• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना को मात देने के बाद उसी अस्पताल में झाड़ू लगाने लगा बिजनेसमैन

|

पुणे। कोरोना वायरस का जो भी व्‍यक्ति शिकार हो रहा है वो ठीक होने पर अस्‍पताल से छुट्टी पाते ही स्‍वयं को भाग्यशाली समझता है और डर के कारण दोबारा अस्‍पताल की मुड़कर देखना भी नहीं चाहता। वहीं पुणे के एक बिजनेसमैन ऐसे भी हैं जो कोरोना को मात देने के बाद कोरोना मरीजों की सेवा करने की ठानी और उसी अस्‍पताल में वार्डबॉय की नौकरी ज्‍वाइन कर ली। अपने बिजनेस से हर माह हजारों रुपये कमाने वाले 35 वर्षीय सुभाष बाबन गायकवाड़ अस्‍पताल में हर दिन झाड़ू लगाने और साफ-सफाई करने के अलावा कोरोना मरीजों का ख्‍याल भी अपनों की तरह रख रहे हैं।

उसी अस्‍पताल में इसलिए लिए बिजनेसमैन ने ज्‍वाइन की ये जॉब

उसी अस्‍पताल में इसलिए लिए बिजनेसमैन ने ज्‍वाइन की ये जॉब

35 वर्षीय सुभाष बाबन गायकवाड़ ने बताया कि कोरोना से ठीक होने के बाद अखबार में मैंने वार्डबॉय की नौकरी के लिए एक विज्ञापन देखा। "मैं तुरंत पुणे के भोसारी अस्पताल गया और वो नौकरी ज्‍वाइन करने के लिए आवेदन दिया और मुझे अगले दिन ही काम पर रख लिया गया। उन्‍होंने कहा कि मुझे भगवान ने स्‍वस्‍थ्‍य करके दूसरा जीवन दिया और मैं अब कोरोना मरीजों की सेवा करना चाहता हूं।

रिया चक्रवर्ती ने कहा- केवल सुशांत ही करते थे ड्रग का सेवन, हमारा उन्‍होंने किया इस्‍तेमाल

हर महीने इतने रुपए कमाते थे गायकवाड़

हर महीने इतने रुपए कमाते थे गायकवाड़

कुछ महीने पहले तक, एक सुरक्षा एजेंसी में बिजनेस पार्टनर के रूप में काम करने वाले सुभाष बाबन गायकवाड़ प्रति माह लगभग 60,000 रुपये कमाते थे। डेढ़ महीने पहले भोसरी अस्पताल में भर्ती होने से पहले, गायकवाड़ मुंबई की सुरक्षा एजेंसी में एक पार्टन थे, और उनके पास 250 कर्मचारियों की एक टीम थी। अब, वह अस्पताल के वार्डबॉय के रूप में काम करते हुए सिर्फ 16,000 रुपये का वेतन कमा रहे हैं और इसी से अपना गुजारा चला रहे हैं। वह हर दिन पुणे के इस अस्पताल में आते हैं और वार्डबॉय के रूप में अपनी सारी जिम्‍मेदारियां निभा रहे है। मुझे कम वेतन पर ऐतराज नहीं था ... मेरा इरादा मानवता की सेवा करना है, ऐसे मरीज जो बुरे दौर से गुजर रहे हैं। "

