धीरे इसके लक्षण जननांगों और पैरों में सूजन आने के साथ दिखाई पड़ने लगते हैं। जननांगों और पैरों में उक्त सूजन लिंफेटिक फिलायरिसस सिंड्रोम की वजह होती है।

English summary
You may have heard a lot about the many strange diseases and side effects that occur to humans, which is astonishing, but in American, a 12-year-old girl is allergic to normal water, which reacts to her body like acid. Daniel Mac Craven, a 12-year-old teenager suffering from this rare disease, is from the Louisiana province of the United States, making his life difficult. This disease can be gauged by how deadly it is that the teenager is allergic to tears coming out of his eyes.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X