• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बॉम्बे हाई कोर्ट ने महिला को दी 23 सप्‍ताह के भ्रूण का गर्भपात कराने की इजाजत, जानिए वजह

|

मुंबई। बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक महिला को 23 सप्ताह की गर्भावस्था में गर्भपात कराने की इजाजत दी है। मालूम हो कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी (एमटीपी) अधिनियम के तहत 20 सप्ताह से अधिक की गर्भावस्था को समाप्त करने पर रोक है। आइए जानते हैं आखिर इस महिला को कोर्ट ने आखिर ये इजाजत क्यों दे दी।

    Bombay Highcourt ने 23 हफ्ते की गर्भवती महिला को दी गर्भपात की इजाजत,जानिए क्यों | वनइंडिया हिंदी

    mumbaihc

    बता दें मुंबई की अविवाहित 23 वर्षीय महिला ने 23 सप्‍ताह से अधिक की गर्भवती है जिसने कोर्ट से गर्भपात कराने की इजाजत मांगी थी। युवती ने कोर्ट में अपील की थी कि इस बच्‍चे को जन्‍म देने से उसे मानसिक और शारीरिक पीड़ा होगी और इससे उसके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर होगा। उसे गर्भावस्था पूरी करने और बच्चे को पालने में शारीरिक पीड़ा होगी।

    mumbai
    उसने कोर्ट मे कहा था कि कोरोनावायरस में लागू किए लॉकडाउन के कारण वह डॉक्‍टर से परामर्श सही समय पर नहीं कर सकती थी। इस मामले पर सुन‍वाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस एसजे कथावाला और सुरेंद्र तावड़े की पीठ ने मंगलवार को एक आदेश में यह भी ध्यान दिया कि महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले की निवासी 23 वर्षीय महिला, गर्भपात 20 सप्ताह की सीमित सीमा के भीतर लॉकडाउन के कारण करवा पाने में विफल रही । वह कोरोनोवायरस-लागू लॉकडाउन के कारण समय में एक डॉक्टर से परामर्श नहीं कर सकती थी। पीठ ने उसे शुक्रवार तक अपनी पसंद की चिकित्सा सुविधा में प्रक्रिया से गुजरने की अनुमति दी। कोर्ट ने 23 सप्ताह की गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए अविवाहित महिला को अनुमति देने का आदेश सुनाया

    mumbai

    गौरतलब है कि 29 मई को, महिला की याचिका के बाद, उच्च न्यायालय की एक अन्य पीठ ने रत्नागिरी के सिविल अस्पताल में एक मेडिकल बोर्ड को 23 सप्‍ताह के गर्भपात करवाने से स्वास्थ्य जोखिम के लिए उसका मूल्यांकन करने का निर्देश दिया, यदि वह चिकित्सा समाप्ति प्रक्रिया से गुजरती थी। पिछले सप्ताह दायर याचिका के अनुसार, महिला 23 सप्ताह से अधिक गर्भवती है।
    अपनी याचिका में, महिला ने कहा कि गर्भावस्था एक रूढ़िवादी संबंध का परिणाम है, वह इसे अविवाहित होने के कारण नहीं रख सकती वह बच्‍चे को जन्म देने से वह "सामाजिक कलंक" का कारण बनेगी। महिला ने दलील में कहा कि वह "अविवाहित एकल माता-पिता के रूप में बच्चे को संभालने में सक्षम नहीं होगी"।

    संक्रमित गर्भवती महिलाओं के गर्भनाल पर कोरोना कर रहा अटैक, शोध में हुआ ये बड़ा खुलासासंक्रमित गर्भवती महिलाओं के गर्भनाल पर कोरोना कर रहा अटैक, शोध में हुआ ये बड़ा खुलासा

    Nisarga Severe Cyclonic Storm Visual From Mumbai

    English summary
    Bombay HC permits woman to terminate 23-week pregnancy
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X