 'गायकवाड़ की जमकर हो रही प्रशंसा

'गायकवाड़ की जमकर हो रही प्रशंसा

अस्‍पालाल में आने वाला हर व्‍यक्ति इन्‍हें झाड़ू लगाते और कोरोना मरीजों की सेवा करते देख अचंभित हो जाता है। सबका ध्यान आकर्षित करने के साथ थी वह कोरोना मरीजों की सेवा और काम के लिए प्रशंसा भी बटोर रहे है। उन्‍होंने हजारों की कमाई वाला काम छोड़कर ये नौकरी क्यों ज्‍वाइन की इसके जवाब में उन्‍होंने कहा कि "मैं अपने जीवन में एक बड़े डर से बच गया हूं। अगर आप दुनिया में जीवित हीं नहीं हैं तो पैसे का मतलब कुछ भी नहीं है। भगवान ने मुझे एक और अवसर दिया है ... अस्‍पताल के लोगों ने मुझे एक नया जीवन दिया है और मैं इसे मरीजों की सेवा में बिताना चाहता हूं। 'गायकवाड़ की पत्नी सविता पीसीएमसी द्वारा संचालित पुणे के भोसारी अस्पताल में नर्स हैं।

गायकवाड़ को मिला नया जीवन

गायकवाड़ को मिला नया जीवन

पिंपरी-चिंचवाड़ के इंद्रायणी नगर क्षेत्र में स्पाइन रोड के निवासी, गायकवाड़ ने जून माह में कोरोना की चपेट में आए थे। उन्‍होंने बताया कि "मैंने वाईसीएमएच के आईसीयू में पांच दिन बिताए। गायकवाड़ कहते हैं, "मैं इतना डर ​​गया था कि मैंने अपनी पत्नी को एक संदेश भेजा, जिसमें मुझे नहीं लगा कि मैं बचूंगा।"वह पांच दिनों के बाद ठीक हो गए और उसे पांच दिनों के लिए सामान्य वार्ड में ले जाया गया। "मेरी पत्नी मेरा सबसे बड़ा सहारा थी। सकारात्मक परीक्षण से पहले, गायकवाड़ कहते हैं कि उन्हें लगभग 13 दिनों तक बुखार था। "मुझे बुखार था और शरीर में दर्द भी। मैंने दो-तीन दिनों के लिए ओवर-द-काउंटर गोलियां लीं। लेकिन बुखार बना रहा। "मुझे YCM अस्पताल के सामान्य वार्ड में दो दिन और फिर ICU में पांच दिन भर्ती रखा गया। फिर मुझे आईसीयू से बाहर ले जाया गया।

पहले ही दिन, उन्हें फर्श को साफ करने के लिए कहा गया था

पहले ही दिन, उन्हें फर्श को साफ करने के लिए कहा गया था

गायकवाड़ ने बताया कि नौकरी के पहले ही दिन, उन्हें फर्श को साफ करने के लिए कहा गया था जहाँ मरीजों का अस्पताल में कोरोनावायरस के लिए परीक्षण किया जाता है। "मैंने इसे पूरी ईमानदारी से किया। मैंने उस विभाग में एक महीने तक काम किया, अब मुझे दूसरे विभाग में स्थानांतरित कर दिया गया है। मुझसे जो भी पूछा जाता है ... फर्श को साफ़ करना, फाइलों को साफ करना, कचरा साफ करना समेत अन्‍य काम शामिल हैं।

पीसीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त ने बोली ये बात

पीसीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त ने बोली ये बात

पीसीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त संतोष पाटिल ने कहा, "गायकवाड़ का उद्देश्य सामाजिक कार्य करना है विशेष रूप से कोरोनावायरस रोगियों की सेवा करना क्योंकि वह इसके कारण खुद बुरे दौर से गुजर चुके हैं, और वह अपना काम ईमानदारी, समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ कर रहे है। भोसारी अस्पताल की वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ शैलेजा भावसार कहती हैं, "गायकवाड़ तब बुरी हालत में थे जब उन्होंने सकारात्मक परीक्षण किया और फिर उनकी स्थिति गंभीर हो गई... ठीक होने के बाद, उन्होंने वार्डबॉय के रूप में अपनी योग्यता के आधार पर चयन किया। वह बीए पास हैं। "

ड्रग्स केस में नाम आने पर भड़की दीया मिर्जा बोलीं- मेहनत से बनाए मेरे करियर को पहुंच रहा नुकसान

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Businessman started sweeping in the same hospital after beating Corona
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X